भारत लौटने से पहले विराट कोहली ने टीम इंडिया को दिया जीत का मंत्र

एडीलेड : भारतीय कप्तान विराट कोहली मंगलवार को पैटरनिटी लीव के लिए ऑस्ट्रेलिया से भारत के लिए रवाना हो गये। 4 मैचों की टेस्ट सीरीज के पहले मुकाबले में करारी हार झेल चुकी भारतीय टीम अब बाकी मैच विराट की जगह अजिंक्य रहाणे की कप्तानी में खेलेगी। भारत रवाना होने से पहले उन्होंने टीम इंडिया को सक्सेस मंत्र दिया। उन्होंने टीम को हिदायत दी कि वे पिछली हार को भूलकर आने वाले मैचों पर फोकस करें, खुद पर भरोसा रखें और आगे बढ़े। सूत्रों के मुताबिक, ऑस्ट्रेलिया से उड़ान भरने से पहले कोहली ने टीम के साथियों से मुलाकात की और श्रृंखला के बाकी बचे मैचों में अच्छा करने के लिए प्रोत्साहित किया। कोहली ने टीम के मीटिंग की। मीटिंग में उन्होंने रहाणे को आधिकारिक तौर पर टीम की कप्तानी सौंपी। उन्होंने पिंक बॉल टेस्ट के बाद टीम के खिलाड़ियों का हौसला बढ़ाया और यंग टैलेंट से खुद को साबित करने की बात कही। बता दें कि भारतीय टीम एडीलेड में आठ विकेट की करारी शिकस्त के बाद श्रृंखला में 1-0 से पीछे चल रही है। कोहली को बीसीसीआई से काफी समय पहले ही पितृत्व अवकाश मिल गया था। कोहली के साथ टीम की बातचीत का आयोजन करने का मकसद खिलाड़ियों का आत्मविश्वास बढ़ाना था ताकि वे मेलबर्न में खेले जाने वाले बॉक्सिंग डे (26 दिसंबर से) टेस्ट मैच के लिए सकारात्मक मानसिकता के साथ मैदान में उतरे।

तीसरे मैच में टीम के साथ जुड़ेंगे रोहित 

रोहित शर्मा तीसरे टेस्ट मैच से टीम के साथ जुड़ सकते हैं। रोहित फिलहाल सिडनी में क्वारंटाइन हैं। दूसरी ओर भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने भी स्पष्ट किया है कि रोहित सिडनी में ही क्वारंटाइन पूरा करेंगे। टीम मैनेजमेंट उनसे संपर्क में है। वे बायो-सिक्योर माहौल में है और सुरक्षित हैं। सिडनी में कोरोना के नए मामले सामने आए हैं। इसके बाद वे अभ्यास कर सकते हैं।

विराट कोहली की कमी खलेगी : स्मिथ
ऑस्ट्रेलिया के करिश्माई बल्लेबाज स्टीवन स्मिथ का मानना है कि टीम इंडिया के नियमित कप्तान विराट कोहली का टीम में नहीं होना भारत के लिए नुकसान भरा होगा। हालांकि उन्होंने विराट के स्वदेश लौटने के निर्णय की सराहना की। स्मिथ ने कहा कि मुझे यकीन है कि उनके ऊपर ऑस्ट्रेलिया दौरा पूरा करने का दबाव होगा लेकिन वह अपने फैसले पर अडिग रहे और उन्होंने पहले बच्चे के जन्म के कारण घर जाने का निर्णय लिया। इस फैसले के लिए उनकी सराहना की जानी चाहिए। पहले टेस्ट में हार के बाद अन्य मुकाबले से पहले विराट का टीम में नहीं होना भारत के लिए बड़ा नुकसान है। उन्होंने पहले टेस्ट की पहली पारी में अच्छी बल्लेबाजी की थी। हम चाहते हैं कि वे पहले बच्चे के जन्म के समय अपनी पत्नी और परिवार के साथ रहें। हालांकि बचे मैचों में हम उन्हें मिस करेंगे।

इस साल विराट के बल्ले से नहीं निकला कोई शतक
भारतीय कप्तान और रन मशीन विराट कोहली के शानदार करियर में 12 वर्षों के लंबे अंतराल के बाद एक कैलेंडर वर्ष में किसी भी प्रारूप में कोई शतक नहीं निकला। विराट ऑस्ट्रेलिया दौरे में चार टेस्टों की सीरीज का पहला टेस्ट खेलने के बाद मंगलवार को एडिलेड से स्वदेश के लिए रवाना हो गए। भारत के सबसे सफल टेस्ट कप्तान विराट को एडिलेड में खेले गए पहले दिन-रात्रि टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया के हाथों आठ विकेट से हार का सामना करना पड़ा। इस मैच की दूसरी पारी में भारतीय टीम अपने इतिहास के न्यूनतम स्कोर 36 रन पर ढेर हो गयी थी। भारतीय कप्तान विराट जनवरी में अपने पहले बच्चे के जन्म के कारण स्वदेश लौट रहे हैं। विराट के शानदार करियर में 12 वर्षों के लंबे अंतराल के बाद यह पहला मौका है जब उनके बल्ले से एक कैलेंडर वर्ष में कोई शतक नहीं निकला है। विराट ने अपने वनडे करियर की शुरुआत 2008 में की थी और उस साल उन्होंने पांच वनडे खेले थे लेकिन कोई शतक नहीं बनाया था। विराट ने इसके बाद हर वर्ष में शतक बनाए। 2020 ही ऐसा साल है, जिसमें विराट वनडे या टेस्ट प्रारूप में कोई शतक नहीं बना पाए। कोरोना प्रभावित 2020 में विराट ने नौ वनडे खेले और 431 रन बनाये। इस साल उनका सर्वाधिक स्कोर 89 रन रहा।

पांच गेंदबाजों के साथ उतरे भारत : गंभीर
पूर्व भारतीय बल्लेबाज गौतम गंभीर ने बॉक्सिंग डे टेस्ट में पांच गेंदबाजों के साथ उतरने की सलाह दी है। उन्होंने कहा कि मेलबर्न में भारत को पांच गेंदबाजों के साथ उतरना चाहिए। इससे टीम को मजबूती मिलेगी। मैं सबसे पहले रहाणे को नंबर चार पर बैटिंग करते हुए देखना चाहता हूं। अगर वे गिल, राहुल और विहारी को आगे भेजते हैं, तो इससे नकारात्मक संदेश जाएगा। रहाणे को 5 गेंदबाजों के साथ मैच में उतरना चाहिए। वहीं रविंद्र जडेजा भी शानदार फॉर्म में हैं। टीम इंडिया के पास 3 पेस बॉलर और अश्विन के रूप में एक स्पिनर होगा, जो किसी भी परिस्थिति से निपटने में सक्षम हैं। ऑस्ट्रेलिया के पास स्टीव स्मिथ, मार्नस लाबुशाने, ट्रेविस हेड और टिम पेन जैसे बल्लेबाज हैं। इसलिए भारत को 5 गेंदबाजों के साथ उतरना चाहिए। इसमें दो स्पिनर को भी शामिल किया जाना चाहिए। रविंद्र जडेजा पांचवे बॉलर के रूप में एक बेहतर विकल्प हो सकते हैं। हमेशा 400 रन नहीं बन सकता। इसलिए ईशांत शर्मा की गैरमौजूदगी में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मैच में उमेश यादव को प्लेइंग इलेवन में शामिल करना चाहिए।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

अब्बास को लेकर चल रहा है विचार-विमर्स : अधीर

बारासात : माकपा नेता सूर्यकांत मिश्र के बाद अब प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी ने भी फुरफुरा शरीफ के पीरजादा अब्बास सिद्दिकी को लेकर आगे पढ़ें »

लगातार 3 दिन से किसी संक्रमित ने नहीं तोड़ा दम, 144 नए मामले

रांची : झारखंड में कोरोना वायरस के 144 नए मरीजों की पुष्टि के बाद गुरुवार को कुल मामले 1,17,384 हो गए। राज्य में लगातार तीसरे आगे पढ़ें »

ऊपर