डे-नाइट टेस्ट के ऐतिहासिक फैसले पर बोले गांगुली- यह मेरा काम है, इसीलिये मैं यहां हूं

कोलकाताः बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली ने मंगलवार को कहा कि देश में पहला डे-नाइट टेस्ट कराने का ऐतिहासिक फैसला ‘सामान्य समझ’ के आधार पर किया गया है क्योंकि क्रिकेट के पारंपरिक प्रारूप के प्रति दर्शकों की रूचि फिर जगाने का यही तरीका है। गांगुली ने कहा कि उन्हें खुशी है कि भारतीय कप्तान विराट कोहली और बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड भी इतने कम समय में इसके लिये तैयार हो गया है। उन्होंने कहा,‘‘ यह मेरा काम है और मैं इसी के लिये यहां हूं। मैने लंबे समय तक खेला है। मेरा मानना है कि आम समझ महत्वपूर्ण है। यह टेस्ट क्रिकेट के लिये अच्छा होगा और उम्मीद है कि दर्शक मैदान पर आयेंगे।’’गांगुली ने कहा,‘‘ टेस्ट क्रिकेट को इसकी जरूरत है। मैं और सचिव जय और हमारी नयी टीम यह करना चाहती ही थी। विराट को भी धन्यवाद जो तुरंत तैयार हो गया। बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड का शुक्रिया जो इतने कम समय में इसके लिये तैयार हुआ।’’
उन्होंने कहा,‘‘ चीजें ऐसे ही बदलती है। यह उपमहाद्वीप में टेस्ट क्रिकेट के लिये अच्छी शुरुआत है। हमारे इरादे नेक हैं। इसमें कोई दिक्कत नहीं आनी चाहिये। सब कुछ ठीक ही होगा।’’ पूर्व कप्तान ने यह भी कहा कि बीसीसीआई डूक्स या कूकाबूरा की जगह एसजी टेस्ट गुलाबी गेंद का ही इस्तेमाल करेगा।

टेस्ट को सफल बनाने के लिए सीएबी कोई कसर नहीं छोड़ेगा: डालमिया
बंगाल क्रिकेट संघ (सीएबी) के सचिव अभिषेक डालमिया ने मंगलवार को कहा कि भारत के पहले दिन-रात्रि टेस्ट मैच को सफल बनाने के लिए वे कोई कसर नहीं छोड़ेंगे।भारतीय क्रिकेट टीम 22 से 26 नवंबर तक ईडन गार्डन में बांग्लादेश के खिलाफ अपना पहला दिन-रात्रि टेस्ट मैच खेलेगी। यह मुकाबला दो मैचों की सीरीज का दूसरा मैच होगा।
डालमिया ने कहा, ‘‘एक शब्द में कहूं तो हम खुश हैं। सभी क्रिकेट प्रेमियों के लिए भी यह एक बड़ी खुशखबरी है। ईडन में बहुत सारे इतिहास बने है। यह इसकी उपलब्धियों में एक और होगी।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ कैब यह सुनिश्चित करेगा कि इस आयोजन को सफल बनाने में कोई कसर नहीं छोडेगा। इस दौरान गणमान्य व्यक्तियों और विशिष्ट अतिथियों की उपस्थिति, सांस्कृतिक कार्यक्रम और पूर्व खिलाड़ियों का सम्मान इसे और भव्य बनायेगा।’’ डालमिया ने कहा, ‘‘हम आज से ही तैयारी शुरू कर देंगे ताकि इसे कार्निवल का रूप दे सके।’’

शेयर करें

मुख्य समाचार

Gay couple wants police protection

बारासात के समलैंगिक जोड़े को मिल रही परिवार से धमकी, पुलिस से लगाई सुरक्षा की गुहार

कोलकाता : भारत के उच्चतम न्यायालय ने पिछले वर्ष ही धारा 377 पर ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए कहा था कि समलैंगिकता अब अपराध नहीं है। आगे पढ़ें »

ram barat

अयोध्या से जनकपुर के लिए निकलेगी भव्य राम बारात, शामिल हो सकते हैं प्रधानमंत्री मोदी

अयोध्या : शीर्ष न्यायालय से राममंदिर के पक्ष में आए फैसले के बाद लोगों में काफी हर्ष और उल्लास है। वहीं विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) आगे पढ़ें »

ऊपर