पीवी सिंधु और पूजा रानी का मुकाबला थोड़ी देर में, जीतीं तो मेडल पक्का

नई दिल्ली : भारत ने टोक्यो में अब तक दो मेडल पक्के किए हैं। महिला वेटलिफ्टर मीराबाई चानू ने सिल्वर मेडल जीता है जबकि महिला बॉक्सर लवलीना बोरगोहेन ने सेमीफाइनल में पहुंचकर मेडल पक्का कर लिया है। कुछ देर में महिला बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु और महिला बॉक्सर पूजा रानी उतरने वाली हैं। दोनों खिलाड़ी अगर मुकाबला जीतने में सफल रहीं तो दो और मेडल मिल जाएंगे। इससे पहले 2016 रियो ओलंपिक में भी सिंधु ने सिल्वर मेडल जीता था।
भारतीय स्‍टार पीवी सिंधु अपने दूसरे ओलंपिक मेडल से महज एक कदम दूर हैं। उन्‍होंने क्‍वार्टर फाइनल में जापान की अकाने यामागुची को सीधे गेमों में हराकर सेमीफाइनल में जगह बनाई, जहां उनका मुकाबला शुक्रवार को चीनी ताइपे की ताई जु यिंग से होगा। रियो ओलंपिक की सिल्‍वर मेडलिस्‍ट सिंधु पर पूरे देश की नजरें टिकी हुई हैं। उम्‍मीद की जा रही है कि वो इस बार अपने मेडल का रंग बदलेंगी। हालांकि ताई जु के खिलाफ सिंधु का रिकॉर्ड अच्छा नहीं है। दोनों के बीच 18 मुकाबले हुए हैं. सिंधु को सिर्फ 5 में जीत मिली है। 13 मुकाबले ताई जु ने जीते हैं।
सिंधु के क्‍वार्टर फाइनल मुकाबले की बात करें तो यामागुची के खिलाफ उन्‍होंने पहला गेम तो आसानी से जीत लिया था, मगर दूसरे गेम में उन्‍हें काफी पसीना बहाना पड़ा। यामागुची ने शानदार वापसी की थी, मगर दूसरे गेम में भारतीय स्‍टार दो गेम पॉइंट बचाने में सफल रही। उन्‍होंने 56 मिनट में 21 13, 22 20 से मुकाबला अपने नाम किया।
पूजा रानी मेडलिस्ट से भिड़ेंगी
महिला बॉक्सिंग के मिडिल वेट कैटेगरी के क्वार्टर फाइनल में पूजा रानी से अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद है। 2021 में एशियाई चैंपियनशिप का खिताब जीतने वाली पूजा के सामने 2016 रियो ओलंपिक की ब्रॉन्ज मेडलिस्ट विजेता चीनी बॉक्सर ली क्यू हैं। ऐसे में पूजा के लिए चुनौती आसान नहीं होगी। इससे पहले पूजा रानी ने 20 साल की अलजीरिया की मुक्केबाज इचरक चाइब को 5-0 से हराया था। यानी उन्होंने आसान जीत दर्ज की थी।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

हावड़ा में तृणमूल में आने के लिए भाजपा नेताओं की है लंबी लाइन : अरूप राय

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : राज्य में तृणमूल कांग्रेस की तीसरी बार सरकार बनने के बाद से भाजपा के कई बड़े नेताओं के सुर बदलने लगे। भाजपा आगे पढ़ें »

ऊपर