जब नीरज चोपड़ा के करीब से गुजर गई मौत

नई दिल्ली : जेवलिन थ्रोअर नीरज चोपड़ा ने टोक्यो ओलिपिंक में भारत के लिए इकलौता गोल्ड मेडल जीता। यह ओलिंपिक के एथलेटिक्स इवेंट्स में 121 साल में देश का पहला गोल्ड मेडल है। इस उपलब्धि के बाद जब से वे वापस भारत लौटे हैं उनकी जिंदगी से जुड़े कई रोचक किस्से सामने आ रहे हैं। ताजा मामला एक ऐसे वाकये का है जब नीरज चोपड़ा ने मौत को काफी नजदीक से देखा था। उन्होंने एक कार्यक्रम में इससे जुड़ा अनुभव खुद बयान किया।

नीरज चोपड़ा ओलिंपिक की तैयारी के सिलसिले में जर्मनी में लंबे समय तक ट्रेनिंग की थी। इसी के लिए एक बार वे अबुधाबी से फ्लाइट लेकर जर्मनी के शहर फ्रैंकफर्ट जा रहे थे। बीच रास्ते में अचानक फ्लाइट की सभी लाइटें बंद हो गईं और प्लेन बहुत तेजी से नीचे जाने लगा।
नीरज ने बताया- उस समय मैं हेडफोन लगाए हुए था। जब मैंने हेडफोन हटाया तो देखा कि प्लेन में मौजूद सभी यात्री चीख रहे हैं। बच्चे रो रहे हैं। सबको लग रहा था कि प्लेन क्रैश हो सकता था। पास में मेरे कोच बैठे थे। मैंने उनसे कहा कि जो होगा, वह होगा। अगर प्लेन को गिरना ही है तो इसे कोई रोक नहीं सकता है। इसलिए हमें घबराना नहीं चाहिए, क्योंकि इसमें हम कुछ नहीं कर सकते हैं। बहरहाल, कुछ समय बाद ही प्लेन स्टेबल हो गया और सुरक्षित तरीके से फ्रैंकफर्ट लैंड भी कर गया।

हिम्मती होने के साथसाथ बड़े दिल वाले इंसान भी हैं नीरज
प्लेन की इस घटना से साफ है कि नीरज मुश्किल वक्त में भी घबराते नहीं हैं। इससे पहले वे कई मौकों पर खुद को बड़े दिल वाला इंसान भी साबित कर चुके हैं। इससे जुड़ा एक वाकया तो टोक्यो ओलिंपिक का ही है। नीरज फाइनल में अपनी पहली थ्रो करने जा रहे थे, लेकिन उन्हें अपना जेवलिन नहीं मिल रहा था। बाद में उन्होंने देखा कि उनका जेवलिन पाकिस्तानी थ्रोअर अरशद नदीम के पास है। यह खुलासा होने के बाद सोशल मीडिया पर नदीम को काफी ट्रोल किया जाने लगा था। तब नीरज ने खुद वीडियो मैसेज जारी कर नदीम का बचाव किया था। 

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

बंगालः अवैध हथियार बनाने वाले फैक्‍ट्री का भांडाफोड़, दो गिरफ्तार

आसनसोलः आसनसोल दुर्गापुर पुलिस कमिश्नरेट क्षेत्र के हीरापुर थाना क्षेत्र की नई बस्ती 10 नंबर रोड इलाके के एक घर में अवैध हथियार बनाने का आगे पढ़ें »

ऊपर