अपने करीबियों को भी देबांजन ने लगवाया था फर्जी वैक्सीन !

लोगों ने कहा, भरोसे से लगवायी थी वैक्सीन
इलाके में भी आईएएस जैसा रौब दिखाता था देबांजन
साथ लेकर घूमता था सिक्युरिटी गार्ड
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : देबांजन देब के फर्जीवाड़े की ​शिकार सांसद मिमी चक्रवर्ती अकेली नहीं हुई बल्कि उसने अपने करीबियों को भी इस फर्जीवाड़े का भुक्तभोगी बनाया है। देबांजन ने अपने फर्जी रुतबे का रौब दिखाकर न जाने कितने लोगों को बेवकूफ बनाया। दरअसल उसने लोगों को बेवकूफ ही नहीं बनाया बल्कि कोरोना महामारी जैसी आपदा में बेकसूर लोगों को ढकेला भी। जिसमें उसने अपनों को भी नहीं बक्शा। अपने कैंप में देबांजन ने कई करीबियों को भी वैक्सीन लगवायी थी जिसका मैसेज तक उनके फोन में नहीं आया था। आरोपों को देखे तो साफ दिखता है कि देबांजन स्थितियों से परिचित था उसे मालूम था वह जिंदगियों से खिलवाड़ कर रहा है। अब जब सब सामने आ गया है तो देबांजन के वे दोस्त जिन्होंने भरोसे पर उसके कैंप में जाकर वैक्सीन लगवायी थी उनमें आतंक, डर के साथ गुस्सा और नफरत है।
देबांजन ने कहा था आ जाएगा मैसेज चिंता न करें
कसबा के फर्जी वैक्सिनेशन ड्राइव में देबांजन ने अपने कुछ दोस्तों को भी वैक्सीन लगवायी थी। जानकारी के अनुसार देबांजन के ऐसे चार परिचित थे जिन्होंने वहां वैक्सिनेशन करवाया था। उनके मोबाइल पर काफी समय तक जब मैसेज नहीं आया तो उन लोगों ने देबांजन को इस बात की जानकारी दी। जवाब में देबांजन ने कहा कि चिंता करने की बात नहीं है। जल्द मोबाइल पर मैसेज आ जाएगा। चूंकि देबांजन उनका दोस्त था इसलिए भरोसे पर आकर उन लोगों ने अपनी शंका को दरकिनार कर दिया।
असलियत सामने आयी तो शंका में है लोग
अब जब सब बाते सामने आ गयी है तो इन लोगों में वैक्सीन को लेके डर का माहौल है। इनका कहना है कि हमें असली वैक्सीन दी भी गयी थी कि नहीं इसमें शक हो रहा है। हमने तो देबांजन पर विश्वास करके महामारी के संक्रमण से बचने के लिए वैक्सीन लगवायी लेकिन हमें क्या पता था हम किसी फर्जीवाड़े का शिकार हो रहे है। इस वैक्सीन का क्या साइडइफेक्ट होगा यह सोच कर ही दिल घबरा जा रहा है। रातों की नींद उड़ गयी है। आखिर देबांजन न हमारे साथ ऐसा क्यों किया ? इस खबर ने बाद से तो अब किसी पर विश्वास तक करने की हिम्मत नहीं हो पा रही है। उसके दोस्तों में एक महिला मित्र ने बताया कि मैं दूसरे राज्य में नौकरी करती हूं इसलिए वैक्सीन जरूरी थी। देबांजन के कहने पर भी मैंने अपने चार दोस्तों और पिता के साथ वहां वैक्सिनेशन करवाया था।
हर जगह आईएएस जैसा झाड़ता था रौब
देबांजन की महिला मित्र ने बताया कि उसने विश्वास में वैक्सीन लगवायी। साथ ही वह खुद को आईएएस बताता था। इलाके में उसका रौब भी आईएएस जैसा ही था। साथ में उसके सिक्युरिटी गार्ड रहते थे। मोबाइल पर किसी की कॉल आने पर वह उसी रुतबे से बात करता था मानो वाकई आईएएस अधिकारी हो। एक पल के लिए भी किसी को शक नहीं हुआ कि वह फर्जी आईएएस है। उसके झांसे ने न जाने कितनों को बेवकूफ बनाया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्सहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

मौसंबी से चेहरा बनेगा खूबसूरत, पिंपल्स समेत ये समस्याएं होंगी दूर

कोलकाता : अगर आप चाहती हैं कि चेहरे के दाग-धब्बे हमेशा के लिए गायब हो जाएं तो ये खबर आपके काम आ सकती है। क्योंकि आगे पढ़ें »

टैक्सी संगठन ने 12 व 13 अगस्त को हड़ताल का किया आह्वान

शरद पवार आज दिल्ली में ममता बनर्जी से कर सकते हैं मुलाकात

कोरोना वैक्सीन को लेकर एनआरएस व आईएसआई के सर्वे में बड़ा खुलासा

करियर की समस्या नहीं छोड़ रहीं पीछा? ये आसान उपाय दिलाएंगे मनचाही सफलता

सावन में बुधवार का दिन भी होता है बेहद खास, ये 5 उपाय दिखाएंगे कमाल

बड़ी खबरः राज्य में कोविड के बीच बच्चों में डेंगू के साथ स्क्रब टाइफस

कितनी देर तक करना चाहिए सेक्स, ताकि हो सुखद अहसास और रोमांच

सोने की स्थिति का सेहत पर पड़ता है प्रभाव, ऐसे सोने से ठीक हो सकते हैं खर्राटे और पीठ का दर्द

बड़ाबाजार में बस की चपेट में आने से यात्री की मौत

ऊपर