फ्रांस- अर्जेंटीना के बीच होगा ‘ड्रीम फाइनल’

  • मोरक्को का विजयरथ रोक फ्रांस फाइनल में, अर्जेंटीना से फाइनल मुकाबला
  • फ्रांस ने 2-0 से हराकर मोरक्को का विजयरथ रोका, थियो हर्नांडिज और रैंडल कोलो मुआनी ने दागे गोल

दोहा : फ्रांस ने मोरक्को के विजयरथ पर रोक लगाते हुए एक बार फिर फुटबॉल के महासमर के खिताबी मुकाबले में जगह बना ली और दुनियाभर के फुटबॉल प्रेमियों को एक ‘ड्रीम फाइनल’ मिला। दर्शक दीर्घा में राष्ट्रपति एमैन्युअल मैकरोन की मौजूदगी में पू्र्व चैंपियन फ्रांस ने पहली बार सेमीफाइनल में पहुंचने वाली अफ्रीकी टीम मोरक्को को 2-0 से हराया। एमबाप्पे ने पांचवें मिनट में थियो हर्नांडिज और सब्स्टीटूट रेंडल कोलो मुआनी के गोल में सूत्रधार की भूमिका निभाई। फ्रांस के लिए दो गोल थियो हर्नांडिज ने 5वें और रैंडल कोलो मुआनी ने 79वें मिनट में किए। फ्रांस का सामना रविवार को अर्जेंटीना से होगा और उसकी नजरें 1962 में ब्राजील के बाद खिताब बचाने वाली पहली टीम बनने पर लगी होंगी। एमबाप्पे के पास 35 वर्ष के मेसी की टीम के खिलाफ चमत्कारिक प्रदर्शन करके फुटबॉल के महानतम खिलाड़ियों में अपना नाम दर्ज कराने का मौका होगा। एमबाप्पे 2018 में रूस में फ्रांस की खिताबी जीत के बाद फुटबॉल के सुपरस्टार बनकर उभरे थे। पिछले 15 साल से चले आ रहे मेसी और क्रिस्टियानो रोनाल्डो के दबदबे को उन्होंने चुनौती दी थी। उनके पास लगातार दो विश्व कप जीतने वाले पेले के करिश्मे को दोहराने का मौका होगा। कई मायनों में यह ‘ड्रीम फाइनल’ है जिसमें फ्रांस पिछले 60 साल में लगातार दूसरी बार खिताब जीतने वाली पहली टीम बनना चाहेगी तो अर्जेंटीना मेसी को उनके आखिरी विश्व कप का तोहफा खिताब के रूप में देने को लालायित होगी। मोरक्को को चोटिल डिफेंडर नायेफ अगुएर्ड की कमी खली और कप्तान रोमेस सेस भी 21 मिनट बाद हैमस्ट्रिंग की चोट के कारण बाहर हो गए। दोनों खिलाड़ियों का खेलना पहले ही संदिग्ध था लेकिन कोच ने उन्हें उतारने का जोखिम लिया। लेफ्ट बैक नूसैर माजराउइ भी फ्लू से जूझ रहे थे और हाफटाइम तक ही खेल सके। मोरक्को के पास 44वें मिनट में गोल करने का मौका था जब जावेद अल यामिक का हेडर पोस्ट से टकरा गया। फ्रांस को उन्हें रोकने के लिये डिफेंस में अपनी पूरी ताकत झोंकनी पड़ी। दूसरे हाफ में मोरक्को की टीम थकी हुई लगी जिससे फ्रांस की राह और आसान हो गई। एमबाप्पे ने दो डिफेंडरों को छकाते हुए मुआनी को गेंद सौंपी जो एक मिनट पहले ही मैदान पर उतरे थे। उनके गोल पर वीआईपी सीट पर बैठे राष्ट्रपति मैकरोन खड़े होकर जश्न मनाते नजर आये। बाद में उन्होंने लॉकर रूम में खिलाड़ियों को बधाई दी।
आखिरी मुकाबला मेसी बनाम एमबाप्पे
विश्व कप फाइनल में मुकाबला गोल्डन बूट के लिये भी होगा क्योंकि मेसी और एमबाप्पे दोनों के पांच-पांच गोल हैं। वहीं फाइनल मुकाबले के एक दिन पहले मोरक्को की टीम तीसरे स्थान के लिये क्रोएशिया से खेलेगी।
 दो या उससे ज्यादा बार लगातार फाइनल में पहुंचने वाली टीमें
इटली: 1934, 1938
ब्राजील: 1958, 1962
नीदरलैंड: 1974, 1978
जर्मनी: 1982, 1986, 1990
अर्जेंटीना: 1986, 1990
ब्राजील: 1994, 1998, 2002
फ्रांस: 2018, 2022

मोरक्को समर्थकों ने मचाया उत्पात

मोरक्को के समर्थक पूरे विश्व कप के दौरान अपनी हिंसक प्रवत्ति के कारण चर्चा में रहे हैं। सेमीफाइनल में टीम की हार के बाद भी मोरक्को के फैंस ने जमकर उत्पात मचाया। इस वजह से पूरे फ्रांस और बेल्जियम की राजधानी ब्रसेल्स में भारी पुलिस बल तैनात है। मोरक्को के करीब 100 प्रशंसकों ने ब्रसेल्स साउथ स्टेशन के पास पुलिस पर पटाखे और अन्य सामान फेंके। प्रशंसकों ने कचरे के थैलों और गत्ते के बक्सों को आग के हवाले कर दिया। हिंसा रोकने के लिए पुलिस ने वाटर कैनन और आंसू गैस का इस्तेमाल किया। पुलिस ने कई प्रशंसकों को हिरासत में भी लिया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

हाते खोड़ी कार्यक्रम के बाद ही दिल्ली पहुंचे राज्यपाल

परीक्षा पे चर्चा कार्यक्रम में वर्चुअल रूप से हुए शामिल, पीएम मोदी को सराहा सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता/नई दिल्ली : राज्यपाल डॉ. सी.वी. आनंदा बोस गुरुवार को हाते आगे पढ़ें »

हावड़ा-पुरी के बीच दौड़ेगी 8 कोच की नई मिनी वंदे भारत ट्रेन

हावड़ा : भारतीय रेलवे 2 रूटों पर मिनी वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन चलाने चल रही है। हावड़ा-न्यूजलपाईगुड़ी के बाद अब रेलवे मंत्रालय अगले महीने से आगे पढ़ें »

ऊपर