नहीं रहे धोनी के मेंटर देवल सहाय

रांचीः इंडियन क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के मेंटर रहे देवल सहाय का मंगलवार सुबह निधन हो गया। 73 साल के देवल सहाय ने मेडिका अस्पताल में अंतिम सांस ली। वे पिछले तीन महीने से बीमार चल रहे थे जिसके बाद उनका उनका इलाज अस्पताल में कराया जा रहा था। देवल सहाय झारखंड राज्य क्रिकेट संघ के उपाध्यक्ष भी रहे थे। 1997-98 में सेंट्रल कोलफील्ड्स लिमिटेड (सीसीएल) के निदेशक के तौर पर देवल सहाय ने महेंद्र सिंह धोनी को स्टाइपेंड पर रखा था। एमएस धोनी की बायोपिक में भी देवल सहाय का जिक्र किया गया है। महेंद्र सिंह धोनी को क्रिकेट जगत में इतनी ऊंचाई तक पहुंचाने में अहम भूमिका निभाई है।

रांची के दर्जनों क्रिकेटरों को दिया मुकाम
खेल प्रशासक के रूप में रांची के दर्जनों क्रिकेटरों के करियर को मुकाम देने में देवल सहाय की अहम भूमिका रही है। उनके निर्देशन में दर्जनों क्रिकेटरों ने देश व राज्य का प्रतिनिधित्व किया। इनमें महेंद्र सिंह धोनी, प्रदीप खन्ना, आदिल हुसैन, अनवर मुस्तफा, धनंजय सिंह, सुब्रत दा, संजीव सिन्हा, राजीव कुमार राजा, सरफराज अहमद समेत दर्जनों क्रिकेटर शामिल हैं।

खिलाड़ियों के लिए नौकरी के द्वार खोले

देवल सहाय मेकॉन, सीएमपीडीआई और सीसीएल में वरीय पदों पर कार्यरत रहे। अपने कार्यकाल के दौरान उन्होंने तीनों संस्थाओं में खिलाड़ियों की सीधी नियुक्ति का द्वार खोला। इसका ज्यादा फायदा क्रिकेटरों को मिला लेकिन अन्य खेलों के खिलाड़ियों की भी नियुक्ति हुई।

सहाय अपने पीछे पत्नी, एक बेटी और एक बेटे को छोड़ गए हैं। सहाय, जिनका पहला नाम देवब्रत था, लेकिन लोग उन्हें देवल बुलाते थे। उन्हें सांस लेने में तकलीफ के कारण अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उन्हें 9 अक्टूबर को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई थी।

 

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

tmc

बौखला उठे हैं भाजपा प्रवक्ता, मर्यादा की सारी सीमाएं लांघ रहे हैं

तृणमूल को बांग्लादेशी पार्टी कहा, प्रवक्ता को बंगलादेशी सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : जैसे - जैसे विधानसभा चुनाव करीब आ रहा है वैसे - वैसे भाजपा में बौखलाहट आगे पढ़ें »

मुख्यमंत्री के साथ हुए व्यवहार पर नरेंद्र मोदी ने एक शब्द नहीं कहा – तृणमूल

पीएम के रवैये पर तृणमूल ने जताया खेद सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती पर विक्टोरिया मेमोरियल में आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ममता आगे पढ़ें »

ऊपर