बढेंगी आईपीएल टीमों की संख्या, लंदन में टीम फ्रेंचाइजी मालिकों ने की बैठक

IPL

लंदन : भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में टीमों की संख्या 8 से बढ़ाकर 10 करने पर विचार कर रहा है। इसके लिए आईपीएल के हितधारकों और फ्रेंचाइजी मालिकों के बीच लंदन में बैठक हुई। आईपीएल की नई टीमों में निवेश के लिए लिए टाटा (रांची, जमशेदपुर), अडाणी ग्रुप (अहमदाबाद), आरपीजी संजीव गोयनका (पुणे) जैसे व्यवसायी घरानों ने रुचि दिखाई है। गौरतलब है कि 2011 में खेले गए आईपीएल टूर्नामेंट में 10 टीमों ने भाग लिया ‌था।
दो टीमों ने किया किनारा
बता दें कि आईपीएल में 8 टीमें ‌हिस्सा लेती हैं। 2011 में कोच्चि और पुणे की फ्रेंचाइजी टीमें खेली थीं। कोच्चि टीम सिर्फ एक साल ही आईपीएल में खेल सकी ‌थी। वहीं कोच्चि फ्रेंचाइजी और बीसीसीआई के बीच अनुबंध संबंधित विवाद होने के कारण यह टीम ने खुद को टूर्नामेंट से अलग कर लिया ‌था। इसके बाद 2013 में सहारा समूह की पुणे वारियर्स ने भी आईपीएल से किनारा कर लिया।
फैसला लेने का हक बीसीसीआई को है
लंदन में हुई बैठक में भाग लेने वाली टीम के एक अधिकारी ने बताया कि ‘‘हमने टीमों की संख्या में वृद्धि के लिए जो चर्चा की है वह अनौपचारिक थी। इस मुद्दे पर फैसला लेने का हक बीसीसीआई को है। वहीं एक अन्य अधिकारी ने भी बैठक में आईपीएल के विस्तार पर चर्चा की पुष्टि की। अधिकारी ने कहा, ‘‘इस मुद्दे पर चर्चा हुई थी लेकिन यह अनौपचारिक थी। इस मुद्दे पर कैसे आगे बढ़ा जाए, इसकी कोई ठोस योजना नहीं है। ज्यादा टीमों का मतलब है कि ज्यादा मैच होंगे यानी टूर्नामेंट भी ज्यादा लंबे समय तक चलेगा।’’
टेंडर प्रक्रिया पर काम किया जा रहा है
प्राप्त जानकारी के अनुसार, दो नई टीमों को शामिल करने के लिए योजना तैयार हो चुकी है। अब टेंडर प्रक्रिया पर काम किया जा रहा है। इस बारे में बातचीत के लिए शनिवार को लंदन में वर्तमान टीमों के मालिक और अधिकारी मिले थे। इसमें माना गया कि दो नई टीमों के आने से आईपीएल को फायदा होगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

लोगों में पीओके की आजादी के लिये ‘जुनून’ है : ठाकुर

जम्मू : केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने सोमवार को कहा कि जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को समाप्त करने के बाद पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर आगे पढ़ें »

पिछले पांच-छह साल में बढ़े हैं दलितों पर अत्याचार : प्रशांत भूषण

नयी दिल्ली : भीम आर्मी द्वारा आयोजित संवाददाता सम्मेलन में सामाजिक कार्यकर्ता व वकील प्रशांत भूषण ने सोमवार को आरोप लगाया कि पिछले पांच-छह साल आगे पढ़ें »

ऊपर