पहलवान सुनील कुमार को ग्रीको रोमन में गोल्ड मेडल, भारत का 27 साल का इंतजार खत्म

नयी दिल्ली : भारत के सुनील कुमार ने जबरदस्त प्रदर्शन करते हुए किर्गिजस्तान के अजात सलिदिनोव को मंगलवार को एकतरफा अंदाज में 5-0 से हराकर सीनियर एशियाई कुश्ती चैंपियनशिप के ग्रीको रोमन के 87 किग्रा वर्ग में स्वर्ण पदक जीतकर 27 साल बाद नया इतिहास रच दिया। सुनील ने एशियाई चैंपियनशिप में 27 वर्षों के लम्बे अंतराल के बाद इतिहास रचा है। भारत का ग्रीको रोमन में आखिरी स्वर्ण 1993 में था जिसे पप्पू यादव ने जीता था। भारत को प्रतियोगिता के पहले दिन दो कामयाबी मिली। सुनील ने जहां 87 किग्रा में स्वर्ण जीता वहीं अर्जुन हालाकुरकी ने 55 किग्रा वर्ग में कांस्य पदक हासिल किया।
सेमी फाइनल में पिछड़ने के बावजूद जीत दर्ज की
यहां इंदिरा गांधी स्टेडियम के केडी जाधव कुश्ती हाल में आयोजित चैंपियनशिप के पहले 87 किग्रा वर्ग के सेमीफाइल मुकाबले में सुनील कजाखिस्तान के अजामत कुस्तुबायेव के खिलाफ एक समय 1-8 से पिछड़ रहे थे लेकिन उन्होंने शानदार वापसी करते हुए लगातार 11 अंक जीते और 12-8 से मुकाबला अपने नाम कर लिया। गत वर्ष भी सुनील ने फाइनल में प्रवेश किया था लेकिन उन्हें रजत पदक से संतोष करना पड़ा था लेकिन इस बार सुनील ने इतिहास रच दिया।
सुनील ने इससे पहले क्वार्टरफाइनल में जापान के ताकाहिरो सुरुदा को 8-2 से पराजित किया था और सेमीफाइनल में कजाखिस्तान के अजामत कुस्तुबायेव को हराया।
55 किग्रा में ईरानी पहलवान ने अर्जुन को हराया
अर्जुन को 55 किग्रा वर्ग के सेमीफाइनल में एक कड़े मुकाबले में ईरान के पोया मोहम्मद नसीरपोर से 7-8 से हार का सामना करना पड़ा। लेकिन अर्जुन ने कांस्य पदक के लिए कोरिया के डोंगह्यूक वोन को 7-4 से हराकर कांस्य पदक जीत लिया। 130 किग्रा वर्ग के सेमीफाइनल मुकाबले में भारत के मेहर सिंह को कोरियाई पहलवान मिनसोक किम से 1-9 से करारी शिकस्त झेलनी पड़ी।
कांस्य पदक मुकाबले में हार गये मेहर
मेहर सिंह कांस्य पदक मुकाबले में उतरे लेकिन किर्गिजिस्तान के रोमन मिंज ने उन्हें नजदीकी मुकाबले में 3-2 से हरा दिया। मेहर ने क्वार्टरफाइनल में उज्बेकिस्तान के दलेर रख्मातोव को 4-0 से हराकर अच्छी शुरुआत की लेकिन उन्हें फिर सेमीफाइनल और कांस्य पदक मुकाबले में हार का सामना करना पड़ा। भारत की ओर से पदक के प्रबल दावेदार माने जा रहे साजन को 77 किग्रा वर्ग में निराशाजनक रूप से हार का सामना करना पड़ा। साजन को पहले ही राउंड में किर्गिजस्तान के रेनत इलियाजुलु से 6-9 से हार झेलनी पड़ी। इलियाजुलु के सेमीफाइनल में हारने के कारण साजन के रेपेचेज में उतरने की उम्मीदें समाप्त हो गयीं। 63 किग्रा वर्ग में भी भारत को निराशा हाथ लगी। इस वर्ग में भारत के सचिन राणा को क्वार्टरफाइनल में उज्बेकिस्तान के एलमुरात तासमुरादोव ने 8-0 के बड़े अंतर से हरा दिया। तासमुरादोव फाइनल में पहुंचे जिससे सचिन को रेपेचेज में उतरने का मौका मिल गया लेकिन वह कजाकिस्तान के येरनूर फिदाखमेतोव से 3-6 से हारकर कांस्य पदक मुकाबले में उतरने का मौका चूक गए।

शेयर करें

मुख्य समाचार

15 साल के गोल्फर ने खिताब और ट्राफियों को बेचकर पीएम केयर्स में दान किये 4.30 लाख रुपये

नयी दिल्ली : कोरोना वायरस संक्रमण से लोगों के बचाव के लिए देशभर में लागू 21 दिन के लॉकडाउन के बीच युवा गोल्फर अर्जुन भाटी आगे पढ़ें »

अस्पतालों में सुरक्षा उपकरणों की कमी तत्काल दूर हो : डॉ.वैश्य

नई दिल्ली: भारत में कोरोनावायरस के खिलाफ लड़ाई में चिकित्सक, नर्स एवं अन्य स्वास्थ्य कर्मी मजबूती के साथ डटे हुए है। स्वास्थ्यकर्मी अपनी जान को आगे पढ़ें »

ऊपर