भारत की युवा खिलाड़ी वैशाली ने पूर्व विश्व चैंपियन स्टेफनोवा को दी मात

चेन्नई : युवा भारतीय ग्रैंडमास्टर आर वैशाली ने फिडे चेस.कॉम महिला स्पीड शतरंज चैंपियनशिप के पहले चरण में पूर्व विश्व चैंपियन एंटोनेता स्टेफनोवा को हराकर उलटफेर किया लेकिन शीर्ष खिलाड़ी कोनेरू हंपी को हार का सामना करना पड़ा। चेन्नई की रहने वाली वैशाली क्वार्टर फाइनल में मंगोलिया की अंतरराष्ट्रीय मास्टर मुनखजुल तुरमुंख का सामना करेंगी। वैशाली ने बुल्गारिया की अपनी प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ 6-5 से जीत दर्ज की। इससे पहले उन्होंने क्वालीफाईंग चरण में वेलेंटिना गुनिना और एलिना काशलिनस्काया जैसी मजबूत खिलाड़ियों को हराया था। लेकिन मौजूदा विश्व रैपिड चैंपियन हंपी को पहले चरण में वियतनाम की अपनी प्रतिद्वंद्वी ली थाओ नगुएन फाम से 4.5 – 5.5 से हार का सामना करना पड़ा। पहले दो चक्र के बाद दोनों खिलाड़ी 3.5 के समान स्कोर पर थी लेकिन वियतनामी खिलाड़ी ने अंतिम चक्र में पहली दोनों बाजियों में जीत दर्ज की।

पूर्व विश्व चैंपियन का सामना करना और उसमें जीत दर्ज करना शानदार अनुभव

इस बीच वैशाली ने स्टेफनोवा पर जीत पर खुशी जाहिर की। उन्होंने कहा, ‘पूर्व विश्व चैंपियन का सामना करना और उसमें जीत दर्ज करना शानदार अनुभव रहा। पहले घंटे के बाद मैं 5.5-2.5 से बढ़त पर थी लेकिन इंटरनेट कनेक्शन गड़बड़ा जाने से मैंने कुछ समय गंवाया जिससे मुझे नुकसान हुआ। ’’ चेन्नई की रहने वाली वैशाली युवा शतरंज खिलाड़ी आर प्रागननंदा की बहन है। उन्होंने 2017 में एशियाई ब्लिट्ज चैंपियनशिप जीती थी। यह ग्रां प्री चार चरणों में होगी जिसमें कुल 21 खिलाड़ी भाग लेंगी। इनमें से हर खिलाड़ी को चार में तीन चरणों में भाग लेना है। प्रत्येक ग्रां प्री 16 खिलाड़ियों का नाकआउट टूर्नामेंट होगा जिसमें पहला चरण 24 से 28 जून के बीच खेला जाएगा। प्रत्येक ग्रां प्री की पुरस्कार राशि 10,300 डालर है जिसमें से विजेता को 3,000 डालर मिलेंगे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बंगाल में तीसरे दिन भी कोरोना के 800 से ज्यादा मामले, 25 की हुई मौत

कोलकाता : वेस्ट बंगाल कोविड-19 हेल्थ बुलेटिन के अनुसार पश्चिम बंगाल में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के 850 नये मामले आये है आगे पढ़ें »

कोरोना की वजह से 9वीं-12वीं के पाठ्यक्रम 30 फीसदी घटे

नयी दिल्ली : कोविड-19 के बढ़ते मामलों के बीच स्कूलों के ना खुल पाने के कारण शिक्षा व्यवस्था पर असर और कक्षाओं के समय में आगे पढ़ें »

ऊपर