1983 वर्ल्ड कप जीतने वाली टीम को देने के लिए पैसे नहीं थे बीसीसीआई के पास

नयी दिल्ली : आज भारतीय क्रिकेटर करोड़ों में खेलते हैं लेकिन 1983 में पहली बार विश्वकप जीतने वाली कपिल देव की टीम को पुरस्कार राशि देने के लिए भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के पास पैसे नहीं थे। भारत ने 25 जून 1983 को शक्तिशाली वेस्ट इंडीज को ऐतिहासिक लॉर्ड्स मैदान में हराकर पहली बार विश्व चैंपियन बनने का गौरव हासिल किया था। भारत की विश्व कप जीत के 25 साल पूरे होने पर जून 2008 में विजेता भारतीय टीम के लिए राजधानी दिल्ली में हुए एक सम्मान समारोह में 1983 के बीसीसीआई अध्यक्ष एन के पी साल्वे ने दिलचस्प खुलासा किया था कि किस तरह विश्वकप जीतने के बाद भारतीय खिलाड़ियों ने पुरस्कार राशि के लिए उनका जीना मुहाल कर दिया था। भारत ने 1983 में पहली बार जब विश्वकप जीता था तब एन केपी साल्वे बीसीसीआई के अध्यक्ष थे और टीम के सीनियर सदस्य सुनील गावस्कर इस खिताबी जीत के बाद साल्वे से पुरस्कार राशि के बारे में जानने के लिए पहुंचे थे। लेकिन जब साल्वे के बोलने की बारी आयी तो उन्होंने शुरू में ही कह दिया कि वह हिन्दी में अपनी बात रखेंगे। तत्कालीन बोर्ड अध्यक्ष साल्वे ने 1983 की जीत को याद करते हुए कहा कि 25 आईपीएल जीत भी विश्वकप जीतने के जोश और जुनून की बराबरी नहीं कर सकते।

शेयर करें

मुख्य समाचार

पीसीबी को नहीं मिल रहा कोई प्रायोजक

कराची : कोरोना वायरस महामारी के आर्थिक दुष्प्रभावों का सामना पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड को भी करना पड़ रहा है जिसे इंग्लैंड में मौजूद राष्ट्रीय टीम आगे पढ़ें »

लगातार सातवीं जीत से रीयाल मैड्रिड ला लिगा खिताब के करीब

मैड्रिड : सर्गियो रामोस के दूसरे हाफ में पेनल्टी पर किये गये गोल की मदद से रीयाल मैड्रिड ने एथलेटिक बिलबाओ को 1-0 से हराकर आगे पढ़ें »

कड़ी मेहनत के बदौलत तेज गेंदबाजी में मजबूत हुआ भारत : गांगुली

टी20 विश्व कप का टलना तय, ऑस्ट्रेलियाई टीम को इंग्लैंड सीरीज के लिये कहा गया

यूएई और श्रीलंका के बाद अब न्यूजीलैंड ने आईपीएल की मेजबानी का ऑफर दिया

गृहमंत्रालय ने कॉलेज और प्रोफेशनल संस्थानों को फाइनल ईयर की परीक्षा कराने को दी मंजूरी

बंगाल में कोरोना का कहर जारी आज फिर आये 800 के पार मामले, 22 की हुई मौत

डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी के सपनों का बंगाल बनाना, उन्हें होगी सच्ची श्रद्धांजलि : राज्यपाल धनखड़

कोलकाता के नजदीक सौर पेड़ से रौशन होंगी पगडंडियां, पार्क

बंगाल में बने ऐप को ममता ने किया पेश कहा – यह देशभक्ति की पहचान

ऊपर