सुल्तान जोहोर कप : भारतीय जूनियर हाकी टीम ने न्यूजीलैंड को 8-2 से रौंदा

जोहोर बाहरू : संजय के दो गोल तथा अन्य खिलाड़ियों के शानदार प्रदर्शन से भारतीय जूनियर हाकी टीम ने सुल्तान जोहोर कप में रविवार को यहां न्यूजीलैंड पर 8-2 से बड़ी जीत दर्ज की। संजय ने 17वें और 22वें मिनट में गोल किये। उनके अलावा दिलप्रीत सिंह (छठे मिनट), शैलानंद लाखड़ा (14वें), मनदीप मोर (22वें), सुमन बेक (45वें) प्रताप लाकड़ा (50वें) और सुदीप चिरमाको (51वें मिनट) ने भी गोल दागे। न्यूजीलैंड की तरफ से दोनों गोल डायलन थामस (28वें और 44वें मिनट) ने किये। भारत की यह टूर्नामेंट में दूसरी जीत है। राउंड रोबिन टूर्नामेंट में उसका अगला मुकाबला मंगलवार को जापान से होगा।
दिलप्रीत सिंह ने खाता खोला
भारतीय टीम ने शुरू से ही आक्राम रवैया अपनाया। उसे दूसरे मिनट में ही पेनल्टी कार्नर मिला लेकिन न्यूजीलैंड ने उसे बचा दिया लेकिन दिलप्रीत सिंह ने जल्द ही मैदानी गोल करके भारत का खाता खोल दिया। इसके बाद भी भारतीय टीम ने दबाव बनाये रखा और इसका फायदा उठाकर शैलानंद ने 14वें मिनट में स्कोर 2-0 कर दिया। भारत ने दूसरे क्वार्टर के शुरू में ही तीसरो गोल भी दाग दिया। न्यूजीलैंड ने इसके तुरंत बाद पेनल्टी कार्नर हासिल किया लेकिन भारतीय रक्षकों के सामने उसकी एक नहीं चली।
संजय ने दो गोल दागे
कप्तान मनदीप मोर ने 20वें मिनट में चौथा गोल किया। इसके दो मिनट बाद भारत को पेनल्टी कार्नर मिला जिसे संजय ने गोल में बदला। थामस ने आखिर में न्यूजीलैंड का खाता खोला लेकिन भारतीय टीम मध्यांतर तक 5-1 की बढ़त से शानदार स्थिति में थी। न्यूजीलैंड ने तीसरे क्वार्टर में कुछ अच्छे प्रयास किये और थामस ने एक और गोल करके अंतर कम कर दिया। भारत ने हालांकि जवाबी हमला करके अगले ही मिनट में फिर से एक और गोल दाग दिया। भारत को इसके बाद पेनल्टी स्ट्रोक भी मिला लेकिन न्यूजीलैंड के गोलकीपर ने उसे रोक दिया लेकिन वह उत्तम सिंह और सुदीप को गोल करने से नहीं रोक पाये।

शेयर करें

मुख्य समाचार

Hemant Biswa Sarma

असम सरकार ने मोदी सरकार से एनआरसी बिल रद्द करने अपील की

नई दिल्ली : असम सरकार ने केंद्र सरकार से हाल में जारी किए गए नैशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजन्स (एनआरसी) बिल को रद्द करने की अपील आगे पढ़ें »

यह प्लान आपको दिलाएगी क्रेडिट- डेबिट कार्ड कैरी करने से मुक्ति

नई दिल्ली : डिजिटल ट्रांजैक्शन के दौर में अधिकांश लोगों के पास एक से ज्यादा डेबिट, क्रेडिट कार्ड हैं। वर्ष 2016 में नोटबंदी के बाद आगे पढ़ें »

ऊपर