ऑस्ट्रेलियन ओपन : सेरेना, जोकोविच, नडाल की नजरें इतिहास बनाने पर

मेलबर्न : साल का पहला ग्रैंडस्लैम ऑस्ट्रेलियाई ओपन सोमवार को जब यहां शुरू होगा तो सेरेना विलियम्स, नोवाक जोकोविच और राफेल नडाल जैसे शीर्ष खिलाड़ियों की नजरें चैम्पियन बनने के साथ रिकार्ड बुक में नाम दर्ज करने पर टिकी होगी। पिछले साल अक्टूबर में फ्रेंच ओपन खिताब जीत कर दिग्गज रोजर फेडरर के पुरुष एकल में 20 ग्रैंडस्लैम खिताब की बराबरी करने वाले नडाल अपने खिताबों की संख्या 21 कर इस तालिका में शीर्ष पर पहुंचना चाहेंगे। उनके पास हर ग्रैंडस्लैम को कम से कम दो बार जीतने वाला पहला खिलाड़ी बनने का भी मौका होगा। फेडरर घुटने के ऑपरेशन के कारण इस टूर्नामेंट में भाग नहीं ले रहे है। नडाल भी पीठ दर्द की समस्या से परेशान है लेकिन उन्हें उम्मीद है कि वे इससे निपट लेंगे। नडाल अपने अभियान का आगाज टूर्नामेंट के दूसरे दिन मंगलवार से करेंगे तो वहीं जोकोविच और सेरेना सोमवार को अपना पहला मैच खेलेंगे। 23 ग्रैंडस्लैम खिताब जीत चुकी सेरेना लंबे समय से मार्गरेट कोर्ट के सबसे अधिक महिला गैंडस्लैम (एकल में 24 खिताब) रिकार्ड की बराबरी करने की कोशिश में लगी है।

ग्रैंडस्लैम के मुख्य ड्रॉ में अंकिता ने बनाई जगह
अंकिता रैना को ऑस्ट्रेलियाई ओपन के महिला युगल के ड्रॉ में जगह मिली है। इस तरह से वह किसी ग्रैंडस्लैम के मुख्य ड्रॉ में जगह बनाने वाली तीसरी भारतीय महिला टेनिस खिलाड़ी बन गयी है। वर्ष का पहला ग्रैंडस्लैम टूर्नामेंट सोमवार से शुरू होगा। अंकिता महिला एकल के मुख्य ड्रॉ में जगह नहीं बना पायी लेकिन उनके पास पहले दौर के मैच समाप्त होने से पहले तक ‘लकी लूजर’ के तौर पर क्वालीफाई करने का मौका रहेगा। अंकिता ने कहा कि यह ग्रैंडस्लैम का मेरा पहला मुख्य ड्रॉ है इसलिए यह एकल है या युगल मैं इससे खुश हूं। कई वर्षों की कड़ी मेहनत के बाद मैं यहां तक पहुंची हूं। केवल कड़ी मेहनत ही नहीं बल्कि लोगों के सहयोग और आशीर्वाद से भी मैं यहां पहुंच पायी हूं। मैं इसे नहीं भूल सकती। पहले उन्होंने ड्रॉ में अपना नाम नहीं देखा तो उन्हें काफी निराशा हुई। मुझे इस पर विश्वास नहीं हुआ। मुझे ड्रॉ में अपना नाम नहीं दिखा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

शुक्रवार के दिन इस तरह करें मां लक्ष्मी को प्रसन्न, घर में आएगी धन और समृद्धि

कोलकाता : आज शुक्रवार है और आज के दिन लक्ष्मी मां के स्वरूपों की पूजा की जाती है। मान्यता है कि अगर माता लक्ष्मी प्रसन्न आगे पढ़ें »

एक ताले से मिट जाएगी गरीबी, बस शुक्रवार के दिन करना होगा ये काम

कोलकाताः दुनिया में आधे दुख की जड़ गरीबी को कहा जाता है। इसी वजह से हर कोई खुद को आर्थिक रूप से हमेशा मजबूत रखना आगे पढ़ें »

ऊपर