आर्टिकल 370 हटाने से आग-बबूला हुए शाहिद अफरीदी, गंभीर ने कहा- चिंता मत करो, हम जल्द ही गुलाम कश्मीर का भी हल निकला लेंगे

नई दिल्लीः भारतीय टीम के पूर्व सलामी बल्लेबाज और मौजूदा भाजपा सांसद गौतम गंभीर ने एक बार फिर पाकिस्तान के पूर्व हरफनमौला खिलाड़ी शाहिद अफरीदी को जम्मू कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने के बयान पर मुंहतोड़ जवाब दिया है। सोमवार को राज्यसभा में केंद्रीय गृहमंत्री ने जम्मू कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा छीने जाने और जम्मू-कश्मीर के साथ-साथ लद्दाख को नए केंद्रीय शासित प्रदेश बनाने की घोषणा की।
आजादी का अधिकार हैः अफरीदी
भारत में जम्मू-कश्मीर मुद्दे को लेकर चल रही बहस को लेकर पाकिस्तान टीम के पूर्व खिलाड़ी शाहिद अफरीदी ने  ट्वीट करते हुए लिखा था ‘कश्मीरियों को यूएन के प्रस्ताव के आधार पर उनके अधिकार दिए जाने चाहिए। हम सभी की तरह उन्हें भी आजादी का अधिकार है। यूएन का गठन क्यों किया गया है और वह क्यों सो रहा है ? कश्मीर में जो लगातार अकारण मानवता विरोधी आक्रमण हो रहे हैं। उस पर ध्यान दिया जाना चाहिए।’
ट्रंप को भी किया टैग
शाहिद अफरीदी ने अपनी इस पोस्ट में अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को भी टैग किया। डोनाल्ड ट्रंप को टैग करते हुए शाहिद अफरीदी ने लिखा ‘डोनाल्ड ट्रंप को इस मामले में जरूरी मध्यस्थ की भूमिका अदा करनी चाहिए।’ बता दें कि अमेरिका को पहले ही भारत ने दो टूक शब्दों में कहा था कि ये हमारा मामला है हम ही सुलझाएंगे। वहीं, गौतम गंभीर ने शाहिद अफरीदी को जवाब देते हुए कहा है कि चिंता ना करो बेटे, पीओके का भी हल निकलेगा।
हम पीओके का भी हल निकालेंगे : गंभीर
गौतम गंभीर ने अपने ट्वीट में शाहिद अफरीदी को टैग करते हुए लिखा है ‘शाहिद अफरीदी एक बार फिर हाजिर हैं। ‘अकारण आक्रमण’ ‘मानवता के खिलाफ अपराध’ है। यह बिल्कुल सही कह रहे हैं, लेकिन यह बताना भूल गए कि यह सब पाकिस्तान ऑक्यूपाइड कश्मीर (पीओके) में हो रहा है। चिंता मत करो, हम इसका भी हल निकालेंगे बेटा !!!’

शेयर करें

मुख्य समाचार

bengal

मालदा में पुल ढहने को लेकर भाजपा और तृणमूल ने एक-दूसरे पर साधा निशाना

मालदा : पश्चिम बंगाल के मालदा जिले में निर्माणाधीन पुल का एक हिस्सा ढहने की घटना को लेकर सोमवार को सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस और विपक्षी आगे पढ़ें »

shivsena

शिवसेना का तंज, ट्रंप के स्वागत के लिए मोदी ने शुरू की ‘गरीबी छुपाओ’ योजना

मुंबई : शिवसेना ने अपने मुखपत्र 'सामना' के संपादकीय में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के दो‌ दिवसीय भारत दौरे की तैयारियों की तुलना गुलाम हिंदुस्तान आगे पढ़ें »

ऊपर