लक्ष्मण की 281 रन की पारी स्पिन गेंदबाजी के खिलाफ बेहतरीन पारियों में से एक : इयान चैपल

मेलबर्न : आस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान इयान चैपल ने बेहतरीन स्पिन गेंदबाजी के खिलाफ खेली गयी दो सर्वकालिक पसंदीदा पारियों में वीवीएस लक्ष्मण की 2001 में ईडन गार्डन्स में खेली गयी 281 रन की ऐतिहासिक पारी को शामिल किया। लक्ष्मण और राहुल द्रविड़ (180) की बदौलत भारत ने फालो आन खेलने के बाद आस्ट्रेलिया के खिलाफ मैच में जीत हासिल की थी।
चैपल ने अपने कॉलम में लिखा, ‘‘कोविड-19 महामारी के कारण कोई क्रिकेट नहीं खेला जा रहा है जिसने मुझे खेल के उस पहलू पर सोचने का मौका दिया है जो मुझे बहुत पसंद है और वो एक बल्लेबाज को अपने फुटवर्क का इस्तेमाल शीर्ष स्तरीय स्पिन गेंदबाजी से निपटने के लिये करते हुए देखना है। इसमें दो पारियां सबसे बेहतरीन हैं। पहली भारत के वीवीएस लक्ष्मण की और दूसरी आस्ट्रेलिया के डग वाल्टर्स की। ’’ लक्ष्मण और द्रविड़ ने मैराथन 376 रन की साझेदारी से भारत को अविश्वसनीय जीत दिलायी। लक्ष्मण ने इस दौरान शेन वार्न जैसे स्पिनर की गेंदों को रौंदकर रन जुटाये थे जिससे चैपल इस भारतीय बल्लेबाज की इस पारी के मुरीद हो गये।
उन्होंने लिखा, ‘‘मैंने अभी तक शीर्ष स्तर की लेग स्पिन के खिलाफ जो पारियां देखी हैं, उसमें 2001 में लक्ष्मण की कलकत्ता में खेली गयी 281 रन की पारी सर्वश्रेष्ठ थी। उस श्रृंखला के खत्म होने के बाद मैंने शेन वार्न से पूछा था कि उन्हें क्या लगता है कि उन्होंने कैसी गेंदबाजी की थी। ’’ चैपल ने लिखा, ‘‘उसने कहा, ‘‘मुझे नहीं लगता कि मैंने इतनी बुरी गेंदबाजी की थी। ’’ लेकिन मैंने जवाब दिया था, ‘‘तुमने ऐसा नहीं किया था। ’’। उन्होंने लक्ष्मण के जज्बे की तारीफ करते हुए लिखा, ‘‘लक्ष्मण ने 452 गेंद की पारी के दौरान नियमित रूप से ऐसा किया जिसमें उन्होंने 44 बाउंड्री लगायी। लक्ष्मण की सफलता का राज था कि उसने लगातार मैदान के चारों ओर गेंद को हिट किया था। ’’ वहीं साथी आस्ट्रेलियाई वाल्टर्स के बारे में बात करे हुए चैपल ने उन्हें स्पिन के खिलाफ सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी करार दिया। उन्होंने कहा, ‘‘वाल्टर्स ने तीन बार एक सत्र में टेस्ट शतक जमाये। इस उपलब्धि के खिलाफ कोई पूर्ण रिकार्ड नहीं है लेकिन मुझे लगता है कि केवल सर डोनाल्ड ब्रैडमैन ने ऐसा काफी बार किया। ’’ चैपल ने लिखा, ‘‘मैंने आफ स्पिन गेंदबाजी के खिलाफ अच्छा खेलते हुए जितने बल्लेबाज देखे हैं, उनमें वाल्टर्स सवश्रेष्ठ थे। वह बेहतरीन स्पिनरों के खिलाफ अपना विकेट बचाये रखते थे बल्कि कभी कभी उन्हें दबाव में भी ला देते थे। उन्होंने 1969 में मद्रास माइनफील्ड में ईरापल्ली प्रसन्ना की बेहतरीन आफ-स्पिन का सामना करते हुए शतक भी जड़ा, जिसमें 14 चौके और दो छक्के जड़े थे। ’’

शेयर करें

मुख्य समाचार

तवा और कढ़ाही होते हैं राहु का प्रतीक, भूलकर भी न करें ये गलति‍यां

कोलकाताः आपने कभी सोचा है क‍ि आपकी लाइफ में कई सारी टेंशन की वजह आपके क‍िचन में इस्‍तेमाल होने वाला तवा और कढ़ाही भी हो आगे पढ़ें »

कालीघाट में कार में मिला व्यक्ति का शव

कोलकाता : कालीघाट थानांतर्गत एसपीएम रोड पर कार के अंदर से एक व्यक्ति का शव बरामद किया गया। मृतक का नाम विरेन्द्र कुवर है। वह आगे पढ़ें »

ऊपर