अभिभावकों ने शिक्षिकाओं को पीटा, दो थाना प्रभारी समेत 10 घायल

कोलकाता : नर्सरी की छात्रा से यौन शोषण की घटना को केन्द्र कर मंगलवार की सुबह ढाकुरिया का विनोदिनी गर्ल्स स्कूल रणक्षेत्र में तब्दील हो गया। आरोप है कि बच्ची के परिजनों ने अन्य अभिभावकों के साथ मिलकर स्कूल में जमकर तोड़फोड़ की । साथ ही स्कूल की शिक्षिकाओं के साथ भी मारपीट की गयी। बीच-बचाव करने आयी पुलिस के साथ भी अभिभावकों की झड़प हुई। आरोप है कि अभिभावकों ने पुलिस कर्मियों को लक्ष्य कर पत्थरबाजी की जिसमें दो थाना प्रभारी सहित 10 पुलिस कर्मी घायल हो गए। वहीं पुलिस के लाठीचार्ज में एक महिला का सिर फट गया व दूसरी महिला अभिभावक घायल हो गयी। इलाके में उत्तेजना के माहौल को देखते हुए रैफ उतारी गयी। वहीं दूसरी ओर, पुलिस ने मामले में अभियुक्त शिक्षक दीपक कर्मकार को गिरफ्तार कर लिया है। वह नाकतल्ला इलाके का रहने वाला है। इधर, घटना की सूचना पाकर राज्य के शिशु सुरक्षा आयोग की चेयरपर्सन अनन्या चक्रवर्ती भी स्कूल पहुंचीं और घटना की जानकारी ली। इसके अलावा पुलिस कर्मियों पर हमला करने के आरोप में 4 लोगों को गिरफ्तार किया है।

क्या है पूरी घटना ?

मंगलवार की सुबह व‌िनोदिनी गर्ल्स स्कूल के सामने सैकड़ों अभिभावक आकर खड़े हो गए। अभिभावकों का आरोप है कि स्कूल के शिक्षक दीपक कर्मकार ने नर्सरी कक्षा में पढ़ने वाली छात्रा का यौन शोषण किया है। पीड़ित 6 वर्षीया छात्रा के पिता का आरोप है कि गत 26 सितंबर को बच्ची के साथ यौन शोषण की घटना घटी। वहीं बच्ची की मां ने बताया कि 26 सितंबर को भाजपा द्वारा बुलाये गये बंद के दिन स्कूल खुला था। मैंने अपनी बेटी को स्कूल भेजा था। हालांकि घर लौटने के बाद से ही वह अस्वाभाविक आचरण कर रही थी। पहले तो हम लोग कुछ समझ नहीं पाए। उसे देखकर लग रहा था कि वह काफी डरी हुई है। इसके बाद ही बच्ची बीमार पड़ गयी। बार-बार बच्ची से पूछने पर उन्हें बच्ची से हुई यौन शोषण की घटना का पता चला। बच्ची के पिता ने बताया कि 26 सितंबर को स्कूल में कम छात्राएं आयी थीं। दीपक कर्मकार स्कूल में अंग्रेजी और बांग्ला पढ़ाता है। बच्ची के पिता का आरोप है कि वह बच्ची को उस दिन दूसरे कमरे में ले गया और वहीं पर बच्ची के साथ यौन शोषण किया। बच्ची के पिता का कहना है कि मेडिकल रिपोर्ट में भी बच्ची के साथ हुए यौन शोषण का उल्लेख है।

स्कूल के सामने विरोध-प्रदर्शन

बच्ची से हुई यौन शोषण की घटना की सूचना अन्य अभिभावकों में आग की तरह फैल गयी। मंगलवार की सुबह से ही अभिभावक स्कूल का मेन रोड अवरोध कर अभियुक्त शिक्षक को सजा देने की मांग पर प्रदर्शन करने लगे। मेन गेट बंद होने के कारण स्कूल की छुट्टी होने के बावजूद कई छात्राएं अंदर ही अटक गयी। साथ ही शिक्ष‌िकाएं भी स्कूल के अंदर फंसी रही। इस दौरान आरोप है कि अभिभावक जबरन स्कूल के अंदर आ गए और तोड़फोड़ करने लगे। इस बीच घटना की सूचना पुलिस को दी गयी। आरोप है कि पुलिस के पहुंचने के बाद अभिभावकों और पुलिस कर्मियों में कहासुनी हुई। कहासुनी के दौरान कई अभिभावक स्कूल के अदंर घुस गए और तोड़फोड़ करने लगे। स्थिति को संभालने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज किया। महिला अभिभावकों का आरोप है कि पुलिस कर्मियों ने महिला पुलिस की अनुपस्थिति पर उन पर लाठीचार्ज किया गया।

क्या कहना है पुलिस का ?

कोलकाता पुलिस के डीसी (एसईडी) कल्याण मुखोपाध्याय ने बताया कि शिकायत मिलने के बाद ही पुलिस ने अभियुक्त शिक्षक को गिरफ्तार कर लिया है। राज्य की शिशु अधिकार सुरक्षा कमिशन की गाइडलाइन के अनुसार आगे कदम उठाए जाएंगे। अभिभावकों के एक अंश ने कानून अपने हाथ में लेने की कोशिश की जिन्हें पुलिस ने रोका।

 

खबर की वीडियो देखने के लिए यूट्यूब पर जाकर सन्मार्ग सब्स्क्राइब करें और सभी महत्वपूर्ण खबरों की जानकारी लें। 

शेयर करें

मुख्य समाचार

कल्याणकारी योजना का लाभ दिए जाने में हुई गड़बड़ी शीघ्र होगी दूर : सीता सोरेन

दुमका : झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) की वरिष्ठ नेता और दुमका जिले में जामा की विधायक सीता सोरेन ने कहा कि पूर्व में अयोग्य लोगों आगे पढ़ें »

नक्सलियों को 15 लाख की लेवी देने जा रहा ठेकेदार गिरफ्तार

औरंगाबाद : बिहार में नक्सल प्रभावित औरंगाबाद जिले के अम्बावार तरी के निकट एक संदिग्ध वाहन से 15 लाख रुपये जब्त कर संवेदक समेत दो आगे पढ़ें »

ऊपर