सचिन तेंदुलकर लॉरियस स्पोर्टिंग मोमेंट अवॉर्ड से सम्मानित

बर्लिन : महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर को 2000 से 2020 तक के लारेस सर्वश्रेष्ठ खेल लम्हे के पुरस्कार के लिए चुना गया। भारतीय प्रशंसकों के समर्थन से तेंदुलकर को इस पुरस्कार के लिए सबसे ज्यादा मत मिले। भारत की 2011 विश्व कप में जीत के संदर्भ में तेंदुलकर से जुड़े लम्हे को ‘कैरीड ऑन द शोल्डर्स ऑफ ए नेशन’ शीर्षक दिया गया था। टेनिस के महान खिलाड़ी बोरिस बेकर ने इस पुरस्कार की घोषणा की जिसके बाद आस्ट्रेलिया के दिग्गज क्रिकेटर स्टीव वॉ ने तेंदुलकर को ट्रॉफी देकर सम्मानित किया। लगभग नौ साल पहले तेंदुलकर अपने छठे विश्व कप में खेलते हुए विश्व खिताब जीतने वाली टीम के सदस्य बने थे।
भारतीय टीम के सदस्यों ने इसके बाद तेंदुलकर को कंधे में उठाकर मैदान का ‘लैप ऑफ ऑनर’ लगाया था। पुरस्कार के लिए सूची में पहले 20 दावेदारों को शामिल किया गया था लेकिन वोटिंग के बाद सिर्फ पांच दावेदारों को सूची में जगह मिली थी जिसमें तेंदुलकर विजेता बने। ट्रॉफी लेने के बाद तेंदुलकर ने कहा, ‘‘ यह शानदार है। विश्व कप जीतने की भावना को शब्दों में बयान करना संभव नहीं था। ’ तेंदुलकर के ट्राफी हासिल करने के बाद बेकर ने उनसे अपनी भावनाओं को साझा करने को कहा तो इस भारतीय खिलाड़ी ने कहा, ‘‘ मेरी यात्रा (क्रिकेट) की शुरुआत तब हुई थी जब मैं 10 साल का था। भारत ने विश्व कप जीता था। मुझे उस समय उसके महत्व के बारे में पता नहीं था। चूंकि हर कोई जश्न मना रहा था तो मैं भी उस में शामिल हो गया।’’ ’ तेंदुलकर ने कहा कि लारेस ट्राफी हासिल करना उनके लिए बेहद ही सम्मान की बात है। इस मौके पर उन्होंने दक्षिण अफ्रीका के क्रांतिकारी नेता नेल्सन मंडेला के प्रभाव को भी साझा किया। भारतीय टीम के मौजूदा कप्तान विराट कोहली ने भी तेंदुलकर को इस पुरस्कार को जीतने पर बधाईं दी। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘प्रतिष्ठित लारेस सर्वश्रेष्ठ खेल लम्हे का पुरस्कार जीतने के लिए सचिन पाजी को बधाई। ’

शेयर करें

मुख्य समाचार

15 साल के गोल्फर ने खिताब और ट्राफियों को बेचकर पीएम केयर्स में दान किये 4.30 लाख रुपये

नयी दिल्ली : कोरोना वायरस संक्रमण से लोगों के बचाव के लिए देशभर में लागू 21 दिन के लॉकडाउन के बीच युवा गोल्फर अर्जुन भाटी आगे पढ़ें »

अस्पतालों में सुरक्षा उपकरणों की कमी तत्काल दूर हो : डॉ.वैश्य

नई दिल्ली: भारत में कोरोनावायरस के खिलाफ लड़ाई में चिकित्सक, नर्स एवं अन्य स्वास्थ्य कर्मी मजबूती के साथ डटे हुए है। स्वास्थ्यकर्मी अपनी जान को आगे पढ़ें »

ऊपर