विनेश फोगाट का वर्ल्ड चैंपियन बनने का सपना टूटा, विश्व चैंपियन मुकैदा से हारी

नूर सुल्तान (कजाखस्तान) : भारत की शीर्ष पहलवान विनेश फोगाट मंगलवार को यहां जापान की मौजूदा चैंपियन मायु मुकैदा से हारकर विश्व कुश्ती चैंपियनशिप में खिताब की दौड़ से बाहर हो गयी लेकिन वह अब रेपेचेज के जरिये कांस्य पदक के लिये अपना भाग्य आजमाएंगी। मुकैदा ने 53 किग्रा के फाइनल में जगह बनायी है जिससे विनेश की पदक और टोक्यो ओलंपिक के लिये क्वालीफाई करने की उम्मीदें बनी हुई हैं। केवल दो जीत से वह तोक्यो ओलंपिक में अपनी जगह पक्की कर देगी।
जापानी पहलवान का दबदबा
पहले 60-70 सेकेंड में कोई अंक नहीं बना क्योंकि तब दोनों खिलाड़ी एक दूसरे को परख रही थी। इसके बाद जापानी पहलवान ने दबदबा बनाया और विनेश ने लगातार अंक गंवाये। विनेश को आक्रामक होने की जरूरत थी लेकिन मुकैदा का रक्षण शानदार था। भारतीय ने दो बार मुकैदा के पांवों को कब्जे में लाने की कोशिश की लेकिन वह अंक नहीं बना पायी। मैटसन के खिलाफ विनेश ने हालांकि स्वीडिश खिलाड़ी से दूर रहकर आक्रमण करने की रणनीति अपनायी। विनेश ने अपनी प्रतिद्वंद्वी को हावी नहीं होने दिया जबकि इस बीच अच्छे आक्रमण से उन्होंने पहले 4-0 और फिर 8-0 से बढ़त बनायी।
कांस्‍य के लिए फोगाट को कड़ी टक्‍कर
उन्हें विश्व चैंपियनशिप में पहला पदक जीतने के लिये रेपेचेज में उक्रेन की यूलिया खावलदजी ब्लाहनिया, विश्व की नंबर एक सराह एन हिल्डरब्रैंड ओर यूनान की मारिया प्रेवोलाराकी को हराना होगा। विनेश की यह इस सत्र में जापानी पहलवान के हाथों लगातार दूसरी पराजय है। इससे पहले वह चीन में एशियाई चैंपियनशिप में भी दो बार की विश्व चैंपियन से हार गयी थी। विनेश ने राष्ट्रमंडल और एशियाई खेलों में खिताब जीते हैं लेकिन विश्व चैंपियनशिप में अभी तक पदक जीतने में नाकाम रही हैं। मुकाबले के बाद फोगाट ने कहा, ‘‘जापान कुश्ती में सबसे शक्तिशाली देश है। इन लड़कियों के खिलाफ आक्रमण करने में थोड़ा समय लगता है। एक तकनीक, एक मूव या एक अंक पूरे मुकाबले का परिणाम बदल सकता है। मैंने ऐसी कोशिश की लेकिन ऐसा नहीं हुआ और उसे सफलता मिली। ’’
ओलंपिक विजेता से हारी सीमा बिस्ला
एक अन्य ओलंपिक वर्ग (50 किग्रा) में सीमा बिस्ला प्री क्वार्टर फाइनल में तीन बार की ओलंपिक पदक विजेता अजरबेजान की मारिया स्टैडनिक से 2-9 से हार गयी। विनेश की तरह वह भी कांस्य पदक और ओलंपिक क्वालीफिकेशन की दौड़ में बनी हुई है क्योंकि स्टैडनिक फाइनल में पहुंची गयी हैं। सीमा ने कहा, ‘‘मारिया मुझसे ज्यादा शक्तिशाली नहीं है बल्कि वह मुझसे अधिक अनुभवी है। मैंने 50 किग्रा में केवल पांच – छह मुकाबले खेले हैं। मैं सीख रही हूं और आगे बेहतर करूंगी।’’ गैर ओलंपिक वर्ग में कोमल गोले ने तुर्की की बेस्टी अलतुग के खिलाफ बेहद रक्षात्मक रवैया अपनाया और 72 किग्रा क्वालीफिकेशन में।4 से हार गयी जबकि ललिता को 55 किग्रा में मंगोलिया की बोलोरतुया बात ओचिर ने आसानी से 3-10 से शिकस्त दी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

देश के 200 से अधिक शहरों में जियोमार्ट ने शुरू की सेवाएं, उत्पादों की खरीदारी पर मिलेगा डिस्काउंट

नई दिल्ली : हाल ही में लॉन्च हुए रिलायंस रिटेल का एक ई-कॉमर्स वेंचर जियोमार्ट अब देश के 200 से अधिक शहरों में सेवाएं दे आगे पढ़ें »

अप्रैल में सोने के निर्यात में करीब 100 फीसद की गिरावट दर्ज की गई

नई दिल्ली : हालिया वैश्विक गतिविधियों के कारण देश का स्वर्ण आयात लगातार घट रहा है। इस साल अप्रैल में लगातार पांचवे महीने देश के आगे पढ़ें »

ऊपर