लोढ़ा समिति की सिफारिशें सब खेलों पर होंगी लागू !

नयी दिल्लीः उच्चतम न्यायालय कई खिलाड़ियों द्वारा दायर उस याचिका पर सुनवाई करेगा जिसमें बीसीसीआई के संबंध में लोढ़ा समिति की कई सिफारिशों को अन्य खेल संस्थाओं पर भी लागू करने की अपील की गयी है।
प्रधान न्यायधीश जे एस खेहर ने केंद्र, भारतीय खेल प्राधिकरण और भारतीय ओलंपिक संघ को नोटिस जारी किये और इस याचिका को भारतीय क्रिकेट बोर्ड में आमूलचूल बदलावों से जुड़े वर्तमान याचिका के साथ जोड़ा। याचिका में बीसीसीआई में ढांचागत सुधारों के संबंध में लोढ़ा पैनल की कुछ सिफारिशों को 2011 की भारतीय राष्ट्रीय खेल विकास संहिता में शामिल करने के लिये केंद्र को निर्देश देने की भी अपील की है।
यह याचिका विभिन्न खेलों से जुड़े 28 खिलाड़ियों ने दायर की है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय खेल महासंघों और उनकी संबंधित राज्य इकाइयों के कामकाज में पारदर्शिता सुनिश्चित करने के लिये सरकार को लोढ़ा पैनल की कुछ सिफारिशों को राष्ट्रीय खेल संहिता में शामिल करने के निर्देश दिये जाने चाहिए। लोढ़ा समिति ने अपनी रिपोर्ट में आमूलचूल बदलावों की सिफारिश की। इसके अनुसार मंत्री पदाधिकारी नहीं बन सकते। पदाधिकारियों के लिये अधिकतम आयु सीमा 70 वर्ष तय कर दी गयी है और इसके साथ ही उनके लिये अधिकतम नौ साल का कार्यकाल तय किया गया है। जिन खिलाड़ियों ने यह याचिका दायर की है उनमें अशोक कुमार, बिशन सिंह बेदी, कीर्ति आजाद अश्विनी नाचप्पा और प्रवीण ठिप्से भी शामिल हैं।

लोढा समिति के सुझाव 50 साल पहले लागू होने चाहिये थेः बेदी

जयपुरः पूर्व भारतीय स्पिनर और क्रिकेट विशेषज्ञ बिशन सिंह बेदी ने कहा कि वास्तव में क्रिकेट संस्‍थानों में लोढ़ा समिति जैसे सुझाव आज से 50 साल पहले ही लागू कर दिए जाने चाहिए थे। गौरतलब है कि भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के संचालन के सदस्यों में बेदी का नाम भी संभावित है। जयपुर में आयोजित साहित्य उत्सव में बोलते हुए इस पूर्व धाकड़ फिरकी गेंदबाज ने कहा कि इस तरह के सुधार असल में आधे दशक पहले ही क्रिकेट खेल संघों में करने चाहिए थे, पर देर आए-दुरुस्त आए। उन्होंने कहा कि बीसीसीआई को सुनिश्चित करना होगा कि उच्चतम न्यायालय के निर्देशों का पालन हो। बेदी ने कहा कि न्यायालय ने लोढ़ा समिति के जरिए एक अच्छी पहल करके नई शुरुआत की है जिसका कुछ लालची और मतलबी क्रिकेट अधिकारी विरोध कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि सभी राजनीतिक दल भले ही उनमें आपसी मतभेद हो, पर क्रिकेट के मामले में बोलने पर वे सभी एक हो जाते हैं।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

अपने पहले मैच की कमाई पुलवामा हमले के शहीदों के परिवारों को देगी चेन्नई सुपर किंग्स की टीम

चेन्नईः इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) की सबसे सफल टीम चेन्नई सुपर किंग्स (सीएसके) इस सत्र के अपने पहले घरेलू मैच से होने वाली आमदनी पुलवामा आतंकी हमले में शहीद हुए सीआरपीएफ के जवानों के परिवारों की मदद करने का फैसला [Read more...]

विशेष ओलंपिक विश्व ग्रीष्मकालीन खेलों में भारत ने जीते 85 स्वर्ण समेत 368 पदक

दुबईः संयुक्त अरब अमीरात में 14 से 21 मार्च के बीच आयोजित विशेष ओलंपिक विश्व ग्रीष्मकालीन खेलों में 85 स्वर्ण समेत 368 पदक जीते। भारतीय टीम में 284 खिलाड़ी शामिल थे जिन्होंने 154 रजत और 129 कांस्य पदक भी हासिल [Read more...]

मुख्य समाचार

सरकार ने जेकेएलएफ पर नकेल कसा, महबूबा उतरीं बचाव में

नई दिल्ली: भारत सरकार ने आतंकियों को संरक्षण प्रदान करने वाले संगठनों को मुहंतोड़ जवाब देना शरू कर दिया है। शुक्रवार को केंद्र सरकार ने कहा कि कई हिंसक घटनाओं और 1988 से जम्मू-कश्मीर में अलगाववादी गतिविधियों को बढ़ावा देने [Read more...]

कोलकाता में जन्मे जस्‍टिस पिनाकी घोष बने भारत के पहले लोकपाल

नई दिल्‍लीः सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जस्टिस पिनाकी चंद्र घोष आधिकारिक रूप से भारत के पहले लोकपाल बन गए हैं। जस्टिस पिनाकी घोष ने शनिवार को देश के पहले लोकपाल की शपथ ग्रहण की। राष्‍ट्रपति भवन में राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद [Read more...]

ऊपर