मुझे उम्मीद नहीं थी धोनी मुझे कप्तानी के लिए कहेंगे : गांगुली

नयी दिल्ली : महेंद्र सिंह धोनी से प्रभावित हुए बिना कौन रह सकता है। फिर चाहे वह सौरभ गांगुली ही क्‍यो न हों, जिन्होंने टीम इंडिया में धोनी को अपनी जगह पक्की करने का अपनी कप्तानी में भरपूर मौका दिया था। फिर वक्त ने करवट ली और गांगुली टीम की कप्तानी भी छिनी और वह टीम से भी बाहर हो गए। लेकिन चैंपियन दादा ने चैंपियन वाले अंदाज में एक बार फिर वापसी की और फिर वह 2008 तक लगातार क्रिकेट खेले। मौजूदा बीसीसीआई अध्यक्ष और पूर्व कप्तान सौरभ गांगुली ने अपने करियर का आखिरी टेस्ट मैच नागपुर में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेला था। इस टेस्ट मैच में एमएस धोनी टीम इंडिया की कमान संभाल रहे थे। इस सीरीज के लिए अनिल कुंबले कप्तान थे। लेकिन नागपुर टेस्ट से पहले दिल्ली टेस्ट में उनका हाथ चोटिल हो गया और कुंबले इस उसी टेस्ट से संन्यास ले लिया। करियर के आखिरी लम्हों में गांगुली भी धोनी के फैसले को देखकर हैरान रह गए। उन्होंने मैच के अंतिम क्षणों में गांगुली को ही टीम की कप्तानी करने को कहा। धोनी के इस फैसले को याद करते हुए गांगुली ने कहा, ‘मेरा आखिरी टेस्ट नागपुर में था। यह अंतिम दिन का अंतिम सत्र था। मैं विदर्भ स्टेडियम से मैदान की ओर नीचे उतर रहा था। वे (टीम के खिलाड़ी) सभी मेरे आसपास खड़े थे और मैं मैदान में आ रहा था।’ मैच में कुछ ही ओवर बाकी थे कि धोनी ने कप्तानी की मशाल गांगुली को देने का निर्णय किया। गांगुली ने कहा, ‘यह मेरे लिए हैरानी भरा था। मैंने ऐसी उम्मीद नहीं की थी। लेकिन एमएस धोनी एमएस धोनी ही हैं। वह हमेशा अपनी कप्तानी की ही तरह हैरानियों भरे हैं। ‘

शेयर करें

मुख्य समाचार

लगभग पांच महीने के बाद स्क्वाश खिलाड़ियों ने शुरू किया अभ्यास

चेन्नई : भारत की शीर्ष महिला स्क्वाश खिलाड़ी जोशना चिनप्पा ने कोविड-19 महामारी के कारण लगभग पांच महीने के बाद सोमवार को भारतीय स्क्वाश अकादमी आगे पढ़ें »

थॉमस और उबेर कप बैडमिंटन फाइनल्स में भारत को मिला आसान ड्रा

नयी दिल्ली : भारत को डेनमार्क के आरहूस में तीन से 11 अक्टूबर तक होने वाले थॉमस और उबेर कप बैडमिंटन फाइनल्स में आसान ड्रा आगे पढ़ें »

ऊपर