वुशु को लेकर बदल गया युवाओं का नजरिया : प्रवीण

विश्व चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतने के बाद प्रवीण ने खुलकर इस खेल पर की बातचीत
नयी दिल्लीः कभी उनके दोस्त इस खेल का मजाक बनाते थे लेकिन विश्व चैम्पियनशिप में प्रवीण कुमार के स्वर्ण पदक जीतने के बाद उनके माता पिता अपने बच्चों के लिये वुशु में रूचि ले रहे हैं। हर रात प्रवीण स्वर्ण पदक जीतने के ख्यालों के साथ सोते थे। पिछले सप्ताह शंघाई में मिले स्वर्ण पदक के बाद अब हरियाणा के इस खिलाड़ी और इस खेल को भी पहचान मिलने लगी है।
प्रवीण ने भारतीय खेल प्राधिकरण से कहा,‘‘ मेरे माता पिता इस खेल से अनजान थे और मेरे दोस्त इसके नाम का मजाक बनाते थे। मैं उन्हें इस खेल के वीडियो दिखाता था और उन्हें इसमें मजा आने लगा। फाइट देखकर बोलते थे कि बहुत अच्छा खेल है।’’ उन्होंने कहा,‘‘ मैने तय कर लिया था कि एशियाई और विश्व चैम्पियनशिप में अच्छा प्रदर्शन करना है।’’

युवाओं के फोन आ रहे
प्रवीण ने कहा कि उनके स्वर्ण पदक जीतने के बाद से लोगों के फोन इस खेल के बारे में जानकारी लेने के लिये आ रहे हैं। उन्होंने कहा,‘‘ अब मुझे युवाओं और माता पिता के फोन आ रहे हैं कि अभ्यास कहां से शुरू करें। मेरे सीनियर प्रमोद कटारिया ने हरियाणा में अपनी अकादमी खोली है जबकि दिल्ली में भी अकादमियां हैं।’’

कोचों व मेंटर्स ने की मदद
भारतीय सेना में कार्यरत प्रवीण ने कहा,‘‘ सेना के मेरे कोचों और मेंटर्स ने मेरी काफी हौसलाअफजाई की। वे लगातार कहते थे कि तू ये कर सकता है।’’ उन्होंने कहा,‘‘ हर रात मैं यही सोचकर सोता था कि मैं ऐसा कर सकता हूं। मैंने मेहनत शुरू की और दो महीने पहले शिविर के दौरान इरादा पक्का कर लिया। अगर मेडल मिलता है तो गोल्ड ही लेके आना है।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

कोहली और स्मिथ जैसा बनने के करीब है बाबर : मिसबाह

कराची : पाकिस्तान के मुख्य कोच और मुख्य चयनकर्ता मिसबाह उल हक का मानना है कि बाबर आजम का विश्वस्तरीय बल्लेबाज बनना तय है कि आगे पढ़ें »

धोनी को बिरयानी नहीं खिलाई इसिलिए टीम से बाहर हो गया : कैफ

नई दिल्ली : महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में भारत ने 2007 में टी20 वर्ल्ड कप का खिताब अपने नाम किया था। इस टीम में आगे पढ़ें »

ऊपर