वर्ल्ड बॉक्सिंग चैम्पियनशिप : मंजू रानी फाइनल में हारीं, रजत से संतोष करना पड़ा

नयी दिल्ली : युवा मुक्केबाज मंजू रानी ने रूस के उलान उदे में आईबा महिला विश्व मुक्केबाजी चैंपियनशिप में रविवार को रजत पदक जीता जबकि भारत को इस प्रतियोगिता में एक रजत और तीन कांस्य सहित कुल चार पदक मिले। पहली बार विश्व चैंपियनशिप में भाग ले रही छठी वरीयता प्राप्त मंजू ने अपनी पहली ही विश्व प्रतियोगिता में पदक जीत कर नया इतिहास रचा। मंजू को 48 किग्रा भारवर्ग के फाइनल में मेजबान रूस की दूसरी वरीयता प्राप्त रूस की एकाटेरिना पाल्त्सेवा के हाथों 1-4 से हार का सामना करना पड़ा। पांच जजों ने मेजबान रूस की मुक्केबाज के पक्ष में 29-28, 29-28, 30-27, 30-27, 28-29 से फैसला सुनाया। इस हार के बावजूद स्ट्रांजा कप की रजत पदक विजेता मंजू 18 वर्षों बाद दूसरी ऐसी मुक्केबाज बनी जिन्होंने अपनी पहली ही वर्ल्ड चैंपियनशिप के फाइनल में जगह बनाई और रजत पदक जीता। उन्होंने 2001 में एमसी मैरीकॉम द्वारा हासिल उपलब्धि की बराबरी की। मैरीकॉम वर्ष 2001 में अपनी पदार्पण विश्व चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंची थी। केंद्रीय खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने मंजू को इस उपलब्धि के लिए बधाई दी है। विश्व चैंपियनशिप में मंजू रानी के रजत के अलावा मैरीकॉम, जमुना बोरो और लवलीना बोर्गोहैन ने कांस्य पदक जीते। ये तीनों शनिवार को अपने सेमीफाइनल मुकाबले हार गई थीं। इससे पहले पुरुष विश्व चैंपियनशिप में अमित पंघल ने रजत और मनीष कौशिक ने कांस्य पदक जीता था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

वेस्टइंडीज जीत के करीब, इंग्लैंड ने दूसरी पारी में 313 रन बनाए

साउथैम्पटन : इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट में वेस्टइंडीज जीत की ओर है। मैच के पांचवें दिन टी ब्रेक तक मेहमान टीम ने 4 विकेट के आगे पढ़ें »

पगबाधा का फैसला सिर्फ और सिर्फ डीआरएस से हो : तेंदुलकर

नयी दिल्ली : महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने अंपायरों के फैसलों की समीक्षा प्रणाली (डीआरएस) से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) को ‘अंपायर्स कॉल’ को हटाने आगे पढ़ें »

ऊपर