भारत के गली के बच्चों ने पहला स्ट्रीट चाइल्ड क्रिकेट विश्व कप जीता

लंदन : भारत के गली के बच्चों ने इंग्लैंड की धरती पर 30 मई से शुरू होने वाले आईसीसी एकदिवसीय विश्व कप से पहले  स्ट्रीट चाइल्ड क्रिकेट विश्व कप (एससीसीडब्ल्यूसी) के पहले खिताब को जीत लिया है। बच्चों का यह क्रिकेट विश्वकप  लंदन के विख्यात लॉर्ड्स क्रिकेट मैदान में खेला गया।
भारत ने दो टीमें भेजी थीं
भारत ने इस स्ट्रीट चाइल्ड विश्व कप में दो टीमें भेजी थीं। नॉर्थ इंडिया की टीम ने क्षेत्ररक्षण में शानदार प्रदर्शन किया। वहीं टीम साउथ इंडिया ने टूर्नामेंट जीतकर विश्व कप अपने नाम किया। नार्थ इंडिया के खिलाड़ी आयुष्मान को टूर्नामेंट में बेस्ट फील्डर का पुरस्कार दिया गया।
गली के बच्चों ने सपना पूरा किया
एससीसीडब्ल्यूसी का आयोजन आईसीसी क्रिकेट विश्व से ठीक पहले किया गया। यह गली से जुड़े बच्चों का पहला क्रिकेट विश्व कप था। उत्तर भारत के गली के बच्चों ने बुधवार को लंदन के विख्यात लॉर्ड्स क्रिकेट मैदान में आयोजित पहले स्ट्रीट चाइल्ड क्रिकेट विश्व कप में हिस्सा लिया और ऐसा सपना पूरा किया जिसे भारत का हर आयु वर्ग का क्रिकेटर देखता है।
भारत की दो टीमों में नॉर्थ इंडिया का समर्थन सेव द चिल्ड्रन व होप फाउंडेशन ने किया था। पीटीसी इंडिया फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड ने भी गली से जुड़े बच्चों के लिए राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उपस्थिति दर्ज कराने के इस मौके पर अपना समर्थन दिया था।
सात देशों की चाइल्ड क्रिकेट टीम ने भाग लिया
गौरतलब है कि दुनियाभर के गली के बच्चों के प्रति बनी नकारात्मक धारणा को चुनौती देने और उनकी समस्याओं के समाधान के प्रति लोगों को आकर्षित करने के उद्देश्य से आयोजित स्ट्रीट चाइल्ड क्रिकेट विश्व कप में सात देशों के गली से जुड़े बच्चों को उनके अपने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट टूर्नामेंट में हिस्सा लेने का मौका दिया गया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बाबूलाल मरांडी को नेता प्रतिपक्ष की मान्यता नहीं देने से नाराज भाजपा सदस्यों का झारखंड सदन में हंगामा

रांची : झारखंड विधानसभा में भारतीय जनता पार्टी विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी को नेता प्रतिपक्ष की मान्यता नहीं दिए जाने से नाराज भाजपा आगे पढ़ें »

बेगूसराय सीएसपी लूटकांड मामले में चार अपराधी गिरफ्तार

बेगूसराय : बिहार के बेगूसराय जिले में कुछ दिनों पूर्व ग्राहक सेवा केंद्र के संचालक से करीब पांच लाख रुपये की लूट के मामले में आगे पढ़ें »

ऊपर