मजहब के नाम पर अपील न करें उलेमा, हिन्दू धर्मगुरु ः फिरंगी महली

लखनऊ से प्रदीप श्रीवास्तव

चुनाव के पहले उलेमाओं और मौलवियों द्वारा जारी अपील या फतवे को लेकर मुस्लिम समुदाय में विरोध शुरू हो गया है। उनका आरोप है कि कुछ उलेमा ही ऐसे फतवे दे रहे हैं और इनमें ज्यादातर बाकायदा पैसा लेकर ऐसा करते हैं। लखनऊ ईदगाह के इमाम मौलाना खालिद रशीद फिरंगी महली से ‘सन्मार्ग’ संवाददाता मिलने गए तब उस समय इमाम साहब नमाज पढ़ने गए थे। उसी दौरान ईदगाह में कानपुर, फैजाबाद, अकबरपुर से आए मुस्लिम समुदाय और  संगठनों के कई प्रतिनिधियों से हुई बातचीत।

जितना बड़ा धर्मगुरु, उतना बड़ा नजराना?

कानपुर से निकलने वाले साप्ताहिक अखबार ‘मसावत जदीद’ के संपादक एम जाफर खां कहते हैं कि जितना बड़ा धर्मगुरु, उतना बड़ा नजराना? उनके  मुताबिक 95 फीसदी मौलाना व उलेमा राजनीति से दूर रहते हैं। मौलाना अजहरी  मियां, मौलाना राबे हसन जैसों से जरा कोई अपील कराके देखे। जाफर खां के मुताबिक जब हर फिरके के धर्मगुरुओं में पार्टी और प्रत्याशियों के  समर्थन में अपील जारी करने की होड़ लगी है, तो इससे मौलाना साहेबान क्यों  पीछे रहें? रंगकर्मी, क्रिकेटर, कलमकार सभी तो इस बहार के मौसम में कमाना  चाहते हैं। उन्होंने कहा कि मीडिया में वोटों के ध्रुवीकरण और सद्भावना  बिगाड़ने के लिए बहस नहीं कराई जा रही है? ये किसे फायदा पहुंचाने के लिए  है? जाफर खां ने बताया कि एक बड़े मौलाना से मैंने पूछा कि आखिर आप हर बार  चुनाव आने पर अपनी निष्ठा क्यों बदल देते हैं? कभी एक पार्टी, फिर दूसरी  पार्टी के पक्ष में बयान जारी करते हैं। उनका कहना था कि यह बताइये कोई  किसी के कहने पर वोट देता है? घर में कोई एक-दूसरे को वोट किसी के पक्ष में  दिलवा सकता है?

भ्रम में पड़ जाता है मुसलमान

फैजाबाद से आए नुसरत कुदुसी का कहना था कि मुसलमान चाहता है एकजुट होकर सेकुलर पार्टियों को ताकतवर बनाना, पर उलेमाओं के ऐसे बयान से वह भ्रम में पड़ जाता है। नुसरत ने कहा कि लखनऊ में कुछ दिन पहले भाजपा के लोगों ने एक होटल में कुछ उलेमाओं को इकट्ठा कर बयान जारी करवाए। उन्होंने कुछ लोगों के नाम भी दिए। अकबरपुर के सिजवान के मुताबिक पहले चरण में इन बयानों से भ्रम फैला और मतदान पर इसका असर भी पड़ा। मोहम्मद तौफिक ने कहा कि मुसलमान फिरकापरस्त पार्टी को वोट  देना नहीं चाहता। चाहे वह हिंदू फिरकापरस्त हो या मुस्लिम। यदि ऐसा होता,  तो मुस्लिम मजलिस को पिछले चुनाव में पूरे प्रदेश में कुल 1225 वोट ही नहीं  मिले होते। माइनारिटीज डिमोक्रेटिक पार्टी को केवल 510 वोट नहीं मिले  होते। उन्होंने कहा कि आधा दर्जन मुस्लिम मतदाता संगठन हैं, पर सबके उम्मीदवारों की जमानत जब्त होती है। पीस पार्टी आज कहां है? कौमी एकता दल  43 सीटों पर चुनाव लड़ी थी, 37 पर जमानत जब्त हो गई।

लखनऊ ईदगाह के इमाम मौलाना खालिद रशीद फिरंगी का साक्षात्कार

लखनऊ ईदगाह के इमाम मौलाना खालिद रशीद फिरंगी इस्लामिक सेंटर आफ इंडिया के अध्यक्ष भी हैं। मुस्लिम समुदाय में उनका और उनके परिवार का काफी सम्मान है।
सवाल- दूसरे उलेमाओं या मुस्लिम संगठनों के नेता के रूप में क्या आपने भी किसी पार्टी के हक में बयान जारी किया है?
जवाब – हमलोग लोकतांत्रिक देश में हैं। सभी को आजादी है कि वह जिसे चाहे उसे वोट दे। अफसोस कि कुछ लोग हर बार चुनाव के समय धर्म के आधार पर वोट देने की अपील करने लगते हैं। इससे सेकुलर वोट को बांटने की यह कोशिश होती है।
सवाल- आपका इशारा उन उलेमाओं की तरफ है, जिन्होंने हाल ही में बसपा के पक्ष में बयान जारी किया है?
जवाब – मेरा कहना अपील करने वाले उलेमाओं और हिंदू धर्मगुरुओं दोनों के लिए है। बुनियादी बात यह है कि मजहब के नाम पर सेकुलर हिंदुस्तान में अपील नहीं होनी चाहिए।
सवाल – मुस्लिम समुदाय का प्रतिनिधि होने के नाते इस चुनाव के बारे में क्या आकलन है?
जवाब- इस चुनाव का असर 2019 में पर भी होगा। सेकुलर पार्टी को मजबूत करने की कोशिश है। यूपी में भी और केन्द्र में भी। यहां का मुसलमान हमेशा से सेकुलर नेता को ही अपना नेता मानता रहा है।
सवाल- अखिलेश यादव इस नजरिए से कहां तक ठीक हैं?
जवाब- अखिलेश सेकुलर हैं, प्रदेश के विकास के लिए उन्होंने काम किया है। अकलियत के लिए काम किया है। पिछले पांच वर्षों में हम लोगों ने उलेमाओं के प्रतिनिधिमंडल के साथ चार बार उनसे मुलाकात की थी। उनके सामने मुसलमानों से जुड़े जो मुद्दे उठाए, मांगे की जैसे यूनानी डाक्टरों के हित का मामला है, उर्दू शिक्षकों की नियुक्ति की बात हो, मौलाना मोहम्मद अली जौहर विश्वविद्यालय कायम करना हो, उन्होंने उसे पूरा किया।

मुख्य समाचार

एचडीएफसी बैंक ने एफडी की ब्याज दरों में किया बदलाव, जानिए क्या है नई ब्याज दरें

नई दिल्ली: निजी क्षेत्र की बैंक एचडीएफसी बैंक ने दो करोड़ रुपये की राशि से नीचे की फिक्स्ड डिपॉजिट (एफडी ) राशि पर ब्याज की आगे पढ़ें »

जापान ओपन के दूसरे दौर में पहुंचे साई प्रणीत

टोक्योः भारत के दिग्गज बैडमिंटन खिलाड़ी बी साई प्रणीत जापान ओपन पुरुष एकल के दूसरे दौर में पहुंच गए जिन्होंने सीधे सेटों में केंतो निशिमोतो आगे पढ़ें »

PM Modi, Azad, Tilak Jayanti, tribute

मोदी ने बाल गंगाधर तिलक और चंद्रशेखर आजाद को दी श्रद्धांजलि

नयी दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के महानायक एवं लोकप्रिय स्वतंत्रता सेनानी चंद्रशेखर आजाद और बाल गंगाधर तिलक की आगे पढ़ें »

विंडीज दौरे में जगह नहीं मिलने से निराश है यह युवा खिलाड़ी

मनीष और श्रेयस को मिला मौका नई दिल्लीः भारतीय टीम के युवा बल्लेबाज शुभमन गिल ने विंडीज दौरे के लिए भारत की सीमित ओवर टीम में आगे पढ़ें »

अगर ट्रंप का दावा सही तो मोदी ने देश को दिया धोखा : राहुल

नई दिल्ली : भारत की राजनीति में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के कश्मीर पर मध्यस्थता वाले बयान के बाद से ही खलबली मची हुई है। आगे पढ़ें »

Donald Trump Statement, Indo-Pak Mediation

अमेरिका ने भारत-पाक मुद्दे पर ट्रंप के बयान का किया बचाव, एस जयशंकर ने भी दिया जवाब

वॉशिंगटन : अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कश्मीर मुद्दे पर भारत और पाकिस्तान के बीच ''मध्यस्थता" के लिए तैयार होने की बात सोमवार को व्हाइट आगे पढ़ें »

दो साल बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में वापसी करेगा यह कैरेबियाई खिलाड़ी…

पाेलार्ड भी टीम में बारबाडोसः दिग्गज फिरकी गेंदबाज सुनील नारायण और कीरोन पोलार्ड को भारत के खिलाफ टी-20 सीरीज के शुरआती दो मैचों के लिए विंडीज आगे पढ़ें »

shraddha kapoor

स्ट्रीट डांसर 3D  के सेट पर घायल हुई  श्रद्धा कपूर…

मुबंई : बॉलीवुड अभिनेत्री श्रद्धा कपूर और वरुण धवन एकसाथ फिल्म स्ट्रीट डांसर 3D में नजर आएंगे और इसके लिए श्रद्धा जमकर परिश्रम कर रही आगे पढ़ें »

बांग्‍लादेश सीरीज के पहले मैच के बाद रिटायर होगा श्रीलंका का यह दिग्गज गेंदबाज

कोलंबोः श्रीलंका के स्टार गेंदबाज लसित मलिंगा बांग्लादेश के खिलाफ आगामी तीन वनडे मैचों की सीरीज के पहले मुकाबले के बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा आगे पढ़ें »

आरटीआई बिल संशोधन पर सोनिया ने उठाए सवाल, कहा- खत्म होगी आयोग की आजादी

नई दिल्ली : सूचना का अधिकार बिल के संशोधन को लेकर सोमवार को लोकसभा में जम कर बहस हुई लेकिन पक्ष-विपक्ष के बीच चली गहमा-गहमी आगे पढ़ें »

ऊपर