बैडमिंटन कोच पुलेला गोपीचंद ने 26 लाख रुपये की मदद की

नई दिल्ली : कोरोना वायरस से जंग के लिए खेल जगत भी खुले दिल से आगे आ रहा है। राष्ट्रीय बैडमिंटन कोच पुलेला गोपीचंद ने भी इस वैश्विक महामारी से लड़ने के लिए मदद का हाथ बढ़ाया है। गोपीचंद ने इस घातक वायरस के खिलाफ मदद के लिए बने केंद्र और राज्य सरकारों के रिलीफ फंड में कुल 26 लाख रुपये की मदद की है। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा बनाए गए ‘पीएम केयर्स फंड’ में 11 लाख रुपये देने दिए हैं। इसके साथ ही उन्होंने 10 लाख रुपये तेलंगाना मुख्यमंत्री राहत कोष और 5 लाख रुपये आंध्र प्रदेश मुख्यमंत्री राहत कोष में दिए हैं। गोपीचंद ने बताया, ‘कोविड-19 से लड़ने के लिए मैं केंद्र और राज्य सरकार को अपनी ओर से छोटा सा सहयोग कर रहा हूं।’ ऑल इंग्लैंड चैंपियन इस पूर्व खिलाड़ी ने कहा, ‘हमारे देश में बहुत विविधता है और तमाम चुनौतियों के बावजूद केंद्र और राज्य सरकारें शानदार काम कर रही हैं।’ भारत को दो ओलिंपिक पदक दिलवाने में अहम भूमिका निभाने वाले कोच ने कहा, ‘हम सभी को अपनी ओर से मदद करनी चाहिए।’ उन्होंने लोगों से सरकार के दिशा-निर्देशों का पालन करने का भी अनुरोध किया। उन्होंने कहा, ‘घर पर रहिए, सुरक्षित रहिए।’ भारतीय टीम के फील्डिंग कोच आर. श्रीधर ने कोविड-19 से लड़ाई में चार लाख रुपये देने का फैसला किया। वह दो लाख रुपये प्रधानमंत्री राहत कोष और 1.5 लाख रुपये तेलंगाना मुख्यमंत्री राहत कोष के अलावा 50,000 रुपये सिकंदरा कंटोनमेंट बोर्ड में देने का फैसला किया है। श्रीधर ने ट्वीटर पर लिखा, ‘एक गौरवॉन्वित भारतीय नागरिक के तौर पर मैं प्रधानमंत्री राहत कोष में दो लाख और 1.5 लाख रुपये तेलंगाना मुख्यमंत्री राहत कोष में और 50,000 रुपये सिकंदराबाद कैंट बोर्ड में देने का फैसला किया है।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

टॉस विवाद पर बोले संगकारा- मैं जीता था लेकिन धोनी आवाज नहीं सुन पाए तो दोबारा सिक्का उछाला गया

नयी दिल्‍ली : भारत-श्रीलंका के बीच 2011 वर्ल्ड कप फाइनल में दोबारा टॉस कराने के मामले में अब जाकर श्रीलंका के पूर्व कप्तान कुमार संगकारा आगे पढ़ें »

ईसीबी ने 55 खिलाड़ियों को अभ्यास शुरू करने को कहा

लंदन : विश्व कप विजेता कप्तान इयोन मोर्गन और टेस्ट टीम के कप्तान जो रुट के अलावा इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) ने 55 आगे पढ़ें »

ऊपर