पाकिस्तान में आतंकी ठिकानों का सफाया करने गये थे वायुसेना के जवान : राजनाथ

जयपुर : ब्यावर में शक्ति केंद्र प्रमुख सम्मेलन को संबोधित करते हुए गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को कहा कि हमारी वायु सेना के जवान लड़ाकू विमान लेकर एक मिशन के तहत पाकिस्तान में आतंकवादी ठिकानों का सफाया करने गये थे। वे कोई फूल बरसाने और सैर-सपाटा करने नहीं गये थे। पहली बार पाकिस्तान को यह अहसास हुआ होगा कि अब आतंकवाद का कारोबार पाकिस्तान की धरती पर भी बेखौफ होकर और बेरोकटोक होकर नहीं चलाया जा सकता। यदि पाकिस्तान की धरती पर आतंकवाद के ठिकाने चलते रहेंगे तो पाकिस्तान को उसकी सबसे बड़ी कीमत चुकानी पडे़गी। इस बात का अहसास हमारी सेना ने जवानों ने पाकिस्तान को करा दिया है। भारत ने पाकिस्तान के आतंकवादी ठिकानों पर कार्रवाई की तो पाकिस्तान की बौखलाहट तो समझ में आती है लेकिन यहां पर कुछ लोगों को सदमा पहुंचा है। वे हमसे सबूत मांग रहे हैं कि प्रमाण लाइये। वायुसेना के जवानों ने ‘टारगेट’ को निशाना बनाया था। मैं संख्या पूछने वालों से कहना चाहता हूं कि जो युद्ध वीर होता है, वह मारे गये लोगों की गिनती नहीं करता है।
राजनाथ ने कहा कि आतंकवाद के संबंध में कांग्रेस के दोस्तों का रवैया भ्रामक और खतरनाक है। कांग्रेस के कुछ नेता ओसामा बिन लादेन जैसे आतंकवादी को ‘ओसामा जी’ कहते हैं। हाफिज सईद को ‘हाफिज जी’ कहते हैं। आतंकवाद के सवाल पर ऐसे लोगों की न नीति साफ है और न ही नीयत। सिंह ने कहा कि हमारी सेना के जवानों ने पिछले पांच वर्षों में तीन बार दुनिया के दूसरे देश की धरती पर जाकर आतंकवादियों का सफाया करने में कामयाबी हासिल की है। उन्होंने कहा कि हम भारत को विश्व गुरु बनाना चाहते हैं। इस काम को भाजपा कर सकती है। हम राजनीति करते हैं तो इंसाफ और इंसानियत के आधार पर करते हैं। उन्होंने कहा कि कश्मीर के लोग हमारे थे है और रहेंगे तथा देश में पढ़ रहे सभी कश्मीरी छात्रों की पूरी हिफाजत की जानी चाहिए।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अपराध

कटारिया स्टेशन के पास ट्रेन से कटकर युवक की मौत

भागलपुर : बिहार में पूर्व-मध्य रेलवे के बरौनी-कटिहार रेलखंड के कटारिया स्टेशन के निकट मंगलवार को ट्रेन से कटकर एक युवक की मौत हो गयी। नवगछिया आगे पढ़ें »

विद्यापति की शृंगारिक रचनाओं के नायक-नायिका समाज को पढ़ाते हैं मर्यादा का पाठ

दरभंगा : मैथिली के प्रसिद्ध विद्वान एवं लेखक डॉ. शांतिनाथ सिंह ठाकुर ने मैथिली भाषा के विकास में महाकवि विद्यापति की शृंगारिक रचनाओं के जबरदस्त आगे पढ़ें »

ऊपर