अक्षर-पटेल और रविंद्र-जडेजा मिलाकर बने भारत-न्यूजीलैंड के चार खिलाड़ी, आईसीसी ने साझा की तस्वीर

इस तस्वीर को सोशल मीडिया पर भी काफी पसंद किया जा रहा है। जडेजा दूसरा टेस्ट चोट की वजह से नहीं खेले थे। वहीं, रचिन ने कानपुर में टेस्ट डेब्यू किया था।
भारत ने न्यूजीलैंड को मुंबई में खेले गए दूसरे टेस्ट में 372 रन से हराकर सीरीज 1-0 से अपने नाम कर ली। इस सीरीज में कई अविश्वसनीय पल भी देखने को मिले। कीवी गेंदबाज एजाज पटेल ने एक ही पारी में भारत के सभी 10 विकेट चटकाए।
टेस्ट में कई ऐतिहासिक मौके देखने को मिले
रविचंद्रन अश्विन और अक्षर पटेल ने कई मौके पर अकेले दम पर विकेट लेकर मैच पलटा। साथ ही न्यूजीलैंड के ऑलराउंडर रचिन रवींद्र कानपुर टेस्ट में विकेट पर जमे रहे और भारत को मैच नहीं जीतने दिया। भारत के रवींद्र जडेजा ने भी कानपुर टेस्ट में ऑलराउंड प्रदर्शन किया था।
आईसीसी ने शेयर की शानदार तस्वीर
अब सीरीज खत्म होने के बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट काउंसिल ने एक शानदार तस्वीर साझा की है। इसमें इस टेस्ट सीरीज के चार हीरो एक साथ नजर आ रहे हैं। ये खिलाड़ी अक्षर पटेल, एजाज पटेल, रचिन रवींद्र और रवींद्र जडेजा हैं। इन्हें एक पंक्ति में खड़ा किया गया है। यह इन दोनों देशों के अच्छे खेल भावना को भी दर्शा रहा है।
एक पंक्ति में खड़े हैं चारों खिलाड़ी
जैसे अक्षर की जर्सी पर अक्षर लिखा है और उनके बगल में पटेल की जर्सी में एजाज हैं। वहीं, रचिन की जर्सी पर रचिन लिखा है और बगल में जडेजा रवींद्र की जर्सी में खड़े हैं। तो यह अक्षर-पटेल और रचिन-रवींद्र बन गए। इस मजेदार तस्वीर को बीसीसीआई ने भी शेयर किया है। रचिन और जडेजा दोनों की जर्सी नंबर भी एक जैसी है। दोनों 8 नंबर की जर्सी पहनते हैं।
फैंस को खूब पसंद आ रही है तस्वीर
इस तस्वीर को सोशल मीडिया पर भी काफी पसंद किया जा रहा है। जडेजा दूसरा टेस्ट चोट की वजह से नहीं खेले थे। वहीं, रचिन ने कानपुर में टेस्ट डेब्यू किया था। उनका नाम रचिन राहुल द्रविड़ और सचिन तेंदुलकर के नाम को मिलाकर रखा गया था। रचिन के माता-पिता को द्रविड़ और सचिन काफी पसंद थे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

प्रदेश भाजपा का अध्यक्ष बनाया जा सकता है शुभेंदु को

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : प्रदेश भाजपा में नये और पुराने के बीच की गुटबाजी कोई नयी बात नहीं रह गयी है। गत वर्ष विधानसभा चुनाव में आगे पढ़ें »

ऊपर