हरभजन ने की पीएम मोदी से अपील

नई दिल्लीः भारत के सीनियर क्रिकेटर हरभजन सिंह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तथा दिल्ली, पंजाब और हरियाणा के मुख्यमंत्रियों से उत्तर भारत में वायु प्रदूषण में कमी लाने व इसके नियंत्रण के लिये कोई ठोस तरीका ढूंढने की अपील की है।
हाल में राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) बेहद खतरनाक स्थिति में पहुंच गया था तथा कुछ स्थानों पर यह 999 तक चला गया जो कि आम आदमी के स्वास्थ्य के लिये बेहद हानिकारक है। दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में लोक स्वास्थ्य को लेकर आपात स्थिति घोषित कर दी गयी और स्कूल मंगलवार तक बंद कर दिये गये।
हरभजन ने ट्विटर पर एक वीडियो प्रेषित करके यह अपील की है। उन्हों

अपने ट्वीट में यह कहा

हरभजन ने  कहा, ‘‘मैं उत्तर भारत में प्रदूषण के बारे में बात करना चाहता हूं। हम सभी इसका कारण हैं और मैं भी इनमें शामिल हूं। हम जो गाड़ियां चलाते हैं उससे वातावरण दूषित होता है। इसके अलावा पिछले कुछ वर्षों से हमें पता चला है कि पराली जलाने से हवा काफी दूषित हो जाती है। ’’ उन्होंने आगे कहा, ‘‘यह प्रत्येक बच्चे या उस जगह पर रहने वाले लोगों के लिये खतरनाक है। ऐसा भी पता चला है कि अगर यही हालात रहे तो उम्र सात से दस साल कम हो जाएगी। हमें इस पर कार्रवाई करनी होगी।’’
हरभजन ने कहा, ‘‘मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से आग्रह करता हूं। मैं दिल्ली, पंजाब और हरियाणा के मुख्यमंत्रियों से आग्रह करता हूं कि वे प्रधानमंत्री मोदी से मिलें। आपको किसानों और हर जीव जंतु को ध्यान में रखकर ऐसा उपाय ढूंढना होगा जिससे सब का भला हो। मैं चाहूंगा कि यह बैठक जल्द से जल्द हो। ’’ इस आफ स्पिनर ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री जी कृपा करके इसको अपना समय दीजिये और हमें रास्ता दिखाइये कि भारत को स्वच्छ के साथ स्वस्थ भारत भी कैसे बनाया जा सकता है। अपने वातावरण को साफ सुथरा बनाने के लिये हम सब आपके साथ हैं। हम अपनी तरफ से हर तरह का योगदान देंगे।’’

शेयर करें

मुख्य समाचार

Jagdip Dhankhar

धनखड़ के खिलाफ विधान सभा से संसद तक मोर्चाबंदी

कोलकाता : ऐसा पहली बार हुआ है जब विधानसभा में सत्ता पक्ष ने धरना दिया। कारण थे राज्यपाल जगदीप धनखड़, जिन पर विधेयकों को मंजूरी आगे पढ़ें »

मेरे कंधे पर बंदूक रखकर चलाने की को​शिश न करें – धनखड़

कोलकाता : राज्यपाल जगदीप धनखड़ और तृणमूल सरकार के बीच संबंधों में मंगलवार को और खटास आ गयी जब उन्होंने ‘कछुए की गति से काम आगे पढ़ें »

ऊपर