नीचले क्रम में बल्लेबाजी देने की वजह से खफा थे कार्तिक

रोहित ने अनोखे अंदाज में मनाया
कोलंबोः श्रीलंका में आयोजित निदाहास ट्रॉफी टी-20 सीरीज के फाइनल में आखिरी गेंद पर छक्का जड़कर भारतीय टीम को जीत दिलाने वाले दिनेश कार्तिक की हर कोई तारीफ कर रहा है। लेकिन टीम के कप्तान रोहित शर्मा ने खुलासा किया कि निचली क्रम में बल्लेबाजी के लिए भेजे जाने को लेकर कार्तिक नाराज थे। वे छठे स्थान पर बल्लेबाजी के लिए उतरना चाहते थे।
भारतीय कप्तान रोहित शर्मा ने भी दिनेश की तारीफों के पुल बांध दिए। उन्होंने कहा कि कार्तिक किसी भी हालात में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने के लिये हमेशा तैयार रहता है। साथ ही उनका अनुभव और शॉट जमाने में महारत के कारण वह डेथ ओवरों में भारत के लिये आदर्श खिलाड़ी बन जाते हैं।
रोहित ने किया खुलासा
रोहित ने खुलासा किया कि कार्तिक ऊपरी क्रम में बल्लेबाजी के लिये नहीं भेजे जाने से नाखुश थे लेकिन भारतीय कप्तान ने उन्हें सातवें नंबर पर बल्लेबाजी के लिये भेजने के फैसले का बचाव किया। उन्होंने कहा ‘जब मैं आउट हुआ और डगआउट में बैठा था तो कार्तिक थोड़ा नाराज था कि उसे छठे नंबर पर बल्लेबाजी के लिये नहीं भेजा गया।’ रोहित ने कहा ‘लेकिन मैंने उससे कहा, मैं चाहता हूं कि आप हमारे लिये मैच का अंत करो, क्योंकि आपके स्किल और अनुभव की अंतिम तीन या चार ओवरों में जरूरत पड़ेगी।’
रोहित ने बताया कि इसी वजह से 13वें ओवर में मेरे आउट होने के बाद दिनेश को छठे नंबर पर बल्लेबाजी के लिये नहीं भेजा गया, वह इससे खफा था लेकिन मैच का सुखद अंत करके अब बहुत खुश है।’
आखिरी दो ओवरों में कार्तिक ने ऐसे पलटा पासा, बना डाला विश्व रिकॉर्ड
19वें ओवर में बल्लेबाजी करने आए कार्तिक ने महज 8 बॉल पर 29 रन की तूफानी पारी खेली और उन्हें मैन ऑफ द मैच भी चुना गया। कार्तिक ने अपनी इस पारी में 3 छक्के और 2 चौके जड़कर बांग्लादेश के मुंह से जीत छीन ली।
कार्तिक जब बैटिंग करने आए थे तो टीम इंडिया को जीत के लिए 12 बॉल पर 34 रन की दरकार थी। यहां टीम इंडिया की जीत की उम्मीदें कम लग रही थी। लेकिन कार्तिक ने पहले रुबेल हुसैन के ओवर में दो चौके और दो छक्के जड़कर 22 रन ठोक डाले।
इसके बाद अंतिम ओवर में भारत को जीत के लिए 12 रन चाहिए थे। बांग्लादेश की ओर से अंतिम ओवर सौम्य सरकार करने आते हैं और सामने स्ट्राइक पर विजय शंकर होते हैं। सरकार पहली बॉल वाइड फेंकते हैं और अब टीम इंडिया को जीतकर के लिए 11 रन चाहिए थे। इसकी अगली बॉल पर शंकर रन बनाने से चुक जाते हैं, लेकिन दूसरी बॉल पर वह किसी तरह एक रन बनाने में कामयाब रहते हैं और स्ट्राइक कार्तिक के पास आ जाती है।
जिस तरह से कार्तिक रन बना रहे थे उसे देखते हुए लग रहा था अगली बॉल पर वह बाउंड्री मारने में कामयाब रहेंगे लेकिन ऐसा नहीं होता है और उन्हें एक रन से संतोष करना होता है। ओवर की चौथी बॉल पर शंकर चौका लगाने में कामयाब रहते हैं। अब भारत को चैंपियन बनने के लिए अंतिम दो बॉल पर 5 रन चाहिए थे। लेकिन शंकर 5वीं बॉल पर कैच आउट हो जाते हैं पर अच्छी बात यह रहती है कि स्ट्राइक कार्तिक के पास आ जाती है।
अंतिम गेंद में छक्का, दिलाई ऐतिहासिक जीत
अब टीम इंडिया को एक बॉल पर जीतने के लिए 5 रन चाहिए थे और सामने कार्तिक खड़े होते हैं। सरकार ऑफ स्टंप के बाहर फुल लेंथ की गेंद फेंकते हैं, जिसे कार्तिक ऑफ स्टंप पर आकर एक्सट्रा कवर पर छक्का मारने में कामयाब रहते हैं और इसी के साथ भारत निदाहास ट्रॉफी जीतने में कामयाब रहता है। इतना ही नहीं कार्तिक टी-20 अंतरराष्ट्रीय में अंतिम बॉल पर छक्का मारकर टीम को मैच जीताने वाले पहले बल्लेबाज बन गए हैं। ऐसा तब है जब जीतने के लिए छक्का ही चाहिए हो।
भारत की जीत पर गावस्‍कर का कमेंट्री बॉक्‍स में ‘नागिन डांस’
भारत और बांग्लादेश के बीच रविवार को खेले जा रहे फाइनल मुकाबले में भी रोहित शर्मा के शॉट्स को देख श्रीलंकाई फैन्स स्टेडियम में नागिन डांस करते नजर आए। वहीं भारतीय टीम के पूर्व कप्तान सुनील गावस्‍कर भी मैच के दौरान कमेंट्री बॉक्स में नागिन डांस करते नजर आए। रोहित शर्मा ने रुबेल हुसैन की गेंद पर चौका जड़ा तो गावस्कर अपने आपको रोक नहीं पाए और कमेंट्री बॉक्‍स में ब्रेट ली के सामने नागिन डांस करने लगे।
बांग्लादेशी प्रशंसकों को यह रास नहीं आई
सुनील गावस्‍कर की इस हरकत से बांगलादेशी फैन्स के अंदर काफी गुस्सा है। उन्हें लग रहा है कि गावस्कर ने ऐसा कर उनकी टीम और खिलाड़ियों का मजाक बनाया है। यही वजह है कि सोशल मीडिया पर कुछ फैन्स को खूब गालियां दे रहे हैं। वहीं दूसरी ओर श्रीलंकाई प्रशंसक के सामने जैसे ही बड़े स्क्रीन पर गावस्कर का यह वीडियो आया, उन्होंने भी नागिन डांस करना शुरू कर दिया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

लोगों में पीओके की आजादी के लिये ‘जुनून’ है : ठाकुर

जम्मू : केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने सोमवार को कहा कि जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को समाप्त करने के बाद पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर आगे पढ़ें »

पिछले पांच-छह साल में बढ़े हैं दलितों पर अत्याचार : प्रशांत भूषण

नयी दिल्ली : भीम आर्मी द्वारा आयोजित संवाददाता सम्मेलन में सामाजिक कार्यकर्ता व वकील प्रशांत भूषण ने सोमवार को आरोप लगाया कि पिछले पांच-छह साल आगे पढ़ें »

ऊपर