कूच बिहार में तृणमूल नेता की हत्या, ममता के मंत्री बोले- खून का बदला खून

कोलकाता: लोकसभा चुनाव के बाद से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के बीच विवाद बढ़ता ही जा रहा है। पश्चिम बंगाल में लगातार दोनों पार्टियां के कई कार्यकर्ताओं की हत्या की घटना सामने आने के बाद से यहां हिंसा खत्म होने का नाम ही नहीं ले रही। कूचबिहार में बुधवार को तृणमूल कांग्रेस के नेता अजीजर रहमान की हत्या कर दी गई। इस हफ्ते तृणमूल कार्यकर्ता की हत्या का यह दूसरा मामला है। स्थानीय तृणमूल नेता ने हत्या का आरोप भाजपा पर लगाया है। उनका आरोप है कि भाजपा कार्यकर्ता अजहर अली और उसके कुछ सहयोगियों ने पीट-पीटकर रहमान की हत्या कर दी।

आपसी झगड़े की वजह से हत्या

कूच बिहार के भाजपा सांसद निशित प्रमाणिक ने कहा कि आपसी झगड़ों की वजह से युवक की हत्या हुई। तृणमूल इस मामले पर राजनीति कर रही है। पीड़ित परिवार ने भी कहा है कि यह घटना आपसी विवाद के कारण हुई है। इसमें किसी भी भाजपा के कार्यकर्ता का हाथ नहीं है।

उत्तरी दमदम में टीएमसी नेता निर्मल की हत्या

बता दें कि इससे पहले मंगलवार रात उत्तरी दमदम नगरपालिका के वार्ड 6 के अध्यक्ष निर्मल कुंडू की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इस घटना के बाद टीएमसी और भाजपा कार्यकर्ताओं के बीच लड़ाई तेज हो गई है। बंगाल के खाद्य मंत्री ज्योतिप्रिया मल्लिक ने टीएमसी नेता की निर्मम हत्या पर भी भाजपा को खुली चुनौती दी है।

यदि खून बहता है, तो हम भी जवाब देंगे

ज्योतिप्रिया मल्लिक ने कहा कि निर्मल कुंडू हमारे लोकप्रिय नेता थे। लोकसभा चुनाव में उन्होंने शानदार प्रदर्शन किया था। हम जानना चाहते हैं कि इस हत्या के पीछे कौन मास्टरमाइंड है। क्या वह भाटपाड़ा या बीजापुर का डॉन है? हमने राजनीतिक लड़ाई शुरू कर दी है। अगर लड़ाई हम लड़ते हैं इसे स्वीकार करने के लिए तैयार हैं। यदि खून बहता है, तो हम भी जवाब देंगे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

शाह ने हैदराबाद नगर निगम के चुनाव प्रचार के दौरान रोड शो किया

कहा-इस बार हैदराबाद का मेयर भाजपा से होगा हैदराबाद : केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने रविवार को ऐतिहासिक चारमीनार के समीप स्थित भाग्यलक्ष्मी मंदिर में आगे पढ़ें »

वाजिद की पत्नी ने जबरन धर्म परिवर्तन के लिए दबाव बनाने का लगाया आरोप, कंगना ने प्रधानमंत्री से पूछा सवाल

मुंबई: कंगना रनौत अपनी एक टिप्पणी की वजह से फिर सुर्खियों में हैं। इस बार उन्होंने पारसी लोगों के बारे में टिप्पणी की है। कंगना आगे पढ़ें »

ऊपर