शूटिंग वर्ल्ड कप : दूसरे दिन भी यश्वस्विनी ने साधा स्वर्ण पर निशाना

नयी दिल्ली : भारत ने यहां चल रहे आईएसएसएफ विश्व कप निशानेबाजी में 10 मीटर एयर पिस्टल में अपना दबदबा बनाकर रविवार को पुरुष और महिला दोनों वर्गों में स्वर्ण पदक जीते। भारत की यश्वस्विनी सिंह देसवाल, मनु भाकर और निवेथा की टीम ने महिलाओं की 10 मीटर एयर पिस्टल की टीम स्पर्धा का स्वर्ण पदक हासिल किया। इसके बाद युवा ओलम्पिक और एशियाई खेलों के स्वर्ण पदक विजेता सौरभ चौधरी, अभिषेक वर्मा और शाहजार रिजवी की टीम ने पुरुष वर्ग के फाइनल में वियतनाम को 17-11 से हराकर आसानी से सोने का तमगा अपने नाम किया। महिला वर्ग में भारतीय टीम ने स्वर्ण पदक के मुकाबले में 16 शॉट जमाये और वह पोलैंड की जूलिता बोरेक, योआना इवोना वावरजोनोवस्का और एग्निस्का कोरेजवो को पीछे छोड़ने में सफल रही। कर्णी सिंह रेंज में चल रही प्रतियोगिता में पोलैंड की टीम आठ अंक ही बना पायी। भारतीय टीम ने दूसरे क्वालीफिकेशन में 576 अंक बनाकर शीर्ष स्थान हासिल किया था जबकि पोलैंड की टीम 567 अंक के साथ दूसरे स्थान पर रही थी।

गनीमत शेख ने स्कीट में जीता कांस्य
युवा भारतीय निशानेबाज गनीमत सेखों ने विश्व कप में प्रतिस्पर्धा के तीसरे दिन महिलाओं की स्कीट में कांस्य पदक जीता। इससे पहले यहां कर्णी सिंह निशानेबाजी परिसर की शॉटगन रेंज में विश्व रैंकिंग में 82वें स्थान पर काबिज 20 साल की गनीमत ने महिलाओं के मुकाबले में 40 सटीक निशाने लगाये। फाइनल में जगह पक्की करने वाली एक अन्य भारतीय निशानेबाज कार्तिका सिंह शेखावत 32 निशाने के साथ चौथे स्थान पर रही।

10 मीटर एयर राइफल में यूएस से हारी भारतीय टीम
10 मीटर एयर राइफल टीम इवेंट में भी भारत की मेन्स टीम को रजत पदक हासिल हुआ। इस टीम में ऐश्वर्य प्रताप सिंह, दीपक कुमार और पंकज कुमार शामिल थे। भारतीय टीम ने फाइनल में 14 प्वाइंट बनाया। वहीं, यूएस के लुकस कोजेन्स्की, विलियम शानेर और टिमोथी शेरी ने 16 प्वाइंट के साथ स्वर्ण पदक अपने नाम किया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

कोलकाता को ‘सिटी ऑफ फ्यूचर’ बनायेगी भाजपा : मोदी

दीदी ओ दीदी अब की बार नहीं कहा, केवल की विकास की बात कोलकाता : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बंगाल में अपनी पहली वर्चुअली चुनावी सभा आगे पढ़ें »

मेरी लड़ाई किसी से नहीं, काम मेरी पहचान – फिरहाद हकीम

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : पोर्ट विधानसभा चुनाव में मैं किसी को अपना प्रतिद्वंदी नहीं मानता हूँ। मेरी लड़ाई किसी से नहीं बल्कि मेरी खुद से है। आगे पढ़ें »

ऊपर