अमित पंघाल विश्व चैम्पियनशिप के फाइनल मुकाबले में पहुंचने वाले प्रथम भारतीय पुरूष

Amit Panghal

नई दिल्ली : भारतीय मुक्केबाज अमित पंघाल ने शुक्रवार को कजा‌खिस्तान के साकेन बिबोसिनोव को हराकर 52 किलोग्राम भार वर्ग के विश्व चैम्पियनशिप के फाइनल मुकाबले में जगह बना लिया है। बता दें कि चैम्पियनशिप का मुकाबला रूस के एकातेरिनबर्ग में हो रहा है। इस मुकाबले में अमित ने 3-2 से जीत हासिल किया। अमित विश्व चैम्पियनशिप के फाइनल में पहुंचने वाले पहले भारतीय पुरुष मुक्केबाज हैं। इस प्रतियोगिता का फाइनल मुकाबल शनिवार को होगा, जिसमें अमित का सामना उज्बेकिस्तान के शाखोबिदिन जोइरोव से होगा। वहीं मनीष कौशिक को 63 किलोग्राम भार वर्ग सेमीफाइनल मुकाबले में क्यूबा के एंडी क्रूज से हार का सामना करना पड़ा, इस मुकाबले में उन्हें कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा।

चैम्पियनशिप में भारत को पहली बार मिला दोहरा पदक

भारत ने कभी भी विश्व चैम्पियनशिप के एक चरण में एक से ज्यादा कांस्य पदक हासिल नहीं किये हैं, लेकिन पंघाल और मनीष कौशिक ने सेमीफाइनल में पहुंचकर इसे बदल दिया। इससे पहले विजेंदर सिंह (2009), विकास कृष्ण (2011), शिव थापा (2015) और गौरव बिधुड़ी (2017) ने विश्व चैम्पियनशिप में कांस्य पदक पर अपना कब्जा जमाया था। बता दें कि अमित इससे पहले एशियन प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक अपने नाम कर चुके है।

मित्रों का शक्रगुजार हूं – अमित

अमित ने जीत के बाद कहा कि यह मुकाबला मेरे लिए अच्छा रहा, हालांकि मैंने जितना सोचा था मुझे उससे ज्यादा जोर लगाना पड़ा। यह भारतीय मुक्केबाजी के लिए बड़ी उपलब्धि है। साथ ही उन्होंने कहा कि इस उपलब्धि को प्राप्त करने में मेरे मित्रों का बहुत समर्थन मिला, मैं उनका शुक्रगुजार हूं। अमित ने कहा कि मैं स्वर्ण पदक जीतने की पूरी कोशिश करूंगा। पंघाल ने अपनी तेजी और परिस्थितियों के मुताबिक प्रदर्शन के बदौलत अपने से लंबे कजाखिस्तानी मुक्केबाज को पस्त किया जो क्वार्टरफाइनल में अर्मेनिया के मौजूदा यूरोपीय स्वर्ण पदकधारी आर्टर होवहानिस्यान को हराकर यहां तक पहुंचा था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

hongkong

हांगकांग ‘लोकतंत्र अधिनियम’ पारित, चीन ने दी कड़ी प्रतिक्रिया

वाशिंगटन : हांगकांग में लोकतंत्र समर्थक प्रदर्शनकारियों की मांग वाले एक विधेयक को अमेरिकी प्रतिनिधि सभा ने मंगलवार को पारित कर दिया, जिसका उद्देश्य उस आगे पढ़ें »

रतन टाटा खुद को मानते हैं ‘एक्सीडेंटल स्टार्टअप निवेशक’, कई बड़ी कंपनियों में है हिस्सेदारी

नई दिल्ली : उद्योगपति और टाटा समूह के चेयरमैन रतन टाटा ने खुद को 'एक्सीडेंटल स्टार्टअप निवेशक' माना है। उन्होंने दर्जनभर से ज्यादा स्टार्टअप कंपनियों आगे पढ़ें »

court

अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने 40 दिन की सुनवाई के बाद फैसला सुरक्षित रखा

ayodhya

अयोध्या मामला : मुस्लिम धर्मगुरुओं ने कहा, शीर्ष न्यायालय के फैसले को स्वीकार किया जाना चाहिए

अमेरिकी प्रतिबंधों के पालन के लिए भारत अपना नुकसान नहीं करेगा: वित्त मंत्री

russia

तुर्की और सीरिया की लड़ाई में रूस बना दीवार, तैनात की अपनी आर्मी

sitaraman

अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के बाद ‘मानवाधिकार’ विश्व स्तर पर ज्वलंत शब्द बन गया : सीतारमण

chetak

बजाज ने पेश किया इलेक्ट्रिक चेतक स्कूटर, सामने आया पहला लुक

rail

रेलवे ने शुरू की नई योजना, अब फिल्म प्रमोशन के लिए हो सकेगी ट्रेनों की बुकिंग

modi

पीएम मोदी बोले- राष्ट्र निर्माण का आधार है सावरकर के संस्कार

ऊपर