सौरव गांगुली ने कहा – मुख्‍य कोच के लिए शास्त्री सही व्‍यक्‍ति, मगर वे अपनी क्षमता साबित करें

नयी दिल्‍ली : सौरव गांगुली ने टीम इंडिया के हेड कोच के लिए रवि शास्त्री के चयन को सही बताया। गांगुली के मुताबिक, शास्त्री का चयन बिल्कुल सही है, लेकिन अब दो विश्‍व कप हमारे सामने हैं। उन्हें ये साबित करना होगा कि इस पद के लिए उनका चुनाव हर मायने में सही है। 2016 में गांगुली ने शास्त्री के बजाए अनिल कुंबले को भारतीय टीम का कोच बनाने का समर्थन किया था। हालांकि, इस बार जब शास्त्री को दो साल के लिए फिर मुख्‍य कोच की जिम्मेदारी दी गई तो सौरव ने उनका समर्थन किया। गांगुली ने कहा, “भारतीय टीम के कोच के लिए रवि बिल्कुल सही व्यक्ति हैं। हालांकि, ज्यादा विकल्प भी नहीं थे। बहुत कम लोगों ने इस पद के लिए दावेदारी पेश की थी। शास्त्री पांच साल से टीम के कोच हैं। उनको कार्यकाल दो साल बढ़ाया गया है। मुझे नहीं लगता कि पहले किसी को इतना लंबा कार्यकाल मिला होगा। अब उनको खुद को साबित करना होगा। 2021 में टी-20 विश्‍व कप भी है। भारत को जीत की जरूरत है।” शास्त्री टीम निदेशक भी रह चुके हैं। शास्त्री को बतौर कोच खुद को साबित करने के लिए चार बड़े मौके मिले- दक्षिण अफ्रीका, इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज और फिर विश्‍व कप, लेकिन इन 4 में से 3 मिशन में वे फेल रहे। टीम दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड में टेस्ट सीरीज नहीं जीत सकी। पिछले दिनों खत्म हुए विश्‍व कप के फाइनल में भी टीम जगह नहीं बना सकी। उनकी एक बड़ी उपलब्धि ऑस्ट्रेलिया में टीम को पहली बार टेस्ट सीरीज में जीत दिलाना है। शास्त्री 2014-2016 तक टीम के डायरेक्टर रहे। 2017 में उन्हें टीम का कोच बनाया गया। हालांकि, वर्ल्ड कप सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड के हाथों मिली हार के बाद उनके कोच पद पर बने रहने पर सवाल उठ रहे थे। 2023 का वनडे विश्व कप तो अभी दूर है मगर शास्त्री की अगुआई में 2021 का टी20 विश्व कप जीतना निश्चित रूप से टीम का लक्ष्य हो सकता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

hongkong

हांगकांग ‘लोकतंत्र अधिनियम’ पारित, चीन ने दी कड़ी प्रतिक्रिया

वाशिंगटन : हांगकांग में लोकतंत्र समर्थक प्रदर्शनकारियों की मांग वाले एक विधेयक को अमेरिकी प्रतिनिधि सभा ने मंगलवार को पारित कर दिया, जिसका उद्देश्य उस आगे पढ़ें »

रतन टाटा खुद को मानते हैं ‘एक्सीडेंटल स्टार्टअप निवेशक’, कई बड़ी कंपनियों में है हिस्सेदारी

नई दिल्ली : उद्योगपति और टाटा समूह के चेयरमैन रतन टाटा ने खुद को 'एक्सीडेंटल स्टार्टअप निवेशक' माना है। उन्होंने दर्जनभर से ज्यादा स्टार्टअप कंपनियों आगे पढ़ें »

court

अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने 40 दिन की सुनवाई के बाद फैसला सुरक्षित रखा

ayodhya

अयोध्या मामला : मुस्लिम धर्मगुरुओं ने कहा, शीर्ष न्यायालय के फैसले को स्वीकार किया जाना चाहिए

अमेरिकी प्रतिबंधों के पालन के लिए भारत अपना नुकसान नहीं करेगा: वित्त मंत्री

russia

तुर्की और सीरिया की लड़ाई में रूस बना दीवार, तैनात की अपनी आर्मी

sitaraman

अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के बाद ‘मानवाधिकार’ विश्व स्तर पर ज्वलंत शब्द बन गया : सीतारमण

chetak

बजाज ने पेश किया इलेक्ट्रिक चेतक स्कूटर, सामने आया पहला लुक

rail

रेलवे ने शुरू की नई योजना, अब फिल्म प्रमोशन के लिए हो सकेगी ट्रेनों की बुकिंग

modi

पीएम मोदी बोले- राष्ट्र निर्माण का आधार है सावरकर के संस्कार

ऊपर