यूनेस्को की विश्व धरोहर सूची में शामिल हुआ गुलाबी शहर जयपुर

जयपुरः अपनी वास्तुकला और जीवन्त संस्कृति के लिए मशहूर जयपुर को यूनेस्को की विश्व धरोहर सूची मे शामिल किया गया है। इसकी घोषणा यूनेस्को ने शनिवार को की। बता दें कि राजस्‍थान में 37 विश्व धरोहर स्‍थली है जिनमें चित्तौड़गढ़ का किला, कुंभलगढ़, जैसलमेर, रणथंभोर, और गागरोन का किला शामिल हैं।
प्रधानमंत्री ने दी बधाई
गुलाबी नगरी जयपुर के विश्व धरोहर सूची में शामिल होने पर प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट कर बधाई दी। उन्होंने लिखा कि ‘जयपुर का संबंध संस्कृति और शौर्य से है। उत्साह से भरपूर जयपुर की मेहमाननवाजी लोगों को अपनी ओर खींचती है। खुशी है कि यूनेस्को ने इस शहर को विश्व धरोहर सूची में शामिल किया।’
पिछले वर्ष भेजा गया था प्रस्ताव
गौरतलब है कि पिछले साल अगस्त में गुलाबी नगरी को विश्व धरोहर सूची में शामिल करने के लिए सरकार ने प्रस्ताव भेजा था। 2018 में आईसीओएमओएस (स्मारक और स्थल पर अंतरराष्ट्रीय परिषद) ने इस शहर का निरीक्षण किया था। नामांकन के बाद बाकू में डब्‍ल्यूएचसी (विश्व धरोहर स्‍थल) ने इसपे गौर किया जिसके बाद इसे यूनेस्को के धरोहर स्‍थल में शामिल किया गया।
यूनेस्को के ‌‌दिशानिर्देश के अनुसार हर साल किसी एक ही शहर को विश्व धरोहर स्‍थल में शामिल करने के लिए सूचित किया जाता है। यूनेस्को द्वारा यह दर्जा मिलने के बाद घरेलू और ‌अंतराष्ट्रीय पर्यटन को बढ़ावा मिलता है। इससे अर्थव्यवस्‍था को मजबूती मिलने के साथ-साथ लोगों को रोजगार मिलता है। साथ ही पर्यटकों के आने से हस्तशिल्प तथा हस्तकरघा उद्योगों को फायदा होता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मरकज में तबलीगी जमात में शामिल हुए बंगाल के 71 लोगों की पहचान कर ली गई है : ममता 

कोलकाता : पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी  ने बुधवार को बताया कि कुल 71 लोग  बंगाल से निजामुद्दीन मरकज में शामिल होने के लिए आगे पढ़ें »

ममता ने प्रधानमंत्री को लिखा पत्र, मांगी 25 हजार करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता

कोलकाता : पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बुधवार को पत्र लिखकर 25,000 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता मांगी है आगे पढ़ें »

ऊपर