नहीं किया जाएगा आईपीएल के उद्घाटन समारोह का आयोजन, शहीद के परिवारों की मदद करेगा बोर्ड

पाकिस्तान से वर्ल्ड कप मैच पर नहीं हुआ फैसला

नई दिल्लीः भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) और प्रशासकों की समिति (सीओए) की बैठक में शुक्रवार को विश्व कप में भारत-पाक मुकाबले के बारे कोई फैसला नहीं लिया गया। वहीं इस दौरान इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) ओपनिंग सेरमनी को लेकर बड़ा फैसला किया गया। इस बार हर वर्ष की तरफ आईपीएल ओपनिंग सेरेमनी का आयोजन नहीं किया जाएगा। बैठक में ये तय किया गया है कि ओपनिंग सेरेमनी के लिए तय फंड से आतंकी हमले में शहीद हुए जवानों के परिवारों की मदद की जाएगी। सीओए ने ये फैसला पुलवामा में हुए आतंकी हमलों में शहीद हुए जवानों को श्रद्धांजलि देते हुए किया।

सरकार पर छोड़ा फैसला

बैठक के बाद सीओए ने बताया की बैठक में इस मुद्दे पर चर्चा हुई लेकिन अभी इस पर फैसला नहीं लिया गया है। हालांकि बीसीसीआई ने आईसीसी को इस मुद्दे पर ई-मेल लिखा है, जिस पर सुरक्षा से जुड़े दो मुद्दों का जिक्र किया गया है। बीसीसीआई ने पाकिस्तान के खिलाफ मैच नहीं खेलने का फैसला सरकार पर छोड़ दिया है।

दूसरे देशों को खत लिखेगी

बैठक के बाद विनोद राय ने ये भी बताया कि बीसीसीआई क्रिकेट खेलने वाले दूसरे देशों को पाकिस्तान के खिलाफ खत लिखेगी। बीसीसीआई इस खत में आतंक को प्रायोजित करने वाले देश पाकिस्तान के खिलाफ नहीं खेलने की अपील करेगी।

चहल ने किया समर्थन

आपको बता दें टीम इंडिया के खिलाड़ी युजवेंद्र सिंह ने भी पाकिस्तान से वर्ल्ड कप मैच नहीं खेलने की बात कही है। चहल ने ये बात एक साक्षात्कार के दौरान कही।

23 मार्च से शुरू होगा

आईपीएल 2019 के मुकाबले 23 मार्च से शुरू होंगे और इसके पहले दो सप्ताह के कार्यक्रम की घोषणा भी कर दी गई थी। आगे के कार्यक्रम की घोषणा के लिए बोर्ड चुनाव की तारीखों के एलान का इंतजार कर रहा है। इस बार आईपीएल का पहला मुकाबला मौजूदा चैंपियन चेन्नई सुपर किंग्स व रॉयल चैलेंजर बैंगलोर के बीच खेला जाएगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बंगाल में तीसरे दिन भी कोरोना के 800 से ज्यादा मामले, 25 की हुई मौत

कोलकाता : वेस्ट बंगाल कोविड-19 हेल्थ बुलेटिन के अनुसार पश्चिम बंगाल में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के 850 नये मामले आये है आगे पढ़ें »

कोरोना की वजह से 9वीं-12वीं के पाठ्यक्रम 30 फीसदी घटे

नयी दिल्ली : कोविड-19 के बढ़ते मामलों के बीच स्कूलों के ना खुल पाने के कारण शिक्षा व्यवस्था पर असर और कक्षाओं के समय में आगे पढ़ें »

ऊपर