धोनी जैसे खिलाड़ी पीढ़ियों बाद आते हैं, संन्यास के लिए मजबूर ना करें : नासिर हुसैन

मुंबई : इंग्लैंड के पूर्व कप्तान नासिर हुसैन ने शनिवार को कहा कि महेंद्र सिंह धोनी जैसा क्रिकेटर एक पीढी में एक आता है और इसलिये उस पर ‘संन्यास का दबाव बनाने’ वालों को एहतियात बरतनी चाहिये। हुसैन का मानना है कि भारत का यह पूर्व कप्तान अभी भी भारतीय क्रिकेट को बहुत कुछ दे सकता है। हुसैन ने कहा कि जितना मैंने उन्हें देखा है, मुझे अभी भी लगता है कि धोनी जैसे खिलाड़ी कई पीढ़ियों बाद आते हैं। उन्होंने ‘क्रिकेट कनेक्टेड’ शो में बातचीत में कहा कि ‘धोनी के जाने के बाद उसके जैसा कोई नहीं मिलेगा। उस पर संन्यास का दबाव बनाना सही नहीं है। सिर्फ धोनी को पता है कि वह किस स्थिति में हैं। आखिर में चयनकर्ताओं को फैसला लेना है और खिलाड़ी मौका मिलने पर खेलते हैं।’’ धोनी ने आखिरी बार जुलाई में न्यूजीलैंड के खिलाफ विश्व कप सेमीफाइनल में खेला था। उसके बाद से उन्होंने प्रतिस्पर्धी क्रिकेट नहीं खेला है। सुनील गावस्कर और कपिल देव जैसे पूर्व दिग्गजों ने साफ तौर पर कहा है कि इतने लंबे ब्रेक के बाद उनके लिये वापसी करना मुश्किल होगा। लेकिन हुसैन उनकी राय से इत्तेफाक नहीं रखते। उन्होंने कहा,‘‘ क्या एम एस धोनी अभी भी भारतीय टीम को कुछ दे सकते हैं। मेरा मानना है कि बहुत कुछ।’’ उन्होंने हालांकि स्वीकार किया कि विश्व कप के दौरान धोनी कुछ मौकों पर चूक गए जब वह पारी की रफ्तार नहीं बढा सके। खासतौर पर बीते साल इंग्लैंड के खिलाफ वर्ल्ड कप मुकाबले में। लेकिन उनमें अभी भी टैलेंट है। सुनील गावस्कर, कपिल देव जैसे कई पूर्व दिग्गज यह बात कह चुके हैं कि इतने लंबे ब्रेक के बाद धोनी के लिए अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में वापसी आसान नहीं होगी। लेकिन 1999 से 2003 तक इंग्लैंड के कप्तान रहे हुसैन अलग राय रखते हैं। उनका कहना है कि अगर वह अच्छा क्रिकेट खेलेंगे तो उनकी टीम में जगह होगी। यह हर खिलाड़ी पर लागू होता है। उन्होंने आगे कहा कि सिर्फ धोनी को ही अपनी मानसिक स्थिति के बारे में पता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सन्मार्ग एक्सक्लूसिव :आर्थिक पैकेज से हर वर्ग को राहत, न अन्न की कमी, न धन की : ठाकुर

 विशेष संवाददाता, कोलकाता : कोविड-19 संकट के आघात से देश और देश की अर्थव्यवस्था को उबारने के लिए केंद्र सरकार हरसंभव कोशिश कर रही है। आगे पढ़ें »

जार्ज फ्लायड की मौत पर आईसीसी ने कहा, विविधता के बिना क्रिकेट कुछ नहीं

दुबई : अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने शुक्रवार को कहा कि ‘क्रिकेट विविधता के बिना कुछ भी नहीं है।’ उसने यह बयान अफ्रीकी मूल के आगे पढ़ें »

टेस्ट मैच में लागू होगा कोरोना सब्स्टीट्यूट, जल्द मिलेगी आईसीसी की मंजूरी

विश्व पर्यावरण दिवस विशेष : तीन दशक से पर्यावरण-जंगल की रक्षा कर रहे रामगढ़ के वीरू महतो

स्थिति ठीक होने पर ही टूर्नामेंट्स हो, आज यूएस ओपन होता है तो मैं नहीं खेलूंगा : नडाल

ट्रेडिंग के आखिरी के घंटों में गंवाया लाभ, निफ्टी 0.32% और सेंसेक्स 128.84 अंक नीचे हुआ बंद

आईडब्ल्यूएफ से मुआवजे की मांग करेंगी भारोत्तोलक संजीता चानू

दर्शकों के बिना कैसे होगा विश्व कप, उचित समय का इंतजार करे आईसीसी : अकरम

बंगाल में तूफान से भी तेज हुई कोरोना मामलों की गति, अब तक के सबसे अधिक आए मामले

पश्चिम बंगाल में बेरोजगारी की दर देश की तुलना में कम: सीएमआईई आंकड़े

एसबीआई ने 2019-20 की चौथी तिमाही में 3,581 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ दर्ज किया

ऊपर