अनलॉक शुरू : पटरी पर लौटने लगा देश

कोलकाता में बसें नहीं मिली तो पैदल ही चल दिये लोग
सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता/नयी ​दिल्ली : कोरोना संक्रमण के कारण लगे लॉकडाउन के 67 दिनों बाद जब सोमवार को अनलॉक हुआ तो बाजार फिर से गुलजार हो उठे। अनलॉक 1 के तहत मिली छूट में सोमवार से दुकानें पूर्ववत खुलीं। लंबे समय से घरों में बैठे लोग बाहर निकले। दोपहर बाद बाजारों में काफी चहल पहल दिखी। गहनों के बड़े शो रूम से शुरू कर छोटे स्टाल भी खुले तथा दुकानदारों में उत्साह गजब का दिखा। आखिर हो भी क्यों न, 67 दिन बाद वे अपनी दुकान को खोल पाये हैं। बाजार खुलने के साथ ही व्यापारिक गतिविधियां तेज होने से कारोबार में भी तेजी आयी है। कपड़ा व रेडीमेड की दुकानों में भी काफी भीड़ भाड़ रही। वहीं अन्य दुकानों में भी ग्राहक जुटे रहे। बड़ी परेशानी आम लोगों को बसों के नहीं मिलने के कारण हुई। शाम को तो लोग जब बस का इंतजार कर थक गये तो पैदल ही घर की ओर निकल पड़े। निजी बसें और मिनी बसें सोमवार को भी सड़क पर नहीं उतरीं। मेट्रो का बंद रहना लोगों को खला। एक बड़े तबके के लिए यह दिन दुश्वारी भरा था। बसें कम थीं और यात्री अधिक। टैक्सी वालों की चांदी रही। इस महामारी काल में लोग यूं ही परेशान थे, ऊपर से जब ऐप कैब को बुला रहे थे तो चार्ज देखकर ही पसीना आ रहा था। एक साथ वाहनों के सड़क पर आने तथा कई पुलों पर काम चलने के कारण उत्तर से दक्षिण कोलकाता में जाम लगा रहा। 6 किमी की दूरी तय करने में लोगों को 1 घंटे लगे। व्यावसायिक गतिविधि प्रारंभ होने के कारण बड़ाबाजार की रौनक दोबारा देखने को मिली। उम्मीद है कि अगले कुछ दिनों में व्यवसाय को गति मिल जायेगी। लंबे समय से छुट्टी पर रहने वाले दुकानों में काम करने वाले लोगों को भी रोजगार मिलना शुरू हो गया है। गंगा दशहरा के बहाने घाटों पर भी चुप्पी टूटी तथा गंगा तट गुलजार हुए।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अगर खाने में नमक ज्यादा हो गया है तो इन 5 तरीकों से कर सकती हैं कम

कोलकाताः नमक हर किचन का एक ऐसा अहम इंग्रिडिएंट होता है जिसकी मात्रा कम या ज्यादा होने पर खाने का स्वाद ही बदल जाता है। आगे पढ़ें »

जानिए महिलाओं के बूब्स की बनावट और साइज से जुड़ी कई रोचक बातें

कोलकाताः एक महिला के लिए उसके ब्रेस्ट यानि कि स्तन जिन्हें हम आम बोलचाल की भाषा में बूब्स कहते हैं वो उसके शरीर के आकर्षण आगे पढ़ें »

ऊपर