सुधर जाओ, वर्ना सुधार देंगेःकोर्ट

 

नई दिल्लीः भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) खुद को भगवान समझने लगा है, लेकिन अदालत के निर्देशों का पालन तो करना ही पड़ेगा। यह टिप्पणी सुप्रीम कोर्ट ने की। सुप्रीम कोर्ट इस बात से नाराज है कि उसके निर्देश पर गठित जस्टिस लोढ़ा समिति की सिफारिशों को बीसीसीआई ने लागू नहीं किया। सुप्रीम कोर्ट ने तीखे शब्दों में कहा कि आप (बीसीसीआई) आदेश का पालन करो, अन्यथा हम तुमसे आदेश का पालन करवाएंगे। इस तरह आप निर्देशों से मुकर कर व्यवस्‍था को बदनाम कर रहे हैं। किसी की क्षमताओं को कम करके आंका नहीं जा सकता। सुप्रीम कोर्ट ने यह टिप्पणी तब की जब लोढ़ा समिति ने सुप्रीम कोर्ट में स्थिति रिपोर्ट पेश कर बताया कि बीसीसीआई ने उसकी सिफारिशों को दरकिनार कर अदालत की अवमानना की है।

यह है पूरा मामला

बीसीसीआई में मनमानी पर रोक लगाने एवं सुधार के लिए उच्चतम न्यायालय ने जस्टिस आरएम लोढ़ा की अध्यक्षता में समिति बनाई थी। समिति ने सिफारिश की थी कि भारतीय टीम चुनने के लिए तीन सदस्यीय समिति बनाई जाए जिसमें सभी पदाधिकारी एेसे शामिल किए जाएं जिनको अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने का अनुभव हो। लेकिन 21 सितंबर को बीसीसीआई की बैठक में पांच सदस्यों को चुना गया, जिनमें से दो को अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने का अनुभव ही नहीं था। अन्य कई सिफारिशें भी बीसीसीआई ने अनदेखी कर दी थीं। सिफारिशों की अनदेखी से नाराज लोढ़ा समिति ने सुप्रीम कोर्ट ने स्थिति रिपोर्ट दाखिल की, जिसमें अवमानना का आरोप लगाया गया।

समिति की मांग, सभी पदाधिकारियों को पद से हटाओ

लोढ़ा समिति की सिफारिशों को नहीं मानने, सुप्रीम कोर्ट के आदेशों की अवमानना करने और समिति के सदस्यों के अधिकार को कमतर आंकने से खफा न्यायमूर्ति आरएम लोढ़ा समिति ने बोर्ड के सभी शीर्ष पदाधिकारियों को पद से हटाने की अदालत से मांग की। रिपोर्ट में आरोप लगाया गया है कि बीसीसीआई ने बैठक में सर्वोच्च न्यायालय के नियमों की अवहेलना की है, इसलिए उनकी जांच की जाए। समिति ने अपील की है कि अदालत के आदेशों की अवज्ञा करने और समिति के सदस्यों को कमतर समझ कर उनका अपमान करने के कारण बीसीसीआई के अध्यक्ष अनुराग ठाकुर और सचिव अजय शिर्के समेत उनके आला अधिकारियों को उनके पद से हटाया जाए। लोढ़ा समिति ने शीर्ष अदालत में तर्क दिया है कि हमारी सिफारिशों को मानना तो दूर बीसीसीआई अधिकारी हमारे किसी भी ई-मेल और संवादों का जवाब तक नहीं दे रहे हैं। शीर्ष अदालत में लोढ़ा समि‌त‌ि के वकील ने बीसीसीआई पर अदालत के आदेशों के निरादर का आरोप लगाया।

आदेश का पालन करो, वर्ना हम तुम्हें आदेश का पालन करवायेंगे-सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने लोढ़ा समिति के दलीलों का संज्ञान लेते हुए इसे गंभीर आरोप बताया। न्यायाधीश ए एम खानविलकर और डीवाई चंद्रचूड़ की पीठ ने बीसीसीआई पर तल्ख टिप्पणी करते हुए कहा कि वे खुद को समिति से उपर समझते हैं, तो यह गलत है। आप आदेश का पालन करो, वर्ना हम आदेश का पालन करवाएंगे।

बीसीसीआई की सफाई

शीर्ष अदालत में लोढ़ा समित‌ि के आरोपों पर जवाब देते हुए बीसीसीआई के वकील अरविंद दातर ने अदालत से कहा कि बीसीसीआई समिति के अधिकतर निर्देशों का क्रियान्वयन कर चुकी है और धीरे-धीरे बाकी सिफारिशों को भी लागू कर लिया जाएगा। बीसीसीआई की अगली बैठक 30 सितंबर को होने वाली है। इस पर अदालत ने कहा कि जो हो रहा है उससे हम खुश नहीं हैं।

बीसीसीआई के अधिकार‌ियों को योग्य और ईमानदार होना चाहिए-जस्टिस लोढ़ा

लोढ़ा समिति के अध्यक्ष पूर्व न्यायाधीश आरएम लोढ़ा ने कहा कि भारत के सबसे बड़े और अमीर बोर्ड के अधिकारियों को योग्य और ईमानदार होना चाहिए। हमने जो भी सिफारिशें लागू करने का सुझाव दिया है वो बीसीसीआई के हित में हैं और उनसे सलाह मशविरा करके किया गया है। बीसीसीआई को सीख देते हुए लोढ़ा ने कहा कि हमें सर्वोच्च न्यायालय का आदर करना चाहिए। हमने 9 अगस्त को बीसीसरआई के अधिकारियों के साथ बैठक आयोजित की थी, जिसमें तीन सप्ताह पूर्व ही सुचना देने पर भी अनुराग ठाकुर नहीं आये, केवल सचिव शिर्के शामिल हुए। हमें नाम से क्या मतलब, हमारी यही कोशिश है कि सभी अधिकारियों को हटाकर पैनल में मध्यस्थों को रखा जाए। उन्होंने जो एजीएम में अदालत के नियमों की धज्जियां उड़ाई हैं वो अदालत के सामने आना चाहिए और हमने अपने कर्त्तव्य को पूरा किया। अब देखना होगा कि 30 सितंबर को होने वाले बीसीसीआई की बैठक में वे क्या फैसला लेते हैं।

बिहार क्रिकेट भी बीसीसीआई के खिलाफ अदालत में

क्रिकेट एसोसिएशन आफ बिहार ने भी उच्चतम न्यायालय का रुख और अपील की कि न्यायालय में लंबित पड़ी समीक्षा याचिका को अविलंब बगैर देर किए देखा जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि बीसीसीआई द्वारा दायर की गई समीक्षा याचिका की रजिस्ट्री में अब भी दोष है और वे इसे सुनवाई के लिए नहीं रख रहे हैं। अदालत ने इसकी सुनवाई के लिए छह अक्टूबर का दिन निर्धारित किया है।

मुख्य समाचार

लोकतंत्र में ताकतवर विपक्ष होना जरूरी, उसका हर शब्द मूल्यवान : मोदी

नई दिल्ली : दोबारा प्रधानमंत्री बनने के बाद सोमवार को शुरू हुए संसद के पहले सत्र में नरेन्द्र मोदी ने सत्ता पक्ष के नेता पद आगे पढ़ें »

आगामी बजट के लिए व्यापारियों ने सरकार के समक्ष रखी ये मांगें

नई दिल्ली : देश के गैर कॉर्पोरेट क्षेत्र में लगभग 7 करोड़ छोटे व्यवसाय को मोदी सरकार से बड़ी उम्मीदें हैं। आजादी के बाद के आगे पढ़ें »

आज खत्म हो सकती है जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल

नवान्न में डॉक्टरों के साथ सीएम की होगी बैठक हर कालेज से 2 प्र​तिनिधि बैठक में होंगे शामिल मीडिया के सामने खुले मंच पर बैठक हो सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः आगे पढ़ें »

लेनिन सरणी स्थित एक होटल में लगी भयावह आग

कोलकाता : बहुबाजार थानांतर्गत लेनिन सरणी स्थित एक चार मंजिला भवन की छत पर आग लगने से इलाके में अफरा- तफरी मच गई। रविवार की आगे पढ़ें »

एएआई ने एल्युमीनियम उत्पादों पर मूल सीमा शुल्क 10 से बढ़ाकर 12.5 प्रतिशत करने की मांग की

नई दिल्ली : आगामी 5 जुलाई पेश किया जाएगा, ऐसे में एल्युमीनियम उत्पादकों ने सरकार से प्राथमिक एल्युमीनियम, स्क्रैप और डाउनस्ट्रीम उत्पादों पर आयात शुल्क आगे पढ़ें »

मलबे से बनेंगे सांसदों के नए फ्लैट

नई दिल्ली : देश की राजधानी दिल्ली को संवारने का काम इन दिनों जोरों पर है। दिल्ली में पुराने मकानों को तोड़कर मल्टीस्टोरी फ्लैट बनाए आगे पढ़ें »

बंगाल के डॉक्टरों के समर्थन में आईएमए ने कल देशव्यापी हड़ताल बुलाई

नयी दिल्लीः इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) ने बंगाल में डॉक्टरों पर हुए हमले के विरोध में रविवार को कहा कि हम 17 जून को पूरे आगे पढ़ें »

भोपाल पहुंचे पर जल समाधि नहीं ले सके बाबा वैराग्यानंद

भोपाल : लोकसभा चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी दिग्विजय सिंह की जीत का दावा करने वाले बाबा वैराग्यनंद गिरी महाराज रविवार को जल समाधि लेने पहुंचे आगे पढ़ें »

भारत ने इन 28 अमेरिकी उत्पादों पर टैक्स बढ़ा दिया है, जानिए किस पर कितना टैक्स बढ़ा

नई दिल्ली : सरकार ने अमेरिका में उत्पादित और वहां से आयात किए जाने वाले बादाम, अखरोट और दालों सहित 28 विनिर्दिष्ट वस्तुओं पर टैक्स आगे पढ़ें »

अब्दुल कलाम के जन्मदिन को राष्ट्रीय छात्र दिवस घोषित करने की मांग

नई दिल्ली : भारत का गौरव, मिसाइल मैन एवं पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम के जन्मदिन (15 अक्टूबर) को राष्ट्रीय छात्र दिवस घोषित करने आगे पढ़ें »

ऊपर