फीफि विश्व कप के 10 सबसे विवादास्पद पल

नई दिल्लीः फीफा विश्वकप 2018 का आगाज गुरुवार शाम 8.30 बजे से होने वाला है। आज से पूरे विश्व में फीफा का खुमार छाया रहेगा। मैच शुरू होने से पहले शाम 6.30 बजे से उद्घाटन समारोह का आयोजन किया जाएगा। पहला मैच मेजबान रूस और सउदी अरब के बीच खेला जाएगा। आइये इससे पहले एक नजर डालते है फीफा विश्व कप के इतिहास के 10 सबसे बड़े विवादस्पद पलों के बारे मेंः
सानतिआगो की जंग- 1962
चिली में तब तनाव फैल गया जब इटली के दो पत्रकारों ने सानतिआगो की भद्दे तरीके से व्याख्या की। इन पत्रकारों ने चिली की महिलाओं की खूबसूरती और उनके चरित्र को भी लेकर व्यंग्य किया। जवाब में चिली के मीडिया ने भी इटली पर हमला बोला और नतीजा मैच में खून-खराबा हो गया। मैच शुरू होने के 12 सैकंड के अंदर ही जॉर्जियो फेरिनी ने फाउल कर दिया और 12 मिनट बाद इस खिलाड़ी को होनोरिनो लांडा को खतरनाक तरीके से टैकल करने के लिए रैफरी ने मैदान से बाहर जाने को कहा लेकिन फेरिनी ने बाहर जाने से मना कर दिया। आखिर में पुलिस की मदद से उसे बाहर किया गया। इस बीच लांडा ने उसे पंच किया लेकिन उसे रेड कार्ड नहीं दिखाया गया। रैफरी ने लियोनेल सांचेज को भी इटली के मारियो डेविड को पंच करते नहीं देखा।
हिंसा यही नहीं थमी। इसके बाद सांचेज ने हमबर्टो मास्शियो की नाक पर घूंसा मारा। इसके बाद दोनों टीमों में मारपीट शुरू हो गई। पुलिस को तीन बार बीच बचाव के लिए मैदान में उतरना पड़ा। ये मैच चिली ने 2-0 से जीता।
जर्मनी बनाम फ्रांस 1982 सेमीफाइनल
1982 में जर्मनी और फ्रांस के बीच खेले गए मैच को जर्मनी ने पैनल्टी शूट आउट में जीता। मैच के निर्धारित समय में दोनों टीमें 3-3 से बराबर थीं। ये घटना उस समय हुई जब दोनों टीमें 1-1 से बराबर थीं। फ्रांस के पैट्रिक बैटिस्टॉन विरोधी गोल की तरफ बॉल को पकड़ने के लिए बढ़ रहे थे। दूसरी तरफ से जर्मनी के गोलकीपर हैराल्ड शूमाकर भी आगे की तरफ बढ़ रहे थे। पैट्रिक ने बॉल अपने कब्जे में ले ली लेकिन उनका शॉट निशाने से चूक गया। इस बीच गोलकीपर ने ऐसी छलांग लगाई की वह सीधे पैट्रिक से टकरा गए। ये इतनी जबरदस्त टक्कर थी कि पैट्रिक का एक दांत टूट गया, घुटने की हड्डी टूट गई और वह कोमा में चले गए। रैफरी ने गोल किक दी लेकिन शूमाकर को कोई सजा नहीं दी।
आयरिश सिविल वॉर-2002
आयरलैंड की 2002 विश्व कप की शुरुआत इससे बुरी नहीं हो सकती थी। विश्व कप के पहले आयरलैंड के ट्रेनिंग कैंप के दौरान ही टीम के दो दिग्गज आपस में भिड़ गए। रॉय कीन और माइक मैक्कार्थी के बीच हाथापाई की नौबत आ गई थी। कीन ने एक साक्षात्कार में टीम की तैयारी को लेकर मैनेजर मैक्कार्थी की जमकर आलोचना की। दोनों के बीच तनाव बढ़ता गया। शे गिवन ने 2017 में अपनी आत्मकथा में बताया कि कीन ने टीम मीटिंग में मैनेजर से कहा: तुम मुझसे सवाल क्यों कर रहे हो ? तुम होते कौन हो ? तुम खिलाड़ी भी बकवास थे और मैनेजर भी बकवास हो। बतौर मैनेजर तुम्हें मेरे देश को मैनेज नहीं करना चाहिए।
इसक बाद कीन को विश्व कप के पहले ही घर वापस भेज दिया गया। आयरलैंड ग्रुप स्टेज से आगे निकली लेकिन अंतिम 16 के मुकाबले में स्पेन से हार गई।
लुइस सौरेज का हैंडबॉल-2010
क्वार्टर फाइनल में घाना का मुकाबला उरूग्वे से था। लेकिन मैच के बाद घाना के फैंस ने खुद को ठगा सा मेहसूस किया। अतिरिक्त समय के अंतिम क्षणों में घाना के डोमिनिक अदियिहा ने हेडर से बॉल को गोल की तरफ दागा लेकिन लुइस सौरेज गोल लाइन पर बॉल हाथ से रोक दी। सौरेज को रेड कार्ड मिला। इस बीच घाना के असामोह ज्ञान ने 12 गज से पैनल्टी किक लगाई जो क्रॉसबार से टकरा गई। सौरेज ने बाहर बैठकर इसका यूं जश्न मनाया मानों उन्होंने गोल कर दिया हो। घाना पैनल्टी शूट आउट में हार गई और सौरेज साउथ अफ्रीका के लिए विलेन बन गए।
जब रोनाल्डो मैदान में दिखे नहीं-1998
पेरिस में होने वाले इस फाइनल में मुकाबले में ब्राजील और फ्रांस आमने सामने थे। सबको उम्मीद थी कि रोनाल्डो ब्राजील को विश्व कप जितवाएंगे क्योंकि इसके पहले वे 4 गोल कर चुके थे। लेकिन जब टीम की घोषणा हुई तो लिस्ट में से रोनाल्डो का नाम गायब था। पूरा स्टोडियम सन्नाटे में आ गया। लेकिन कुछ देर में एक दूसरी लिस्ट जारी हुई जिसमें रोनाल्डो का नाम था। लेकिन लोग ये देखकर दंग रह गए कि रोनाल्डो मैदान में एकदम सुस्त पड़े थे। फाइनल फ्रांस ने 3-0 से जीत लिया। बाद में पता चला कि मैच के कुछ घंटे पहले रोनाल्डो को फिट पड़े थे।
डिएगो माराडोना फंसे ड्रग टेस्ट में-1994
इस विश्व कप में अर्जेंटीना को खिताब का प्रबल दावेदार माना जा रहा था। लेकिन तभी खबर आई की माराडोना ड्रग टेस्ट में फेल गए। इसके पहले 1991 में इटेलियन लीग में माराडोना कोकिन के टेस्ट में भी फेल हो गए थे और उन्हें 15 महीने के लिए निलंबित कर दिया गया था। 1994 विश्व कप में दूसरे मैच के बाद माराडोना फिर ड्रग टेस्ट में फेल हो गए और उन्हें 15 महीने के लिए निलंबित किया गया। आखिरकार माराडोना 1997 में 36 साल की उम्र में रिटायर हो गए।
हैंड ऑफ गॉड- 1986
इंग्लैंड और अर्जेंटीना के बीच 1986 क्वार्टर फाइनल विश्व कप इतिहास का सबसे विवादास्पद मैच माना जाता है। माराडोना ने इस मैच में हाथ से गोल किया था जिसकी चारों तरफ खूब आलोचना हुई थी। बाद में माराडोना ने कहा- वह हैंड ऑफ गॉड था। ये मैच अर्जेंटीना ने 2-1 से जीता था।
ज्योफ हर्स्ट का गोल-1966
1966 विश्व कप फाइनल में पश्चिम जर्मनी के खिलाफ इंग्लैंड के ज्योफ हर्स्ट का गोल बहुत विवादास्पद था। अतिरिक्त समय में दोनों टीमें 2-2 से बराबर थीं। हर्स्ट ने पेनल्टी एरिये से किक लगाई और बॉल क्रॉसबार के अंदर लगी। रेफरी को ये पता नहीं था कि बॉल ने गोललाइन पार की या नहीं। उन्होंने लाइनमैन से पूछा और कुछ देर में गोल करार दिया। जबकि रिप्ले से साफ था कि बॉल ने गोललाइन पार नहीं की थी। इंग्लैड ने ये मैच 4-2 से जीता था।
जिडान का हेडबट- 2006
फ्रांस और इटली के बीच 2006 विश्व कप फाइनल मैच जिनेडिन जिडान के हेडबट के लिए जाना जाता है। कहा जाता है कि इटली के मैटरेजी ने जिडान की बहन के लिए अपशब्द कहे थे जिससे नाराज होकर जिडान ने सिर से उस पर वार किया था। इस बात के लिए जिडान को रेड कार्ड दिखाया गया था। बाद में मैटरेजी ने इस बात की पुष्टि भी की थी कि उन्होंने जिडान की बहन को लेकर अपशब्द कहे थे। ये मैच फ्रांस पेनल्टी शूट आउट में हार गई थी।
आंद्रे एस्कोबार का सेल्फ गोल-1994
1994 विश्व कप के बाद एक ऐसी त्रासदी हुई जिसने सारे फुटबाल जगत को हिलाकर रख दिया। कोलंबिया ने बहुत अच्छी शुरुआत की थी लेकिन ग्रुप स्टोज में अमेरिका से हारकर बाहर हो गई। कोलंबिया के कप्तान आंद्रे एस्कोबार ने अपने ही गोल में गोल दाग दिया था। उनको अपनी गलती की कीमत अपनी जान से चुकानी पड़ी। एक रात जब वह बाहर थे, तभी उन्हें किसी ने गोली मार दी। उनकी शवयात्रा में एक लाख से ज्यादा लोग शामिल हुए थे। ये मैच अमेरिका ने 2-1 से जीता था।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

साइना ने इंडोनेशिया मास्टर्स खिताब जीता

बीच मैच से हटी मारिनजकार्ताः शीर्ष भारतीय शटलर साइना नेहवाल ने रविवार को यहां इंडोनेशिया मास्टर्स के फाइनल में तीन बार की विश्व चैम्पियन कैरोलिना मारिन के पैर में चोट के कारण हटने से दो साल में [Read more...]

कुश्ती राष्ट्रीय खेल बनने का हकदार: बजरंग पूनिया

ग्रेटर नोएडाः राष्ट्रमंडल और एशियाई खेलों के स्वर्ण पदक विजेता पहलवान बजरंग पूनिया ने कुश्ती को राष्ट्रीय खेल घोषित करने की मांग का समर्थन करते हुए कहा कि इस खेल ने पिछले तीन ओलंपिक में देश को पदक दिलाया है। [Read more...]

मुख्य समाचार

प्रेमी को जमकर पीटा फिर पेट्रोल छिड़क कर जला दिया

पूर्व मिदनापुर: पूर्व मिदनापुर जिले के भूपतिनगर में एक प्रेमी युवक की पहले पिटाई की कई, बाद में शरीर पर पेट्रोल छिड़ककर फूंक दिया गया। आरोप उसकी प्रेमिका के घरवालों पर लगा है। मृतक की प्रेमिका, उसके घर के 4 [Read more...]

रेल रोको आंदोलन से चार घंटे तक ठहरी ट्रेनें

मालदहः माकपा कार्यकर्ताओं के रेल रोको आंदोलन के कारण कई स्टेशनों पर ट्रेनें घंटों खड़ी रह गईं। इससे यात्रियों को व्यापक परेशानी का सामना करना पड़ा। दरअसल 10 सूत्री मांगों के समर्थन में जिला माकपा ने शनिवार को हरिश्चंद्रपुर स्टेशन [Read more...]

ऊपर