टोक्यो ओलिंपिक में जोकोविच ने आपा खोया, गुस्से में नेट पर मारकर रैकेट तोड़ा

टोक्योः वर्ल्ड नंबर-1 टेनिस प्लेयर नोवाक जोकोविच का गोल्डन स्लैम जीतने का सपना तो अधूरा रह ही गया। इसके बाद वे ब्रॉन्ज मेडल के लिए हुआ मैच भी हार गए। अब वे टोक्यो से खाली हाथ अपने देश सर्बिया लौटेंगे। जोकोविच ने ओलिंपिक में सिर्फ एक मेडल जीता है। उन्होंने 2008 बीजिंग ओलिंपिक में ब्रॉन्ज मेडल जीता था।

जोकोविच ने स्पेन के पाब्लो कारेनो बुस्टा के खिलाफ शनिवार को हुए ब्रॉन्ज मेडल मैच में कई बार आपा खोया। उन्होंने कभी रैकेट को स्टैंड में फेंका, तो कभी रैकेट को नेट पर दे मारा। इससे उनका टेनिस रैकेट टूट भी गया। 24 घंटे के अंदर जोकोविच को 3 हार झेलनी पड़ी। शुक्रवार को उन्हें जर्मनी के एलेक्जेंडर ज्वेरेव के हाथों मेंस सिंगल्स के सेमीफाइनल में हार मिली थी। इसके बाद मिक्स्ड डबल्स के सेमीफाइनल में भी हार का सामना करना पड़ा।

पाब्लो बुस्टा ने ब्रॉन्ज मेडल मैच में हराया
पाब्लो बुस्टा ने जोकोविच को ब्रॉन्ज मेडल के मैच में 6-4, 7-6, 6-3 से हराया। जोकोविच के पास एक ही साल में चारों ग्रैंड स्लैम और ओलिंपिक में गोल्ड जीतने का मौका था। ऐसा करने को ही गोल्डन स्लैम कहते हैं। स्टेफी ग्राफ इस उपलब्धि को हासिल करने वाली इकलौती टेनिस प्लेयर हैं।

स्टेफी ने 1988 में ऐसा किया था। पुरुषों में गोल्डन स्लैम कोई नहीं जीत पाया। हालांकि राफेल नडाल और आंद्रे अगासी ने ऑस्ट्रेलिया ओपन, फ्रेंच ओपन, विम्बलडन और यूएस ओपन के अलावा ओलिंपिक में गोल्ड भी जीता है, लेकिन यह एक साल के अंदर नहीं था।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

खिलाड़ी हूं, खेलना मेरा जुनून है, जो मौका देगा उसका साथ दूंगा : बाबुल

बाेले, जिसने प्ले 11 में खेलने का मौका दिया वहां खड़ा हूं मेरे लिए ममता बनर्जी ही लोकप्रिय हैं सुकांत को भावी योजनाओं के लिए शुभकामनाएं सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता आगे पढ़ें »

ऊपर