दूसरी बार तलाक से लगे सदमे पर बोलीं शिखर धवन की पत्नी …

नई दिल्ली : भारतीय क्रिकेट टीम के सलामी बल्लेबाज शिखर धवन अपनी पत्नी आयशा मुखर्जी से अलग हो गए हैं। अपने एक इंस्टाग्राम पोस्ट में आयशा ने खुद इसका जिक्र किया है। हालांकि, शिखर तलाक की बात पर अभी तक खामोश हैं। आयशा मुखर्जी की यह दूसरी शादी थी और उनका पहले भी एक तलाक हो चुका है। आयशा ने शिखर धवन से तलाक के बाद एक के बाद एक कई पोस्ट कर अपने अनुभव और तकलीफों को बयां किया है।
आयशा ने अपने इंस्टाग्राम पोस्ट में तलाक को लेकर लिखा, ‘शब्दों के इतने शक्तिशाली अर्थ और जुड़ाव कैसे हो सकते हैं। मैं एक तलाकशुदा के रूप में इसका अनुभव पहले भी कर चुकी हूं। मैं अपने पहले तलाक से बहुत ज्यादा डर गई थी। मुझे लगा जैसे मैं असफल हो गई हूं और उस वक्त कितना गलत कर रही थी। आयशा ने आगे लिखा, ‘मुझे लगता था जैसे मैंने सभी को कितना नीचा दिखाया है और बहुत स्वार्थी होने जैसा महसूस किया। मुझे ऐसा लगता था जैसे मैंने अपने परिजनों को नीचा दिखाया है। अपने बच्चों को नीचा दिखाया है और यहां तक कि भगवान को भी नीचा दिखाया है। तलाक एक बहुत ही बुरा शब्द है.। उन्होंने लिखा, ‘अब जरा सोचिए, मुझे दूसरी बार इस रास्ते से गुजरना होगा। ये बड़ा डरावना है। पहली बार तलाक के अनुभव से मुझे महसूस हुआ कि दूसरी बार में भी मेरा बहुत कुछ दांव पर लगा हुआ है। मेरे पास साबित करने के लिए और भी बहुत कुछ था। मेरे लिए दूसरी शादी टूटना वाकई बेहद डरावना अनुभव था। इसका डर, असफलता और निराशा 100 गुना ज्यादा हैं। मेरे लिए इसके क्या मायने हैं? ये सब मुझे और मेरी शादीशुदा जिंदगी को कैसे परिभाषित करता है?’खैर, एक बार इस पड़ाव से गुजरकर जब मैं बैठ गई और खुद को देखने लगी तो लगा मैं ठीक हूं। दरअसल, मैं सही कर रही थी। ऐसा लगा जैसे मेरा पूरा डर ही गायब हो गया। मैं खुद को बड़ा ताकतवर महसूस करने लगी। मैंने महसूस किया कि डर और तलाक शब्द को मैंने जो अर्थ दिया था, वो मैंने खुद से किया था। इसलिए एक बार जब मुझे इसका एहसास हो गया तो मैंने तलाक शब्द और अनुभव को उस तरह से परिभाषित करना शुरू कर दिया, जिस तरह से मैं इसे देखना और अनुभव करना चाहती थी।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

हावड़ा में तृणमूल में आने के लिए भाजपा नेताओं की है लंबी लाइन : अरूप राय

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : राज्य में तृणमूल कांग्रेस की तीसरी बार सरकार बनने के बाद से भाजपा के कई बड़े नेताओं के सुर बदलने लगे। भाजपा आगे पढ़ें »

ऊपर