सिंगापुर ओपन में लहराया तिरंगा

बैडमिंटन के सुनहरे दिन – भारतीय ने पहली बार जीता पुरुष एकल, प्रणीत ने श्रीकांत को हराया

सिंगापुरः सिंगापुर ओपन के 31 साल के इतिहास में 16 अप्रैल 2017 को एक नयी कड़ी जुड़ गई जब पहली बार किसी भारतीय पुरुष खिलाड़ी ने न सिर्फ एकल फाइनल में जगह बना ली बल्कि खिताब भी हासिल कर लिया। इससे पूर्व महज तीन देशों चीन, इंडोनेशिया तथा डेनमार्क के खिलाड़ी ही सुपर सीरीज टूर्नामेंट के फाइनल में एक-दूसरे के आमने सामने हुए थे। लेकिन अब भारतीय शटलर बी साई प्रणीत ने अपने शानदार प्रदर्शन के दम पर रविवार को हमवतन किदांबी श्रीकांत को कड़े संघर्ष में 17-21, 2-17, 2-12 से हराकर सिंगापुर ओपन सुपर सीरीज बैडमिंटन टूनामेंट का खिताब हासिल कर लिया। इससे पूर्व स्टार महिला खिलाड़ी सायना नेहवाल ने 2010 में महिला एकल का खिताब हासिल किया था।
करियर का सबसे यादगार प्रदर्शनः आंध्र प्रदेश के प्रणीत का यह पहला सुपर सीरीज फाइनल मुकाबला था। इससे पहले वह जनवरी में सैयद मोदी ग्रांप्री गोल्ड के भी फाइनल में पहुंचे थे। इस खिताबी जीत के पूर्व प्रणीत को पहले गेम में हार का सामना करना पड़ा, लेकिन इसके बाद जबरदस्त वापसी करते हुए उन्होंने दोनों गेम जीतकर इतिहास रच दिया। इससे पहले प्रणीत ने अपने करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए सेमीफाइनल में कोरिया के ली डोंग क्यून को एकतरफा अंदाज में 2-6, 2-8 से पीट कर खिताबी मुकाबले में जगह बनाई थी जबकि श्रीकांत ने इंडोनेशिया के एंथनी गिंटिंग को 42 मिनट में 2-13, 2-14 से हराकर फाइनल में स्थान पक्का किया था। विश्व रैंकिंग में 30वें नंबर के प्रणीत ने 29 वीं रैंकिंग के श्रीकांत को 54 मिनट के संघर्ष में मात दी।
ऐसा रहा मुकाबलाः मुकाबले में प्रणीत ने भले कमजोर शुरुआत की थी लेकिन उन्होंने इसके बाद निश्चित रूप से अपने करियर का सबसे यादगार प्रदर्शन किया। प्रणीत को पहले गेम में 17-21 से हार का सामना करना पड़ा। दूसरे गेम में प्रणीत ने दमदार वापसी करते हुए 2-17 से यह गेम अपने नाम कर लिया। दूसरे गेम की जीत के बाद बढ़े हुए आत्मविश्वास के साथ प्रणीत ने तीसरा गेम बातों ही बातों में 2-12 से अपने नाम कर लिया। तीसरा गेम जीतते ही प्रणीत खुशी से उछल पड़े।
चूक गए श्रीकांतः श्रीकांत ने इससे पहले दो सुपर सीरीज खिताब (चाइना ओपन 2014, इंडिया ओपन 2015) अपने नाम किए थे, लेकिन वह यहां अपने तीसरे खिताब से चूक गये। पहला गेम जीतने के बाद उनके पास मौका था कि वह अपना तीसरा सुपर सीरीज खिताब जीतें, लेकिन ऐसा नहीं कर सके।

पहली बार फाइनल में दोनों भारतीय

सिंगापुर ओपन से पहले प्रणीत और श्रीकांत का सामना चार बार एक-दूसरे से हुआ था और श्रीकांत को इसमें सिर्फ एक बार जीत मिली थी। प्रणीत ने इस जीत के साथ श्रीकांत के खिलाफ अपना करियर रिकार्ड 5-1 कर लिया। ऐसा पहली बार हुआ जब भारत का कोई दो खिलाड़ी किसी सुपरसीरीज टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंचे हों।

भारत ने काफी प्रगति कर ली हैः प्रणीत

पहली बार सिंगापुर ओपन सुपर सीरीज बैडमिंटन टूनामेंट का खिताब जीतने वाले बी साई प्रणीत ने कहा कि वह टूर्नामेंट में अपने प्रदर्शन से बेहद खुश हैं। प्रणीत ने कहा ‘आप जिस खिलाड़ी के साथ नियमित खेलते हैं उसके खिलाफ खेलना वाकई बेहद मुश्किल होता है। आप दोनों को एक-दूसरे के खेल की खूबी और कमजोरियों का पता रहता है और ऐसे में एक दूसरे के खिलाफ बढ़त लेना चुनौतीपूर्ण रहता है। सुपर सीरीज के फाइनल में दो भारतीयों का पहुंचना इसका सबूत है कि भारतीय बैडमिंटन ने काफी प्रगति कर ली है।’
प्रणीत में क्षमता है, निरंतरता की जरूरतः कोच
मुख्य राष्ट्रीय कोच पुलेला गोपीचंद ने उम्मीद जताई कि सिंगापुर ओपन में जीत से बी साई प्रणीत का खेल अगले स्तर पर जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रणीत को अपने प्रदर्शन में निरंतरता लाने की जरूरत है। सुपर सीरीज प्रतियोगिता के फाइनल में पहली बार दो भारतीय खेल रहे थे और प्रणीत ने के श्रीकांत को हराकर खिताब जीत लिया। गोपीचंद ने कहा, मुझे प्रणीत-श्रीकांत पर काफी गर्व है, वे फाइनल में पहुंचे। यह जीतने के लिए बड़ा टूर्नामेंट है। उसके सामने अभी कई साल का खेल बाकी है।

मारिन को हरा जू यिंग बनीं चैंपियन

विश्व की नंबर एक खिलाड़ी ताइपे की तेई जू यिंग ने दूसरे नंबर की खिलाड़ी स्पेन की कैरोलिना मारिन को एक बार फिर खिताबी मुकाबले में रविवार को 21-15, 21-15 से मात देते हुए सिंगापुर ओपन सुपर सीरीज बैडमिंटन टूनामेंट के महिला एकल वर्ग का खिताब जीत लिया। जू यिंग ने हाल ही में मलेशिया ओपन में मारिन को 23-25, 22-20, 21-13 से हराकर खिताब जीता था। टॉप सीड जू यिंग ने फाइनल में बेहतरीन खेल दिखाते हुए मारिन को एकतरफा अंदाज में लगातार गेमों में मात्र 38 मिनट 21-15, 21-15 से शिकस्त दी।

गोपीचंद की बेटी ने जीता अंडर-15 जूनियर बैडमिंटन का खिताब

नई दिल्लीः भारतीय बैडमिंटन तथा खेल प्रेमियों के लिए रविवार का दिन ‘सुपर संडे’ साबित हुआ। एक ओर जहां भारत के बी साई प्रणीत ने हमवतन किदांबी श्रीकांत को हराकर सिंगापुर ओपन सुपर सीरीज बैडमिंटन टूर्नामेंट का खिताब अपने नाम कर लिया वहीं इंडोनेशिया के जकार्ता में आयोजित इंटरनेशनल जूनियर ग्रां प्री में तीन युवा भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ियों ने भी शानदार जीत हासिल कर की। रियो ओलिंपिक में रजत पदक विजेता पीवी सिंधू के कोच पुलेला गोपीचंद की बेटी गायत्री गोपीचंद ने फाइनल में हमवतन सामिया इमाद फारूखी को हराकर अंडर-15 महिला का खिताब हासिल कर लिया। गायत्री ने बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए 56 मिनट लंबे मुकाबले में समिया को 2-11, 18-21, 2-16 से शिकस्त दी। भारत की ही कविप्रिया सेल्वम ने कांस्य पदक जीता। गायत्री और समिया ने इंडोनेशिया की जोड़ी केली लरिसा एंव एस व्योला को सीधे गेमों में 2-17, 2-15 से हराकर अंडर-15 महिला युगल का खिताब जीता।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

टेनिस : प्रजनेश गुणेश्वरन करियर के सर्वश्रेष्ठ 84वें रैंकिंग पर पहुंचे

18वें स्थान पर काबिज निकोलोज बासिलाशविलि को हराया नयी दिल्ली : इंडियन वेल्स एटीपी टेनिस टूर्नामेंट में जबरदस्‍त प्रदर्शन करने वाले भारतीय टेनिस खिलाड़ी प्रजनेश गुणेश्वरन सोमवार को जारी एटीपी की नवीनतम रैंकिंग में करियर के सर्वश्रेष्ठ 84वें स्थान पर [Read more...]

हमें अपने जवानों की जिंदगी ज्‍यादा प्‍यारी है, भारत-पाक मैच नहीं : गौतम गंभीर

नयी दिल्ली : पुलवामा अटैक के बाद से पूरे देश में एक ही मांग है कि पाकिस्‍तान से सभी तरह के संबंध चाहे वह राजनीतिक हो या खेल के सभी तरह के संबंध समाप्‍त कर दिये जाय। पूर्व क्रिकेटर गौतम [Read more...]

मुख्य समाचार

आलिया ने ड्राइवर और हेल्पर को गिफ्ट किए 50-50 लाख के मकान

नई दिल्ली: बॉलीवुड की मशहूर अभिनेत्री आलिया भट्ट ने ऐसा कुछ किया है जिसे सुनकर आप सब उनकी दरियादिली की तारीफ करेंगे। दरअसल, हाल ही में 'कलंक' की 'रूप' आलिया भट्ट ने अपने ड्राइवर और हेल्पर को मकान गिफ्ट किया [Read more...]

‘रोज फेशियल करवाती हैं मायावती, रंगवाती हैं बाल’ : भाजपा

बलियाः चुनावी सरगर्मी बढ़ते ही बयानबाजी का दौर भी शुरू हो गया है। अपने बयानों के कारण चर्चा में रहने वाले उत्तर प्रदेश के बलिया से विधायक सुरेंद्र सिंह ने बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती को लेकर विवादित टिप्पणी [Read more...]

ऊपर