देशभर में खिलाड़ियों की मदद के लिए जिलास्तर पर 1000 खेलो इंडिया क्रेंद्र खुलेंगे : खेल मंत्रालय

नयी दिल्ली : खेल मंत्रालय देश भर में खिलाड़ियों की मदद के लिये जिला स्तर पर 1000 खेलो इंडिया केंद्र (केआईसी) स्थापित करेगा। इन केंद्रों का संचालन या तो पूर्व चैंपियन या फिर कोई कोच करेगा। खेल मंत्री किरेन रीजीजू ने बयान में कहा, ‘जब हम भारत को खेल महाशक्ति बनाने का प्रयास कर रहे हैं तब यह सुनिश्चित करना जरूरी है कि खिलाड़ी के लिये खेल करियर का विकल्प बन जाए। ’

मान्यता प्राप्त राष्ट्रीय संघ के तहत हिस्सा लेने वालों को वरीयता

पूर्व चैंपियनों की पहचान करने के लिये एक व्यवस्था तैयार की गयी ताकि ये चैंपियन या तो खुद की अकादमी खोलकर उसे संचालित करें या फिर केआईसी में कोच के रूप में काम करें। पहली प्राथमिकता उन खिलाड़ियों को दी जाएगी जिन्होंने किसी मान्यता प्राप्त अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता में मान्यता प्राप्त राष्ट्रीय संघ के तहत हिस्सा लिया हो।

केआईसी में दिया जाएगा 14 खेलों का प्रशिक्षण

दूसरे वर्ग में सीनियर राष्ट्रीय चैंपयिनशिप या खेलो इंडिया खेलों के पदक विजेता होंगे। तीसरे वर्ग में राष्ट्रीय अखिल भारतीय विश्वविद्यालय खेलों में पदक जीतने वाले खिलाड़ियों को रखा जाएगा। चौथे वर्ग में सीनियर राष्ट्रीय चैंपियनशिप में राज्य का प्रतिनिधित्व करने वाले खिलाड़ी शामिल होंगे। केआईसी में 14 खेलों का प्रशिक्षण दिया जाएगा जिनमें तीरंदाजी, एथलेटिक्स, मुक्केबाजी, बैडमिंटन, साइकिलिंग, तलवारबाजी, हॉकी, जूडो, रोइंग, निशानेबाजी, तैराकी, टेबल टेनिस, भारोत्तोलन और कुश्ती शामिल हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बंगाल में तीसरे दिन भी कोरोना के 800 से ज्यादा मामले, 25 की हुई मौत

कोलकाता : वेस्ट बंगाल कोविड-19 हेल्थ बुलेटिन के अनुसार पश्चिम बंगाल में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के 850 नये मामले आये है आगे पढ़ें »

कोरोना की वजह से 9वीं-12वीं के पाठ्यक्रम 30 फीसदी घटे

नयी दिल्ली : कोविड-19 के बढ़ते मामलों के बीच स्कूलों के ना खुल पाने के कारण शिक्षा व्यवस्था पर असर और कक्षाओं के समय में आगे पढ़ें »

ऊपर