आखिरकार क्या धोखा हुआ मैरीकॉम के साथ जो जीत बदली हार में

नई दिल्ली : दिग्गज मुक्केबाद एमसी मैरीकॉम की टोक्यो ओलंपिक 2020 में महिला फ्लाइवेट प्री-क्वार्टर फाइनल मुकाबले में करीबी संघर्ष के बाद हारने के साथ ही दूसरे ओलंपिक पदक के लिए पदक जीतने का सपना टूट गया। वह कड़े मुकाबले में कोलंबियाई खिलाड़ी इंग्रिट वालेंसिया से हार गईं। हालांकि मैरीकॉम ने मैच के बाद कहा कि अंपायर का फैसला दुर्भाग्यपूर्ण रहा। पदक की दावेदार मैरीकॉम अपने कोलंबियाई प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ विभाजित निर्णय से हार गईं, लेकिन छह बार की विश्व चैंपियन अंतिम परिणाम से दंग रह गईं क्योंकि 2 जजों ने इंग्रिट के पक्ष में फैसला सुनाया, जबकि दो जज भारतीय मुक्केबाज के साथ गए। दरअसल, भारतीय मुक्केबाज के खिलाफ 3 प्रयासों में इंग्रिट की यह पहली जीत है। वास्तव में, मैरीकॉम ने रिंग में विजेता की घोषणा से ठीक पहले अपना हाथ ऊपर उठा लिया था, इससे पहले कि इंग्रिट को विजेता घोषित किया जाता। 

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

दूसरे दिन भी न्यूटाउन व साल्टलेक के इलाकों में जमा रहा पानी

न्यूटाउन के ड्रेनेज सिस्टम पर लोगों ने उठाये सवाल कोलकाता के कुछ निचले इलाके भी रहे जलमग्न सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : रविवार देर रात से लगातार हो रही आगे पढ़ें »

ऊपर