आईपीएल मैच में जीत का श्रेय राजस्थान के गेंदबाजों को जाता है : धोनी

शारजाह: चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान महेंद सिंह धोनी ने राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ मिली हार के बाद कहा है कि जीत का श्रेय राजस्थान के गेंदबाजों को जाता है। राजस्थान ने संजू सैमसन के 74 रन की तूफानी पारी तथा स्मिथ की 69 रन की सधी हुई पारी की बदौलत 216 रन का मजबूत स्कोर खड़ा किया था।

चेन्नई की दो मैचों में यह पहली हार है
चेन्नई की ओर से फाफ डू प्लेसिस ने 72 रन की पारी खेल टीम को जीत दिलाने की कोशिश की लेकिन सफल नहीं हो सके और राजस्थान के गेंदबाजों ने चेन्नई को 20 ओवर में छह विकेट पर 200 रन के स्कोर पर रोक कर मैच 16 रन से जीत लिया। धोनी ने राजस्थान रॉयल्स की प्रशंसा करते हुए कहा, ‘217 रन के बड़े लक्ष्य का पीछा करने के लिए हमें मजबूत शुरुआत की जरुरत थी जो इस स्कोर के हिसाब से सही नहीं थी। स्टीव स्मिथ और संजू सैमसन ने काफी शानदार बल्लेबाजी की। लेकिन हमें जीत का श्रेय उनके गेंदबाजों को देना होगा।’ उन्होंने कहा, ‘पहली पारी को देखकर गेंद की लेंग्थ का अंदाजा लगाया जा सकता था। स्पिनर अच्छा कर सकते थे। हमारे स्पिन गेंदबाजों ने कुछ गलतियां की। अगर हम राजस्थान को 200 रन के स्कोर तक रोकने में सफल होते तो यह एक अच्छा मुकाबला होता।’

ऊपरी क्रम में बल्लेबाजी के लिए नहीं उतरने पर कप्तान ने स्पष्ट किया, ‘मैंने लंबे समय से बल्लेबाजी नहीं की थी और 14 दिनों के क्वारेंटीन पीरियड से कोई मदद नहीं मिली। इसके अलावा मैं कुछ अलग करना चाहता था और सैम करेन को अवसर देना चाहता था।’ उन्होंने कहा, ‘आपके पास अलग चीजें करने के अवसर होते हैं और अगर आप इसमें सफल नहीं होते तो आपको अपनी मजबूती देखनी होती है। डू प्लेसिस ने काफी शानदार बल्लेबाजी कर पारी को संभाला जैसा एक बल्लेबाज करता है। उन्होंने स्कवायर लेग को नजरअंदाज किया और लांग-ऑन और लांग-ऑफ की ओर खेला।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

मालाबार नौसेना युद्धाभ्यास में ऑस्ट्रेलिया भी शामिल, भारत होगा लाभान्वित

भारत ने ऑस्ट्रेलिया को मालाबार अभ्यास में हिस्सा लेने का निमंत्रण भेजा है जो क्वाड को एक विशाल उन्नयन देगा चार महाशक्ति लोकतंत्रों के अंतर्राष्ट्रीय एकीकरण आगे पढ़ें »

24 साल पुराने तिहरे हत्याकांड के 15 दोषियों को आज मिली सजा

फतेहपुर (उप्र) : जिले की एक अदालत ने 24 साल पहले हुए तिहरे हत्याकांड में दोषी पाए गए 15 दोषियों को उम्रकैद की सजा सुनाने आगे पढ़ें »

ऊपर