कोहली के बात पर शास्त्री को कोच बनाया गया था, तो हरमनप्रीत के बोलने पर पोवार को कोच क्यों नहीं बनाया जा सकताः इडुल्जी

अपने ही जाल में फंसा बीसीसीआई

नई दिल्लीः प्रशासकों की समिति (सीओए) की सदस्य डायना इडुल्‍जी ने भारतीय महिला क्रिकेट टीम के कोच को लेकर छिड़े विवाद के बीच कप्तान विराट कोहली और पूर्व कोच अनिल कुंबले को लेकर खुलासा किया। इडुल्जी ने कहा कि कुंबले के कोचिंग के तरीकों से विराट खुश नहीं थे और इसे लेकर वह लगातार बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी राहुल जौहरी को मोबाइल संदेश भेजा करते थे। इसके बाद ही कुंबले को इस्तीफा देना पड़ा था जिसके सके बाद रवि शास्त्री की नियुक्ति की गई थी। इडुल्जी ने सवाल उठाया कि जब कोहली के कहने पर कुंबले की जगह शास्त्री कोच हो सकते हैं, तब महिला टीम की खिलाड़ियों की अपील पर रमेश पोवार कोच क्यों नहीं हो सकते।


चैंपियंस ट्राफी के खत्म होने का भी इंतजार नहीं किया गया था
कुंबले का अनुबंध 2017 चैंपियंस ट्रॉफी तक था। लेकिन, शास्त्री को जुलाई 2017 में ही टीम का कोच बनाया गया था। इसके लिए बोर्ड ने मई में ही विज्ञापन भी जारी कर दिए थे।
पोवार के लिए अपील में कुछ गलत नहीं
इडुल्जी ने कहा महिला खिलाड़ियों स्मृति मंधाना और हरमनप्रीत ने पोवार को कोच बनाने की अपील की, मुझे इसमें कुछ भी गलत नहीं लगता। बोर्ड कोहली के संदेशों पर कोच बदल सकते हैं। तभी नियमों के विपरित फैसला लिया गया था। मैंने तब भी आवाज उठाई थी। जब उस वक्त ऐसा फैसला लिया गया था, तब महिला खिलाड़ियों के कहने पर ऐसा क्यों नहीं हो सकता। उन खिलाड़ियों को यही सही लगता है।
समिति पर भी आपत्ति जताई
इडुल्जी ने यह बयान तब दिया, जब बीसीसीआई ने महिला टीम में कोच की नियुक्ति के लिए समिति का गठन किया। इस समिति में कपिल देव, अंशुमन गायकवाड और शांता रंगास्वामी हैं। इडुल्जी ने इस पर आपत्ति जताई और कहा कि इस संबंध में सीओए अध्यक्ष विनोद राय ने उनकी सहमति नहीं ली और वह इस एकतरफा फैसले को स्वीकार नहीं कर सकती हैं। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें भी समान अधिकार दिए हैं और उन्होंने इस फैसले पर हैरत जताई।
कुंबले के तौर-तरीकों से खुश नहीं थे कोहली- इडुल्जी
वेबसाइट ईएसपीएन के मुताबिक, इडुल्जी ने कहा कोहली लगातार जौहरी को एसएमएस भेजकर कुंबले के तौर-तरीकों के बारे में बताते थे। कोच और कप्तान के बीच मामला सुलझाने की कोशिश कई बार की गई। मुख्य सलाहकार समिति (सीएसी) ने प्रशासकों की समिति के कहने पर सुलह की कोशिश की और कुंबले को ही कोच बनाए जाने पर सहमति भी जताई, लेकिन तब भी मामला नहीं बना। बोर्ड ने जब कुंबले को बताया कि कोहली को उनके तौर-तरीके पर आपत्ति है, तब उन्होंने इस्तीफा दे दिया।
शास्त्री की नियुक्ति की प्रक्रिया गलत थी
उन्होंने बताया भारतीय पुरुष टीम में कोच की नियुक्ति की प्रक्रिया सीएसी देख रही थी। इसमें सचिन तेंडुलकर, सौरव गांगुली और वीवीएस लक्ष्मण हैं। सीएसी ने कुंबले को ही कोच पद पर बनाए रखने की बात कही, लेकिन तभी बोर्ड ने कोच पद पर दावेदारी की तारीख बढ़ा दी। शास्त्री ने आवेदन किया और उन्हें 2019 वर्ल्डकप तक टीम का कोच बनाया गया। यह पूरी प्रक्रिया गलत थी।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

मतदान केंद्र पर चुनाव अधिकारी को आया हार्ट अटैक, सीआरपीएफ जवान ने सूझबूझ से बचाई जान

श्रीनगरः लोकसभा चुनाव के दौरान जहां प्रत्याशी एक दूसरे पर हमलावर हो रहे है। सुरक्षाबलों का लगातार इस्तेमाल चुनावी प्रचार करने में लगे है। वहीं दूसरी तरफ सीआरपीएफ का एक जवान चुनाव ड्यूटी पर तैनात एक कश्‍मीरी मतदान अधिकारी के [Read more...]

एक फोन के बदले गूगल ने क्यों ऑफर किए 10 नए स्मार्टफोन

नई दिल्ली: अनुमान लगाइए की यदि आपको एक खराब फोन के बदले 68 हजार के 10 नए फोन दिए जाए तो आप क्या करेंगे? उम्मीद तो यही है कि आप खुशी के मारे फूले न समाएं या फिर यह [Read more...]

मुख्य समाचार

आरबीआई ने रेपो रेट घटाई, लोन सस्ते होने की उम्मीद

मुंबईः भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने रेपो रेट में 0.25% की कटौती की है। यह 6.25% से घटकर 6% हो गई है। मॉनेटरी पॉलिसी कमेटी (एमपीसी) की बैठक खत्म होने के बाद गुरुवार को ब्याज दरों की घोषणा की गई। [Read more...]

कांग्रेस का पूरा घोषणापत्र हिंदी में पढ़ें

कांग्रेस ने मंगलवार को अपना घोषणापत्र जारी किया जिसमें गरीब परिवारों को 72 हजार रुपये सालाना, 22 लाख सरकारी नौकरियां, महिलाओं को आरक्षण, धारा 370 को न हटने देने और देशद्रोह की धारा हटाने सहित कई वादे किए। यहां क्लिक [Read more...]

ऊपर