और बढ़ा बवाल, यूपी में अब तक 11 मौत, 10 हजार पर केस

नयी दिल्ली/लखनऊ : नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में बवाल और बढ़ गया है। उत्तर प्रदेश के कई शहरों में आगजनी व हिंसा के बीच 11 लोगों की मौत हो चुकी है। हिंसक विरोध प्रदर्शन के बाद उत्तर प्रदेश में हाई अलर्ट है। शनिवार को प्रदेश के सभी स्कूल-कॉलेज बंद हैं। इस दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है और इस आग को भड़काने का आरोप राजनीतिक दलों पर लगाया है। वहीं, दिल्ली में नागरिकता कानून को लेकर विरोध प्रदर्शन और तेज होता जा रहा है। यहां दरियागंज में शुक्रवार शाम हुई हिंसा के दौरान प्रदर्शनकारियों ने पथराव किया और एक कार को आग के हवाले कर दिया। हिंसा के इस मामले में दिल्ली पुलिस ने 15 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है।

मेरठ, मुजफ्फरनगर में इंटरनेट बंद, प्रयागराज में 10 हजार पर केस 

उत्तर प्रदेश में नागरिकता कानून के खिलाफ सबसे अधिक हिंसक घटनाएं दर्ज की गईं। जुमे की नमाज के बाद बुलंदशहर से लेकर मेरठ, हापुड़, बिजनौर, मुज़फ्फरनगर और सहारनपुर तक मुसलमान पत्थरों के साथ सड़कों पर उतर आए। कई जगहों पर प्रदर्शनकारियों ने पत्थरबाजी के साथ आगजनी की घटनाओं को अंजाम दिया। पुलिस ने अब तक हिंसा के चलते 11 व्यक्तियों की मौत की पुष्टि की है जिसमें फिरोजाबाद, बिजनौर और कानपुर में दो-दो लोगों की मौत हुई तो वहीं मेरठ में चार और संभल में एक प्रदर्शनकारी की मौत हो गई। इसके अलावा कई प्रदर्शनकारी और पुलिसकर्मी इस दौरान घायल हुए। अगर आंकड़ों पर नजर डालें तो कानपुर में 13 प्रदर्शकारी और 18 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं। फिरोजाबाद में 20 प्रदर्शनकारी और करीब 70 पुलिसवालों के घायल होने की खबर है। मेरठ में 12 प्रदर्शनकारी और 6 पुलिसवाले जख्मी हो गए तो वहीं, बिजनौर में तीन प्रदर्शनकारी और 8 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं। खुद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के शहर गोरखपुर में हिंसा की घटनाओं को रोकने में प्रशासन नाकाम रहा। यहां पर उग्र मुसलमानों ने पुलिस पर जमकर पत्थर बरसाए। वहीं, प्रयागराज में 10 हजार अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। वीडियो व फोटो के जरिये आरोपियों की पहचान की जा रही है। हिंसा के दौरान हुए नुकसान की भरपाई इन्हीं लोगों से की जाएगी, यदि वे भरपाई नहीं कर पाते तो उनकी संपत्ति कुर्क करके भरपाई की जाएगी।

40 लोग हिरासत में लिए गए

बात करें देश की राजधानी दिल्ली की तो वहां पुलिस ने शुक्रवार शाम दरियागंज इलाके में हुई हिंसा के मामले में अब तक 15 लोगों को गिरफ्तार किया है। उन लोगों पर यह आरोप है कि उन्होंने बल का प्रयोग करते हुए पुलिसकर्मियों को ड्यूटी निभाने से रोकने का प्रयास किया है। वहीं, विरोध प्रदर्शन के दौरान हिंसा पर नियंत्रण पाने के लिए दिल्ली पुलिस ने 40 लोगों को हिरासत में लिया जिनमें से आठ नाबालिगों को शनिवार तड़के आजाद कर दिया गया। पुलिस ने बताया कि हिरासत में लिए गए 40 लोगों में से 15 लोग गिरफ्तार किए गए हैं और इस मामले में ‌गिरफ्तारियों का आंकड़ा बढ़ सकता है।

दिल्ली हिंसा में रावण गिरफ्तार

दिल्ली के जामा मस्‍जिद इलाके में शुक्रवार को नागरिकता संशोधित कानून के खिलाफ प्रदर्शन के लिए बड़ी तादाद में मुसलमान एकत्रित हुए थे। इस प्रदर्शन में दोपहर 2 बजे के आसपास भीम सेना का मुखिया रावण भी संविधान की एक कॉपी लेकर पहुंच गया। मस्जिद से यह अनुरोध किया गया कि प्रदर्शनकारी जंतर-मंतर की तरफ न जाएं। लेकिन शाम होते-होते इस शांतिपूर्ण प्रदर्शन ने हिंसा का रूप ले लिया। करीब 6 बजे प्रदर्शनकारियों ने पथराव किया और एक वाहन में आग लगा दी। पुलिस के अनुसार इस हिंसा में दिल्ली के बाहर के लोग भी शामिल थे। हिंसा के मामले में केस दर्ज कर पुलिस ने रावण को गिरफ्तार कर लिया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

Radha Ashtami 2023: राधा अष्टमी पर अगर पहली बार रखने जा …

कोलकाता : हिंदू धर्म में भाद्रपद मास के शुक्लपक्ष की अष्टमी की तिथि को बहुत ज्यादा धार्मिक महत्व माना गया है क्योंकि इस दिन भगवान आगे पढ़ें »

मांग में सिंदूर-गले में मंगलसूत्र पहन ससुराल पहुंचीं परिणीति

नई दिल्ली : राघव चड्ढा और परिणीति चोपड़ा शादी के बंधन में बंध चुके हैं। बीते दिन 24 सितंबर को उदयपुर में शादी रचाई। दोनों आगे पढ़ें »

ऊपर