डोपिंग : थाईलैंड और मलेशिया के भारोत्तोलकों को टोक्यो ओलम्पिक में भाग लेने से प्रतिबंधित किया गया

पेरिस : थाईलैंड और मलेशिया के भारोत्तोलकों को डोपिंग उल्लंघनों के कारण 2020 टोक्यो ओलम्पिक में भाग लेने से प्रतिबंधित कर दिया गया है। इंडिपेंडेंट मेंबर फेडरेशंस सैंक्शंस पैनल ने शनिवार को यह घोषणा की। थाई एमेच्योर भारोत्तोलन संघ और मलेशिया भारोत्तोलन महासंघ को इसके साथ ही क्रमश: तीन साल और एक साल के लिए अंतर्राष्ट्रीय भारोत्तोलन महासंघ के सदस्य के रूप में निलंबित कर दिया गया है। पैनल ने कहा कि थाईलैंड-मलेशिया के भारोत्तोलकों पर टोक्यो ओलम्पिक में भाग लेने से लगा प्रतिबंध ओलम्पिक के कार्यक्रम में परिवर्तन के बावजूद बना रहेगा। टोक्यो ओलम्पिक को कोरोना वायरस के कारण 2021 तक के लिए स्थगित कर दिया गया है।
थाईलैंड के नौ भारोत्तोलक 2018 विश्व चैंपियनशिप में पॉजिटिव पाए गए थे जिसके बाद थाईलैंड ने खुद को टोक्यो ओलम्पिक सहित अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं से हटा लिया था। किसी भी थाई भारोत्तोलक ने खुद को निलंबित करने के बाद अंतर्राष्ट्रीय भारोत्तोलन महासंघ के ओलम्पिक क्वालिफिकेशन में हिस्सा नहीं लिया है।पैनल ने कहा कि प्रतिबंध कोरोना वायरस के कारण रद्द या स्थगित किये गए अंतर्राष्ट्रीय भारोत्तोलन महासंघ के टूर्नामेंटों की अवधि में शुरू नहीं होगा। पैनल ने कहा कि थाईलैंड पर लगा प्रतिबंध कम से कम सात मार्च 2022 तक जारी रहेगा और उस तारीख को या उसके बाद यह प्रतिबंध तभी हटाया जाएगा जब थाईलैंड निर्धारित मापदंडों को पूरा करेगा। मलेशिया पर उसके तीन भारोत्तोलकों को एक कैलेंडर वर्ष में डोपिंग के लिए दोषी पाए जाने के बाद प्रतिबंध लगाया गया है। यदि मलेशिया डोपिंग रोकने के लिए निर्धारित मापदंडों का पालन करता है तो उस पर लगा प्रतिबंध इस वर्ष चार अक्टूबर को हट सकता है। पैनल ने कहा कि दोनों महासंघों के पास खेल मध्यस्थता अदालत में अपील करने के लिए एक अप्रैल के बाद से 21 दिन का समय रहेगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बड़ी कामयाबी : होम्योपैथी दवा के हमले से ढेर हुआ कोराेना, 42 संक्रमित मरीज हुए स्वस्थ

नयी दिल्ली: देशभर में कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए कई तरह के उपाय किये जा रहे है। इस बीच जयपुर से बड़ी कामयाबी आगे पढ़ें »

इंसानियत हुई तार-तार : गर्भवती हथिनी के बाद अब गर्भवती गाय को खिलाया विस्फोटक, देशभर में मचा बवाल

नयी दिल्ली : देश में एक तरफ प्रकृति से खिलवाड़ की वजह से आए दिन जहां भूकंप, तूफान और कोरोना वायरस संक्रमण की मार आम आगे पढ़ें »

ऊपर