राष्ट्रमंडल खेलों से हटने का एकतरफा फैसला नहीं कर सकता आईओए, सरकार से मशविरा करना होगा : र‌िजिजू

नई दिल्लीः खेल मंत्री किरण रिजिजू ने मंगलवार को कहा कि भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) 2022 में होने वाले बर्मिंघम राष्ट्रमंडल खेलों से हटने का एकतरफा फैसला नहीं कर सकता है। आईओए ने इन खेलों से निशानेबाजी को हटाये जाने के बाद बहिष्कार की धमकी दी है।

निशानेबाजी को बाहर रखने का फैसला किया गया है

पिछले सप्ताह राष्ट्रमंडल खेल महासंघ (सीजीएफ) ने बर्मिंघम खेलों से निशानेबाजी को बाहर रखने का फैसला किया था जबकि तीन नये खेलों को शामिल करने की सिफारिश की थी। यह फैसला भारत के लिये बड़ा झटका है क्योंकि गोल्ड कोस्ट खेल 2018 में उसने कुल 64 पदकों में से 16 पदक निशानेबाजी में जीते थे। इसके बाद आईओए ने कहा था कि वह इन खेलों से हटने पर विचार कर रहा है।

रिजिजू ने हालांकि कहा कि उनका मंत्रालय कोई भी फैसला करने से पहले निशानेबाजी महासंघ (एनआरएआई) और आईओए के साथ विस्तृत विचार विमर्श करेगा।

सरकार के नेतृत्व में करना चाहिए

रिजिजू ने कहा ‘मैंने निशानेबाजी महासंघ से चर्चा नहीं की है। आधिकारिक तौर पर मैं उनकी स्थिति से अवगत नहीं हूं। अगर आपको बहिष्कार करना है तो आपको सरकार से पूछना होगा क्योंकि ऐसे फैसले एकतरफा नहीं लिये जा सकते हैं। इन पर फैसला उचित सलाह मशविरा के बाद किया जाएगा।’

उन्होंने कहा ‘यह हमारे खिलाड़ियों के भविष्य और राष्ट्रीय प्रतिष्ठा का सवाल है। सब कुछ इसमें शामिल है। हमारे आईओए को कोई कदम उठाना चाहिए और हम उनसे इस पर बात करेंगे।’

सही योजना बनाने पर जोर दिया

पिछले साल आईओए ने 2032 ओलंपिक खेलों की मेजबानी का दावा पेश करने की इच्छा जतायी थी। इस बारे में पूछे जाने पर रिजिजू ने कहा कि वह बड़ी प्रतियोगिताओं के आयोजन के खिलाफ नहीं हैं लेकिन उन्होंने देश को किसी भी तरह की शर्मिंदगी से बचाने के लिये सही तरह से योजना बनाने पर जोर दिया।

सही से आयोजन करना जरूरी

रिजिजू ने कहा ‘अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता की मेजबानी करना किसी भी देश के लिये प्रतिष्ठा की बात है। ओलंपिक, विश्व कप या किसी भी अंतरराष्ट्रीय चैंपियनशिप का आयोजन कौन नहीं करना चाहता। सवाल यह है कि क्या आप इसके लिये तैयार हैं। और आप इसकी तैयारियों के लिये कितना कुछ कर रहे हैं।’

उन्होंने कहा ‘आप केवल किसी प्रतियोगिता की मेजबानी हासिल करके देश के लिये शर्मिंदगी की स्थिति पैदा नहीं कर सकते। यह केवल प्रतियोगिता के आयोजन से जुड़ा मसला नहीं है यह बहुत अच्छे तरीके से उसका आयोजन करने से जुड़ा है।’

रिजिजू ने कहा ‘अगर हम ओलंपिक का आयोजन कर सकते हैं तो इसमें कोई संदेह नहीं कि एक राष्ट्र के रूप हमें गर्व होगा। हम सकारात्मक हैं और हम आईओए से बातचीत करेंगे और फिर इस पर आगे बढ़ेंगे। ये बड़े फैसले हैं जिन्हें अचानक नहीं लिया जा सकता है। आपसी विचार विमर्श के बाद उचित योजना तैयार करके ऐसे फैसले किया जाते हैं।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

कोलकाता में लॉजिस्टिक के लिए विश्व बैंक तैयार कर रहा मास्टर प्लान : अमित मित्र

परियोजना की​ लागत करीब 300 मिलियन डॉलर कोलकाता : कोलकाता मेट्रोपॉलिटन एरिया में जल्द ही लॉजिस्टिक के क्षेत्र में बड़ी संभावनाएं सामने आने वाली हैं। इसकी आगे पढ़ें »

अफवाहों पर ध्यान ना दें, हम सब एक हैं – विजयवर्गीय

कोलकाता : भाजपा के सांगठनिक चुनाव काे लेकर शनिवार को माहेश्वरी भवन में भाजपा की अहम बैठक की गयी। इस बैठक में भाजपा के राष्ट्रीय आगे पढ़ें »

ऊपर