राष्ट्रीय खेल पुरस्कारों के लिए खेल मंत्रालय ने मंगाये ईमेल से नामांकन

नयी दिल्ली : कोविड-19 महामारी के कारण लॉकडाउन को देखते हुए खेल मंत्रालय ने इस साल राष्ट्रीय खेल पुरस्कारों के दावेदारों से ईमेल के जरिये नामांकन भेजने को कहा है क्योंकि मंत्रालय प्रतिष्ठित राजीव गांधी खेल रत्न सहित अन्य खेल पुरस्कारों के लिए चयन की प्रक्रिया शुरू कर रहा है। आम तौर पर अप्रैल में शुरू हो वाली यह प्रक्रिया लॉकडाउन के कारण मई तक खिसक गई थी। लॉकडाउन का तीसरा चरण शुरू हो चुका है जो 17 मई तक चलेगा।
अंतिम तारीख तीन जून
मंत्रालय के सर्कुलर के अनुसार, ‘कोविड-19 के प्रकोप के कारण लॉकडाउन के चलते नामांकन की कागजी प्रति भेजने की जरूरत नहीं है। नामांकन की आवेदक और सिफारिश करने वाले अधिकारियों के हस्ताक्षर वाली स्कैन प्रति आवेदन जमा करने की अंतिम तिथि से पूर्व भेजी जा सकती है।’ नामांकन जमा कराने की अंतिम तारीख तीन जून तय की गई है। सर्कुलर के अनुसार, ‘‘अंतिम तारीख के बाद मिलने वाले नामांकन पर गौर नहीं किया जाएगा। किसी भी विलंब के लिए मंत्रालय जिम्मेदार नहीं होगा।’’
जनवरी 2016 से दिसंबर 2019 तक के प्रदर्शन पर किया जाएगा विचार
राष्ट्रीय खेल पुरस्कारों में विभिन्न पहलुओं को शामिल किया जाता है। खिलाड़ियों को देश का सर्वोच्च खेल सम्मान राजीव गांधी खेल रत्न और अर्जुन पुरस्कार दिए जाते हैं। कोचिंग के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान के लिए द्रोणाचार्य पुरस्कार दिया जाता है जबकि ध्यान चंद पुरस्कार लाइफटाइम अचीवमेंट के लिए मिलता है। इस साल के अर्जुन और खेल रत्न पुरस्कारों के लिए जनवरी 2016 से दिसंबर 2019 तक के प्रदर्शन पर विचार किया जाएगा। हर बार की तरह डोपिंग के दागी खिलाड़ियों या जिनके खिलाफ जांच चल रही है या लंबित है उनके नाम पर विचार नहीं किया जाएगा। खेल रत्न पुरस्कार विजेता को सात लाख 50 हजार जबकि अर्जुन पुरस्कार विजेता को पांच लाख रुपये की इनामी राशि दी जाती है। पिछले साल पैरालंपियन दीपा मलिक और स्टार पहलवान बजरंग पूनिया को खेल रत्न पुरस्कार मिला था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

नंदीग्राम में बेटे शुभेन्दु के लिए प्रचार करेंगे शिशिर अधिकारी

खड़गपुर/कांथी: पूर्व मिदनापुर जिले के नंदीग्राम विधानसभा केंद्र में भाजपा उम्मीदवार शुभेन्दु अधिकारी के पक्ष में उनके पिता तथा कांथी से टीएमसी के निर्वाचित सांसद आगे पढ़ें »

कुंवारी स्त्रियों को शिवलिंग छूने की इजाज़त क्यों नहीं? जानिये ये सत्य, आज और अभी!

कोलकाताः हिंदू धर्म के अनुसार शिव लिंग की पूजा करना अच्छा माना जाता है और सिर्फ भारत में ही नहीं, पूरी दुनिया में जहाँ-जहाँ हिंदू आगे पढ़ें »

ऊपर